CLASS 12 HINDI COMPULSORY RBSE ABHINAV SIR

कक्षा 12

अनिवार्य हिंदी

तैयारकर्ता- अभिनव सरोवा

 

                                         पाठ्यपुस्तक- पीयूष प्रवाह

 

रचना
का नाम- उसने कहा था।

 

रचनाकार- चंद्रधर शर्मा गुलेरी।

 

प्रश्न- पलटन का विदूषक किसे माना जाता था?

उत्तर-पलटन का विदूषक वजीरा सिंह को माना जाता
था। क्योंकि वह विदूषक की तरह सबका मनोरंजन करता और हँसाता रहता था।

प्रश्न- उसने कहा था कहानी की पृष्ठभूमि में
किस युद्ध का वातावरण है?

उत्तर- उसने कहा था कहानी की पृष्ठभूमि में
प्रथम विश्वयुद्ध जो 1914 ई. से 1918 के मध्य हुआ था का वातावरण चित्रित है।

प्रश्न- 
उसने कहा था कहानी के आधार पर सूबेदारनी के चरित्र की दो विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर- सूबेदारनी के चरित्र की विशेषताएं
निम्न हैं- विवेक सम्पन्न नारी और पति और पुत्र की सदैव मंगलकामना करने वाली आदर
पत्नी और महान माँ।

प्रश्न- उसने कहा था कहानी की शीर्षक पर
टिप्पणी लिखिए।

उत्तर- किसी भी रचना का शीर्षक पाठक को अपनी
तरफ आकर्षित करता है। पाठक सबसे पहले शीर्षक ही पढ़ता है और शीर्षक पढ़ते ही उसकी मन
में रचना को पढ़ने की रूचि जागृति होती है। अतः किसी भी रचना का शीर्षक संक्षिप्त,
आकर्षक, जिज्ञासात्मक और सार्थक होना चाहिए। उसने कहा था कहानी का शीर्षक इन सभी
गुणों पर खरा उतरता है। इस शीर्षक को पढ़ते ही पाठक के मन में सवाल आता है कि किसने
कहा था, किससे कहा था, क्या कहा था, क्यों कहा था, कब कहा था, इन सवालों के जवाब
पाने के लिए पाठक इस कहानी को पढ़ जाता  है।
इससे कहानी के शीर्षक की  सार्थकता बनी
रहती है। हम कह सकते हैं कि कहानी का शीर्षक एकदम उपयुक्त है।

 

प्रश्न- बिना फेरे घोड़ा बिगड़ता है और बिना लड़े
सिपाही। इस कथन की युक्ति-युक्त विवेचना कीजिए।

उत्तर- यह कथन सिपाही और घोड़े के संबंध में
सर्वथा उचित है। क्योंकि घोड़े को चलाने पर और सिपाही के न लड़ने पर उन दोनों में
नीरसता, सुस्ती और अलस्यपन आ जाता है। अतः घोड़े का चलना और सिपाही का लड़ना उनकी
शक्ति और उनके पराक्रम का बोधक माना जाता है। उपयुक्त पंक्तियों से स्पष्ट होता है
कि लेखक को लोक की गहरी अनुभूति है।

प्रश्न- उसने कहा था कहानी की मूल संवेदना
क्या है?

उत्तर- उसने कहा था एक मार्मिक कहानी है।
जिसका कथानक प्रेम, त्याग और कर्तव्यनिष्ठा को केंद्र में रखकर बुना गया है।
लहनासिंह बचपन के प्रेम के लिए अपना जीवन त्याग देता है। 25 वर्ष बाद सूबेदारनी जब
लहनासिंह से मिलती है तब अपने पति और पुत्र की रक्षा की भीख माँगती है। लहनासिंह
अपने वचन का निर्वाह करते हुए प्रेम और देश के लिए अपने प्राण त्याग देता है।

प्रश्न- सुनते ही लहना को दुःख हुआ क्रोध आया
उस पर लहनासिंह की यह प्रतिक्रिया क्यों हुई?

उत्तर- जब लहनासिंह द्वारा पूछे जाने पर
बालिका ने उत्तर दिया कि मेरी कुड़माई कल हो गई है तो उसके प्रेम को ठेस लगने से
उसे दुःख होता है। इस तरह मन में पनपे प्रेम के अचानक टूट जाने पर क्रोध भी आता
है। यह मनोवैज्ञानिक सत्य है कि इच्छा के अनुसार कार्य न होने पर मनुष्य का स्वभाव
चिड़चिड़ा और क्रोधयुक्त हो जाता है।

 

प्रश्न- उसने कहा था कहानी से हमें क्या
प्रेरणा मिलती है?

उत्तर- उसने कहा था कहानी से हमें कुछ प्रेरक
संदेश मिलते हैं जो निम्न हैं-

आदर्श प्रेम का निर्वहन- लड़का लहनासिंह लड़की
होरां का बचपन का मिलन, लड़के की हृदय में उसकी प्रति आकर्षण जगा देता है। यह घटना
पूर्व स्मृति का काम करती है और 25 वर्ष पश्चात वह लड़की को दिए गए वचन का पालन
करते हुए उसके पति और पुत्र की रक्षा करता है और खुद अपने प्राण त्याग देता है।
इससे हमें आदर्श प्रेम के निर्वहन की प्रेरणा मिलती है।

·       वचन
पालन की प्रेरणा–  लहनासिंह ने सूबेदारनी
को उसके पति और पुत्र की रक्षा का वचन दिया था। वह अपने प्राण देकर उन दोनों की
रक्षा करता है।

·       कर्तव्य-निष्ठा
की प्रेरणा– प्रस्तुत कहानी में कर्तव्य-निष्ठा की प्रेरणा भी दी गई है। सूबेदार
की अनुपस्थिति में एक शत्रु लपटन साहब बनकर आता है तब लहना सिंह अपनी तुरंत बुद्धि
से उसकी पहचान करता है तथा खुद के और अपने साथियों के प्राण बचाता है। त्याग करने
की प्रेरणा- लहनासिंह अपने आदर्श प्रेम और देश के लिए निस्वार्थ भाव से अपने
प्राणों का त्याग कर देता है। इसी हमें त्याग की प्रेरणा मिलती है।

 

प्रश्न- मृत्यु के कुछ समय पहले स्मृति बहुत
साफ हो जाती है। उसने कहा था करने के आधार पर लेखक के इस कथन की सत्यता उदाहरण
सहित सिद्ध कीजिए।

उत्तर- उसने कहा था कहानी का नायक लहनासिंह जब
घायल होकर मरणासन्न स्थिति में बड़बड़ाने लगता है। उस समय उसे अपनी किशोरावस्था से
लेकर अब तक की सभी घटनाएँ स्मृत्ति में आ जाती हैं। अमृतसर के बाजार में उसकी लड़की
से कैसे भेंट हुई जो बाद में सूबेदार हजारासिंह की पत्नी बनी। पुनः मिलने पर उसी
ने उससे अपने पुत्र और पति की रक्षा का वचन माँगा। जिसका उसने पालन किया। इसके साथ
ही मरणासन्न स्थिति में वह अपने भतीजे कीरत सिंह के साथ हुई बातचीत का भी स्मरण
करता है। इस प्रकार का घटनाक्रम चित्रित कर कहानीकार ने यह सिद्ध किया है कि
मरणासन्न व्यक्ति के अवचेतन मन में पूर्व की स्मृति स्पष्ट उभर आती है।

 

पाठ- सत्य के प्रयोग (आत्मकथा अंश)

 

लेखक- मोहनदास करमचंद गाँधी।

 

प्रश्न- गोखले ने गाँधीजी को क्या प्रतिज्ञा
कराई?

उत्तर- गोखले ने गाँधीजी से प्रतिज्ञा करवाई
थी कि उन्हें एक वर्ष तक देश में भ्रमण करना है। किसी सार्वजनिक प्रश्न पर अपना
विचार न तो बनाना है और न ही प्रकट करना है। गाँधीजी ने प्रतिज्ञा का पूर्ण रुप से
पालन किया।

प्रश्न- सभ्य दिखने के लिए गाँधीजी ने
क्या-क्या कार्य किए?

उत्तर- गाँधीजी ने सभ्यता सीखने के लिए महँगी
पोशाकें सिलाई। कीमती ‘चिमनी‘ टोपी पहनना आरंभ किया। भाइयों से सोने की चौन
मँगवाई। टाई बाँधना सिखा, बालों में पट्टी डालना और सीधी मांग निकालना सीखा नाचना
और वाद्य यंत्र सीखना शुरू किया था और लच्छेदार भाषण देना भी सीखना शुरू किया।

प्रश्न- गाँधीजी के अनुसार आत्मा के विकास का
क्या अर्थ है?

उत्तर- गाँधीजी के अनुसार आत्मा के विकास का
अर्थ है- स्वयं के चरित्र निर्माण करना, ईश्वर का ज्ञान पाना एवं आत्मज्ञान
प्राप्त करना। इसमें बच्चों को सहायता की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस होती है।

 

प्रश्न- बालकों को आत्मिक शिक्षा देने के
संबंध में गाँधीजी ने क्या अनुभव किया?

उत्तर- बालकों को आत्मिक शिक्षा देने के संबंध
में गाँधीजी ने अनुभव किया कि आत्मिक शिक्षा का ज्ञान पुस्तकों द्वारा नहीं दिया
जा सकता। शरीर की शिक्षा जिस प्रकार शारीरिक कसरत द्वारा दी जाती है। बुद्धि की
बौद्धिक कसरत द्वारा ठीक उसी प्रकार आत्मा की शिक्षा आत्मा की कसरत द्वारा दी जा
सकती है। आत्मा की कसरत शिक्षक के आचरण द्वारा ही प्राप्त की जा सकती है।

 

प्रश्न- बेल साहब द्वारा गाँधीजी के कानों में
घंटी बजाने से क्या तात्पर्य है? और गाँधी पर इसका क्या प्रभाव पड़ा?

उत्तर- 
गाँधीजी इससे जागे और उन्हें अनुभूति हुई कि मुझे इंग्लैंड में कौनसा जीवन
बिताना है? लच्छेदार भाषण सीखकर मैं क्या करूँगा? नाच-नाचकर मैं सभ्य कैसे बनूँगा?
वायलिन तो देश में भी सीखा जा सकता है। मैं तो विद्यार्थी हूँ। मुझे विद्याधन
बढ़ाना चाहिए। मुझे अपने पेशे से संबंध रखने वाली तैयारी करनी चाहिए। मैं अपने
सदाचार से सभ्य समझा जाऊँ तो ठीक है नहीं तो हमें यह सब छोड़ना चाहिए।

 

प्रश्न- चरखे के प्रयोग के प्रति गाँधीजी की
क्या अवधारणा थी?

उत्तर- चरखे के प्रयोग के प्रति गाँधीजी की
अवधारणा थी कि इसके प्रयोग से हिंदुस्तान की भुखमरी मिटेगी। स्वावलंबन एवं स्वदेशी
की महत्ता उजागर होने के साथ ही स्वराज्य भी मिलेगा।

 

प्रश्न- सत्य के मेरे प्रयोग आत्मकथा अंश के
आधार पर गाँधीजी के चरित्र की विशेषताएं लिखिए।

उत्तर- इस अंश को पढ़ने से गाँधीजी के चरित्र
की कुछ विशेषताएँ दृष्टिगत होती हैं। इनमें से प्रमुख विशेषताएँ निम्न हैं-

अन्नाहार के प्रति श्रद्धा- गाँधीजी इंग्लैंड
में माँसाहार की उपयोगिता समझते हुए भी अपनी प्रतिज्ञा पर डटे रहे और उन्होंने
अन्नाहार पर ही बल दिया।

सभ्य बनने की धुन- सभ्य बनने के चक्कर में
गाँधी ने कई चीजें सीखना शुरू किया था।

पक्षपात और अन्याय के विरोधी- दक्षिण अफ्रीका
में एशियाई अधिकारियों द्वारा भारतीय लोगों के साथ किए जा रहे अन्याय का
विरोध  किया था। इससे साबित होता है कि
गाँधीजी पक्षपात और अन्याय के विरोधी थे।

·       दृढ़
निश्चयी- गाँधीजी दृढ़ निश्चयी थे। गोखले द्वारा प्रतिज्ञा करवाने के बाद गाँधी ने
देशभर का भ्रमण किया और खादी विकास के बल दिया। खादी के विकास के लिए चरखे का
प्रयोग किया।

·       आत्म
निर्माण की भावना- गाँधीजी शरीर और मन को शिक्षित करने की अपेक्षा आत्मा को
शिक्षित करने पर अधिक बल देते थे।

·       स्वदेश
की भावना- गाँधीजी विदेशी वस्तुओं की बजाय स्वदेशी वस्तुओं को अपनाने पर बल देते
थे।

·       स्वावलंबन
की भावना- गाँधीजी के अनुसार मनुष्य को अपना काम खुद करना चाहिए। इससे स्वावलंबन
की भावना को बल मिलता है।

 

पाठ- गौरा (रेखाचित्र)

 

लेखिका- महादेवी वर्मा।

 

प्रश्न- गौरा के पुत्र का क्या नाम रखा गया
था?

उत्तर- गौरा के पुत्र का नाम लालमणि रखा गया
क्योंकि वह अपने लाल रंग के कारण गेरू के पुतले जैसा जान पड़ता था।

प्रश्न- गौरा का महादेवी के घर में किस तरह
स्वागत किया गया?

उत्तर- गाय का महादेवी के घर पहुँचते ही उसके
स्वागत में उसे लाल-सफेद गुलाब की माला पहनाई गई, केसर और रोली का टीका लगाया गया।
घी  का चौमुखा दीया जलाकर उसकी आरती उतारी
गई। उसे दही पेड़ा खिलाया गया और उसका नामकरण हुआ गौरंगिनी या गौरा।

 

प्रश्न- गौरा को मृत्यु से बचाने के लिए
महादेवी ने क्या क्या प्रयास किए?

उत्तर- गौरा को मृत्यु से बचाने के लिए लेखिका
ने एक नहीं अनेक पशु चिकित्सकों को यहाँ तक कि लखनऊ और कानपुर तक के पशु
विशेषज्ञों को बुलाया। उनके कहे अनुसार एक्सरे करवाए गए। इंजेक्शन लगवाए गए। सेब
का रस पिलाया गया तथा बताए अनुसार दवाइयाँ दी गई। लेकिन अंत तक गौरा को कोई लाभ
नहीं हुआ। गौरा के ऐसे दर्द को देखकर लेखिका की मानवीय संवेदना तड़प उठी थी।

 

प्रश्न- महात्मा गाँधी के ‘गाय करुणा की कविता
है‘ इस कथन में निहित भाव को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- गाय की आँखों में अपने पालक के प्रति
विश्वास होता है। वह पालक के प्रति अपनी हानि की आशंका नहीं रखती और न उसे विश्वास
होता है कि हमारा पालक ही हमारी हानि या हत्या कर रहा है। कथन का भाव यह है कि जो
गाय मनुष्य जाति पर इतना विश्वास करती है तो बदले में मनुष्य को गौ हत्या बंद कर
देनी चाहिए।

 

प्रश्न- अंत में एक ऐसा निर्मम सत्य उद्घाटित
हुआ, जिसकी कल्पना मेरे लिए संभव नहीं थी। लेखिका किस निर्मम सत्य की बात कर रही
है?

उत्तर- जब लेखिका को डॉक्टर द्वारा बताया गया
कि गाय को सुई खिला दी गई है जो गाय के हृदय तक पहुँच गई है। जब लेखिका को पता चला
कि यह सुई और किसी के द्वारा नहीं बल्कि गाय का दूध निकालने वाले ग्वाले के द्वारा
खिलाई गई है तो उन्हें यह बहुत ही निर्मम कृत्य लगा। इसी कारण उन्होंने कहा कि ऐसे
सत्य की कल्पना मेरे लिए संभव नहीं थी।

 

प्रश्न- लेखिका की आँखों में क्या सोच कर आँसू
आ जाते थे?

उत्तर- जब गौरा ग्वाले की निर्मम करतूत के
कारण बीमार हो गई और अब उसकी मृत्यु निश्चित हो गई तो महादेवी यह सोचकर दुःखी हो
जाती थी कि इतनी हष्ट-पुष्ट, सुंदर और दूध देने वाली गाय, अपने प्यारे से बछड़े को
छोड़कर किसी भी क्षण निर्जीव हो जाएगी। यही सोचकर उनकी आँखों में आँसू आ जाते थे।

 

प्रश्न- अब मेरी एक ही इच्छा थी। महादेवी की
क्या इच्छा थी?

उत्तर- गौरा को मृत्यु के निकट जानकर महादेवी
ने सोचा कि अंतिम समय में भी गौरा के पास रहे। वह रात-दिन कई-कई बार उसे देखने
जाती थी। अंत में एक दिन ब्रह्ममुहूर्त में जब महादेवी उसे देखने गई तो उसने सदा
की तरह अपना सिर उठाकर महादेवी के कंधे पर रखा और उसी समय उसके प्राण पखेरू उड़ गए।

 

प्रश्न- गौरा वास्तव में बहुत प्रियदर्शन थी।
कथन के आधार पर कोई गौरा के बाह्य सौंदर्य की विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर- प्रियदर्शन गौरा का रूप सौंदर्य अनेक
विशेषताओं से मंडित था। उसकी काली बिल्लौरी आँखों का तरल सौंदर्य देखने वाले की
दृष्टि को निश्चल कर देता था। उसके चौड़े और उज्ज्वल माथे और लंबे तथा साँचे में
ढले हुए मुख पर आँखें बर्फ में नीले जल के कुंडों के समान प्रतीत होती थीं। उसके
पैर पुष्ट एवं लचीले थे। पुट्ठे भरे हुए तथा चिकनी भरी हुई पीठ, लंबी सुडौल गर्दन,
निकलते हुए छोटे-छोटे सींग, भीतर की लालिमा की झलक देते हुए कमल की अधखुली
पंखुड़ियों जैसे कान, लंबी और अंतिम छोर तक काले सघन चमर का स्मरण दिलाने वाली पूँछ
सब कुछ साँचे में ढला हुआ था। मानो इटालियन मार्बल में गाय का स्वरूप तराशकर उसे
गौरा पर ओप दिया गया हो। इस प्रकार गौरा का बाह्य सौंदर्य अतीव आकर्षक था।

प्रश्न- ‘आह मेरा गोपालक देश!‘ पंक्ति में
निहित वेदना का चित्रण कीजिए।

उत्तर- गौरा महादेवी की अत्यंत प्रिय थी। जब
गौरा का मृत शरीर गंगा में समर्पित करने ले जाया गया तो उस समय लेखिका का हृदय
करुणा और वेदना से अत्यधिक व्यथित हो रहा था परंतु गौरा का बछड़ा उसी करुणाजनक
दृश्य को भी एक खेल समझकर उछल-कूद रहा था। उस समय लेखिका ने अपनी पीड़ा को व्यक्त करते
हुए ऐसा कहा कि गाय को हमारे देश में माता के समान माना जाता है और भारतवासी स्वयं
को गोपालक भी कहते हैं। यह गाय के साथ क्रूर मजाक है, पाखंड मात्र है। क्योंकि कुछ
स्वार्थी लोग ऐसे उपयोगी पशु से भी ईर्ष्या रखकर स्वार्थ पूर्ति की दृष्टि से उसके
साथ ऐसा क्रूर आचरण करते हैं जो निंदनीय है यह कहाँ का कैसा गोपालक देश है?

[wptelegram-widget num_messages=”5″ width=”100%” author_photo=”always_hide”]

पाठ- राजस्थान के गौरव(जीवन चरित)

 

प्रश्न- संप सभा की स्थापना किसने की थी?

उत्तर- पूज्य गोविंद गुरु ने संप सभा की
स्थापना की थी।

प्रश्न- देवनारायण को किसका अवतार माना जाता
है?

उत्तर- देवनारायण को भगवान विष्णु का अवतार
माना जाता है।

प्रश्न- ‘सिर साँटे रूंख तो भी सस्ता जाण‘
पंक्ति का अर्थ क्या है?

उत्तर- सिर कटने पर भी पेड़ बच जाए तो इसे
सस्ता ही समझना चाहिए।

प्रश्न- 
सूरजमल कहाँ के राजा थे?

उत्तर- सूरजमल भरतपुर राज्य के राजा थे।

प्रश्न- संत जंभेश्वर को दिव्य ज्ञान कहाँ
प्राप्त हुआ?

उत्तर- संत जंभेश्वर को समराथल धोरां में
दिव्य ज्ञान की प्राप्ति हुई।

 

प्रश्न- जम्मा-जागरण आंदोलन के उद्देश्य को
स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- जम्मा जागरण आंदोलन बाबा रामदेव द्वारा
चलाया गया था। इसका उद्देश्य दलितों के साथ संपर्क बढ़ाकर उन्हें जाग्रत कर
अच्छाइयों की ओर मोड़ना था। जम्मा जागरण का यह पुनीत कार्य मेघवाल जाति के द्वारा
ही किया जाता था। बाबा रामदेव मेघवाल जाति में चेतना जाग्रत करना चाहते थे।

 

प्रश्न- महाराजा सूरजमल की राष्ट्रीय भावना से
संबंधित किसी एक घटना का वर्णन कीजिए।

उत्तर- महाराजा सूरजमल वीर और साहसी योद्धा
थे। उन्होंने मुगल बादशाहों से युद्ध ही नहीं किया बल्कि उन्हें वीर शिवाजी की तरह
परास्त भी किया। इसी क्रम में उन्होंने रात के अंधेरे में सलावत खान की छावनी पर
सिंह-झपट्टा मारकर उसे आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया और उन्होंने उससे जो
शर्तें थे कि वे उनकी राष्ट्र भावना से संबंधित थी। जो निम्न हैं- मुगल सेना पीपल
के वृक्ष नहीं काटेगी और मंदिरों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

 

प्रश्न- खेजड़ली गाँव की अमृता देवी का बलिदान
किस कारण हुआ था? लिखिए

उत्तर- खेजड़ली गाँव की अमृता देवी का बलिदान
प्रकृति एवं पर्यावरण-संरक्षण की दृष्टि से खेजड़ी के पेड़ों की कटाई रोकने के कारण
हुआ था। क्योंकि राजा के सैनिक इस गाँव से खेजड़ी के पेड़ काटने आए थे। अमृता बाई ने
उन्हें पेड़ काटने से रोका। परिणामस्वरूप एक पेड़ से चिपकी अमृता देवी को सैनिकों ने
काट दिया। इस प्रकार पेड़ों की रक्षा करने के लिए अमृता देवी से प्रेरित होकर उनकी
तीन पुत्रियाँ और पति के साथ ही 363 लोगों ने अपना बलिदान दिया था। पेड़ों के लिए
इतने लोगों का एक साथ बलिदान अपने आप में अद्वितीय उदाहरण है।

 

प्रश्न- मानगढ़ का विशाल पहाड़ किस दिव्य-बलिदान
का साक्षी है? विस्तार से लिखिए।

उत्तर- भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास
में राजस्थान की धरती पर गोविंद गुरु ने विदेशी अंग्रेज सरकार के साथ ही
सामंत-जागीरदारों का भी विरोध किया था। इस हेतु मानगढ़ के विशाल पहाड़ पर वनवासियों
का एक विशाल सम्मेलन आयोजित किया। इससे स्थानीय सामंतों और जमीदारों को बहुत कुढ़न
हुई। इस सम्मेलन में लाखों लोग आए थे। देशद्रोहियों ने ब्रिटिश सरकार के कान भरे
हर कर्नल शटल ने वहाँ जलियाँवाला बाग से भी वीभत्स हत्याकांड करवा डाला था। जिसमें
1500 से ज्यादा लोग मारे गए थे। मानगढ़ का विशाल पहाड़ इसी दिव्य बलिदान का साक्षी
है। यह बलिदान आज भी वनवासियों के गीतों और कथाओं में रचा-बसा है।

 

प्रश्न- जंभेश्वर की अनुयायी कौन हैं?

उत्तर- जंभेश्वर के अनुयायी विश्नोई लोग हैं।
आज भी इन विश्नोईयों के गाँव में प्रकृति एवं पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से न तो
पेड़ काटे जाते हैं और न ही हरिण मारे जाते हैं। आज भी उनकी स्मृति में प्रतिवर्ष
मेला लगता है हजारों लोग आते हैं। उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं तथा
प्रकृति एवं पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लेते हैं।

 

पाठ्यपुस्तक- संवादसेतु

 

इस पुस्तक में से 5 कुल 5 प्रश्न पूछे जाएँगे
जिनका अंकभार 12 होगा।  इनमें तीन प्रश्न
दो-दो अंक के तथा दो प्रश्न तीन-तीन अंकों के होंगे।

 

अध्याय- 
समाचार लेखन

 

प्रश्न- समाचार लेखन के छह ककारों का उपयोग
बताइए।

उत्तर- समाचार लेखन से पूर्व मुख्य रूप से 6
प्रश्नों के उत्तर देने की कोशिश की जाती है। यह 6 प्रश्नोत्तर ही छह ककार कहलाते
हैं। क्या, कौन या किसने, कहाँ, कब, क्यों और कैसे। समाचार लेखन में सर्वप्रथम
क्या, कौन, कब व कहाँ ककार के आधार पर समाचार लिखा जाता है। शेष दो ककारों क्यों
और कैसे के आधार पर समाचार के विश्लेषण, विवरण व व्याख्या पर जोर दिया जाता है।

 

प्रश्न- समाचार लेखन की उलटा पिरामिड शैली का
स्वरूप बताइए।

उत्तर- समाचार पत्रों के लिए समाचार लेखन में
आमतौर पर उलटा पिरामिड शैली अपनाई जाती है। इसमें महत्त्वपूर्ण घटना का उल्लेख
पहले किया जाता है एवं कम महत्त्व की घटनाओं को समाचार के रूप में घटते क्रम में
लिखा जाता है। इसमें इंट्रो, बॉडी और समापन के क्रम में घटित घटनाओं को लिखा जाता
है। इस प्रकार समाचार तीन भागों में रखा जाता है। इंट्रो, बॉडी और समापन के क्रम
से लिखने के कारण ही इसे उलटा पिरामिड शैली कहते हैं।

 

प्रश्न- रेडियो के लिए समाचार लेखन में किन
बातों का ध्यान रखना चाहिए?

उत्तर- रेडियो समाचार लेखन में दो बुनियादी
बातों का ध्यान रखना जरूरी है-

1 समाचार साफ-सुथरी और टाइप कॉपी में हो।

2 डेडलाइन, संदर्भ और संक्षिप्ताक्षर स्पष्ट
अंकित हो ताकि समाचार वाचक को कोई दिक्कत न हो। समाचार लेखन के आरंभ में बोलचाल की
तिथि-वार आदि का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। संक्षिप्ताक्षर अति प्रचलित रूप में
होने चाहिए।

 

प्रश्न- समाचार लेखन में मुद्रित माध्यम का
महत्त्व स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- संचार माध्यमों में मुद्रित या प्रिंट
मीडिया सबसे पुराना है। भारत में ईसाई मिशनरियों ने धर्म प्रचार की पुस्तकें छापने
के लिए छापेखाने खोले थे। मुद्रण कला का प्रसार होते ही समाचार पत्रों का प्रकाशन
होने लगा स्थायित्व, प्रसार, विचार-विश्लेषण तथा सूचना संप्रेषण की दृष्टि से
मुद्रित माध्यम का विशेष महत्त्व है। मुद्रित माध्यम का सबसे बड़ा गुण ये है कि
जरूरत पड़ने पर पुराने अखबार आदि से समाचार देखे जा सकते हैं। वर्तमान में इसे जनता
की आवाज माना जाता है।

 

प्रश्न- फिल्म पटकथा लेखन के स्वरूप को
समझाइए।

उत्तर- टीवी धारावाहिक, फिल्म और थिएटर में
पटकथा का विशेष महत्त्व है। इसमें पहले कहानी लिखी जाती है शूटिंग के अनुसार फिर
संवाद लिखे जाते हैं। पटकथा से स्क्रीनप्ले का ढाँचा तैयार होता है। फिल्म पटकथा
लेखन के लिए अच्छे लेखक की जरूरत होती है। उसमें भाषा तथा डायलॉग पर विशेष ध्यान
दिया जाता है। स्क्रिप्ट या पटकथा जितनी अच्छी होगी फिल्म उतनी ही श्रेष्ठ हो
रहेगी।

 

प्रश्न- इंटरनेट के स्वरूप एवं उपयोग का महत्व
बताइए।

उत्तर- इंटरनेट अंतर्कि्रयात्मकता और विश्व के
करोड़ों कंप्यूटरों को जोड़ने वाला ऐसा संजाल है जो केवल एक टूल अर्थात उपकरण से
सूचनाओं के विशाल भंडार का माध्यम है। यह सूचना, मनोरंजन, ज्ञान, व्यक्तिगत एवं
सार्वजनिक संबंधों के आदान-प्रदान का त्वरित माध्यम है। इंटरनेट की उपयोगिता यह है
कि इससे एक सेकंड में लगभग सत्तर हजार शब्द एक जगह से दूसरी जगह भेज सकते हैं। अब
4जी से इसकी गति तकरीबन दस गुना बढ़ गई है।

 

अध्याय- विविध प्रकार के लेखन फीचर,
संपादकीय, संपादक के नाम पत्र एवं प्रतिक्रिया लेखन

 

प्रश्न- संपादकीय क्या है?

उत्तर- किसी भी समाचार पत्र का अत्यंत
महत्त्वपूर्ण भाग संपादकीय ही होता है। यह किसी ज्वलंत मुद्दे या घटना पर
समाचार-पत्र के दृष्टिकोण एवं विचार को व्यक्त करता है। संपादकीय संक्षेप में
तथ्यों और विचारों की तर्कसंगत एवं सुरुचिपूर्ण प्रस्तुति होता है।

 

प्रश्न- फीचर किसे कहते हैं?

उत्तर- 
किसी रोचक विषय का मनोरम और विशद प्रस्तुतीकरण ही फीचर कहलाता है। यह एक
सुव्यवस्थित, सृजनात्मक और आत्मनिष्ठ लेखन होता है। इसमें भाव और भाषा की मिश्रित
लेखन-शैली अपनाई जाती है जो कि मानवीय भावनाओं और उनकी अभिरुचि को मनोरंजक ढंग से
प्रस्तुत करती है। इसका लक्ष्य पाठकों को सूचना देना, शिक्षित करना एवं उनका
मनोरंजन करना होता है।

 

प्रश्न- लेख एवं फीचर की शैली में क्या अंतर
है?

उत्तर- लेख एवं फीचर की शैली में मुख्य अंतर
निम्न हैं-

1.     लेख
गहन अध्ययन पर आधारित एक प्रामाणिक लेखन है जबकि फीचर पाठकों की रूचि के अनुरूप
किसी घटना या विषय की तथ्यपूर्ण रोचक प्रस्तुति।

2.     लेख
दिमाग को प्रभावित करता है जबकि फीचर दिल को।

3.     लेख
एक गंभीर और उच्च स्तरीय गद्य रचना है जबकि फीचर एक गद्य-गीत की तरह संवेदनाएं
जाग्रत करता है।

4.     लेख
किसी घटना या विषय के सभी आयामों को स्पर्श करता है जबकि फीचर कुछ ही आयामों को।

5.     लेख
में तथ्यों को वस्तुनिष्ठ तरीके से प्रस्तुत किया जाता है जबकि फीचर में लेखक को
अपना दृष्टिकोण व्यक्त करने की छूट रहती है।

 

प्रश्न- समाचार और फीचर में प्रमुख अंतर क्या
है?

उत्तर- समाचार दैनिक एवं तात्कालिक घटित
घटनाओं, सूचनाओं और विषयों पर आधारित होते हैं। उनका लेखन उल्टा पिरामिड शैली में
तथा 6 का ककारों के आधार पर होता है। इसके विपरीत फीचर आलेख जैसा होता है जिसमें
दैनिक समाचार, सामयिक विषय एवं पाठकों की रुचि वाले विषयों की चर्चा मनोरंजनपूर्वक
होती है। समाचार लेखन में संक्षिप्तता का ध्यान रखा जाता है जबकि फीचर लेखन में
विषय वस्तु को विस्तार से लिखा जाता है।

 

प्रश्न- प्रतिक्रिया लेखन क्या है? स्पष्ट
कीजिए।

उत्तर- किसी खास अवसर पर तथा किसी चर्चित
मुद्दे को लेकर या तो मीडिया द्वारा संबंधित पक्षों से प्रतिक्रिया आमंत्रित की
जाती है अथवा किसी प्रमुख मामले में व्यक्ति विशेष या पदाधिकारी को अपनी राय देते
हैं उनकी बात जो प्रतिक्रिया रूप में छपती है उसे ही प्रतिक्रिया लेखन कहा जाता
है।


अध्याय- साक्षात्कार लेने की कला

 

प्रश्न- साक्षात्कार किसे कहते हैं?

उत्तर- किसी भी क्षेत्र में चर्चित एवं
विशिष्ट उपलब्धि प्राप्त करने वाले व्यक्ति के संपूर्ण व्यक्तित्व एवं कृतित्व की
जानकारी जिस विधि के द्वारा प्राप्त की जाती है उसे ही साक्षात्कार कहते हैं।
मुद्रित माध्यम एवं रेडियो-टीवी में प्रकाशित एवं प्रसारित होने वाली भेंटवार्ता
को भी साक्षात्कार कहते हैं।

 

प्रश्न- साक्षात्कार कितने प्रकार के होते
हैं?

उत्तर- साक्षात्कार मुख्य रूप से दो प्रकार के
होते हैं-

1 विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं या नौकरियों हेतु
आयोजित साक्षात्कार।

2 रेडियो-टीवी में समाचार पत्र हेतु रिपोर्टर
या संपादक द्वारा लिए जाने वाले साक्षात्कार।

 

प्रश्न- साक्षात्कार के संबंध में कन्हैयालाल
मिश्र ‘प्रभाकर‘ का क्या कथन है?

उत्तर- पत्रकारिता के क्षेत्र में साक्षात्कार
दिए जाते हैं। उनके संबंध में मिश्र जी का कथन है कि मैंने इंटरव्यू के लिए वर्षों
पहले एक शब्द रचा था- अंतर्व्यूह। मेरा भाव यह है कि इंटरव्यू के द्वारा हम सामने
वाले के अंर्त में एक व्यूह रचना करते हैं मतलब यह कि दूसरा उसे बचा न सके, जो हम
उससे पाना चाहते हैं। यह एक तरह का युद्ध है और इंटरव्यू हमारी रणनीति व्यूह रचना
है।

 

प्रश्न- एक पत्रकार होने के नाते आप अखबार या
टीवी दोनों में से किसके लिए साक्षात्कार करना चाहेंगे और क्यों?

उत्तर- एक पत्रकार होने के नाते हम टीवी के
लिए साक्षात्कार लेना पसंद करेंगे क्योंकि टीवी में साक्षात्कार का प्रसारण होता
है। उसमें जिसका साक्षात्कार लिया जा रहा है उसका तथा साक्षात्कार करने वाले का भी
फोटो सामने आ जाता है। उसमें चेहरे के हाव-भाव भी व्यक्त होते हैं। टीवी पर
साक्षात्कार अनेक चौनलों से एक साथ या दो-तीन दिन तक लगातार प्रसारित होने से नाम
और यश भी मिलता है। व्यक्तित्व का प्रकाशन भी होता है और इसमें आत्मविश्वास भी
बढ़ता है।

 

 

अध्याय- विविध क्षेत्रों में पत्रकारिता

 

प्रश्न- खेल पत्रकारिता पर एक टिप्पणी लिखिए।

उत्तर- आधुनिक युग में खेलों के प्रति पाठकों
की रुचि बढ़ी है। पाठकों की जानकारी के लिए समाचार पत्रों में खेल समाचारों के अलग
से पृष्ठ तय रहते हैं। खेल समाचारों की रिपोर्टिंग करने में अनुभव एवं तकनीकी
बातों की जरूरत होती है। प्रत्येक खेल के अलग-अलग नियम होते हैं। उनके अलग-अलग
संगठन होते हैं तथा उनके नियम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदलते रहते हैं। इन सबकी जानकारी
खेल रिपोर्टर को होनी चाहिए। खेल पत्रकार में अनेक गुणों एवं विशेषज्ञताओं की
अपेक्षा की जाती है।

 

प्रश्न- व्यापारिक पृष्ठ के विभिन्न अंग
कौन-कौन से होते हैं?

उत्तर- व्यापारिक या वाणिज्यिक पत्रकारिता के
कई स्तंभ होते हैं। प्रायः समाचार-पत्र के पृष्ठों में मंडी भाव, सर्राफा बाजार,
शेयर बाजार, रूई बाजार, चाय-किराना बाजार, तेल-तिलहन, गुड़-खांडसारी आदि के स्तंभ
या कॉलम निर्धारित रहते हैं। इन्हीं पृष्ठों में आयात-निर्यात, कंपनी समाचार एवं
मुद्रा बैंकिंग आदि का विश्लेषण भी दिया जाता है।

 

प्रश्न- विज्ञान पत्रकारिता क्या है?

उत्तर- वैज्ञानिक क्षेत्र के किसी कार्यक्रम,
प्रमुख घटना, उपलब्धि या खोज की तह तक जानकारी प्राप्त करना तथा उसकी पृष्ठभूमि के
बारे में बताना और भविष्य की संभावनाओं की जानकारी देना विज्ञान पत्रकारिता कहलाती
है। जिसमें विज्ञान से संबंधित समस्त तकनीकी पक्षों की जानकारी समाचार माध्यम से
दी जाती है।

 

प्रश्न- विज्ञान पत्रकारिता करते समय किन
बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?

उत्तर- विज्ञान पत्रकारिता के लिए उपलब्ध
सामग्री जटिल होती है। विज्ञान की तकनीकी शब्दावली को आम पाठक समझ नहीं पाता इसलिए
विज्ञान संबंधी समाचार देते समय यह ध्यान रखना आवश्यक है कि इसमें सरल एवं आम जनता
की समझ आने वाली भाषा का प्रयोग किया जाए। समस्त समाचार को मनोरंजक कथा-शैली में
प्रस्तुत किया जाए अर्थात पत्रकार अपनी सहज भाषा में समाचारों को प्रस्तुत करें।

 

प्रश्न- फिल्म पत्रकारिता किसे कहते हैं?

उत्तर- फिल्म जगत की संपूर्ण जानकारी,
विवरण-विश्लेषण के साथ प्रस्तुत की जाती है। फिल्म की पटकथा, उसके संवाद, उसकी
संवेदना, पात्रों का प्रदर्शन, समाज पर उसका प्रभाव तथा सामयिक संदेश, फिल्म की
शूटिंग एवं विविध शॉट तथा उनकी कलात्मक पृष्ठभूमि आदि समस्त पक्षों की जानकारी
प्रस्तुत करना फिल्म पत्रकारिता कहलाती है। इसी में फिल्म की समीक्षा भी आ जाती
है।

 

अध्याय- वार्ता, रिपोर्ताज,
यात्रा-वृत्तान्त, डायरी लेखन, संदर्भ ग्रन्थ की महत्ता

 

प्रश्न- रिपोर्ट और रिपोर्ताज में क्या अंतर
है?

उत्तर- रिपोर्ट और रिपोर्ताज में निम्न अंतर
हैं-

1.     किसी
घटना या विषय का तथ्यात्मक विवरण या लेखा-जोखा प्रस्तुत करना रिपोर्ट कहलाता है
परंतु जब वह रिपोर्ट कलात्मक, संवेदनामय एवं साहित्यिक शैली में प्रस्तुत हो तो वह
रिपोर्ताज कहलाता है।

2.     घटनाओं
एवं सूचनाओं का आँखों देखा विवरण लिखना रिपोर्ट माना जाता है परंतु उसे कलात्मक
अभिव्यक्ति व संवेदनशीलता के साथ ज्ञान व आनंद का समावेश हो तो वह रिपोर्ताज बन
जाता है।

3.     रिपोर्ट
को प्रतिवेदन भी कहते हैं इस में तथ्यात्मकता होने से नीरसता रहती है जबकि
रिपोर्ताज भावात्मक अभिव्यक्ति होती है तथा इसमें सरसता एवं संवेदना का पुट रहता
है। रिपोर्ट से भिन्न रिपोर्ताज एक साहित्यिक विधा है।

4.     रिपोर्ट
अंग्रेजी भाषा का शब्द है जबकि रिपोर्ताज फ्रेंच भाषा का शब्द है।

प्रश्न- वार्ता से क्या अभिप्राय है? स्पष्ट
कीजिए।

उत्तर- वार्ता रेडियो प्रसारण की एक विशिष्ट विधा
है। यह समाचार आधारित भी होती है और साहित्यक, संस्कृतिक, वैज्ञानिक व आर्थिक
विषयों की भी हो सकती है। समाचारों पर आधारित वार्ता के साथ-साथ अन्य डायलॉग संवाद
का भी प्रसारण होता है। जिसमें एक विशेषज्ञ से समाचार संपादक या संवाददाता किसी
तात्कालिक विषय पर अपनी बात करके उनसे विस्तृत जानकारी देने का प्रयास करता है।
वार्ता में दो पक्ष होते हैं एक वक्ता और दूसरा श्रोता।

 

प्रश्न- यात्रावृत्त लेखन के विकास में राहुल
सांकृत्यायन का योगदान अप्रतिम है। समझाइए।

उत्तर- यात्रा साहित्य के विकास में राहुल
सांकृत्यायन का योगदान अप्रतिम है। यह पक्के घुमक्कड़ थे और उनके जीवन का बहुत बड़ा
भाग घूमने फिरने में व्यतीत रहा। इतिवृत्त प्रधान शैली के उपरांत भी गुणवत्ता व
परिमाण की दृष्टि से उनके यात्रा वृत्तांतों की तुलना में कोई दूसरा लेखक कहीं
नहीं ठहरता। उन्होंने तिब्बत में सवा वर्ष, मेरी यूरोप यात्रा, मेरी तिब्बत यात्रा
शीर्षक से यात्रा-वृत्त लिखे।  मेरी यूरोप
यात्रा में यूरोप के दर्शनीय स्थलों के अतिरिक्त कैंब्रिज और ऑक्सफोर्ड
विश्वविद्यालयों के रोचक किस्से भी प्रस्तुत किए गए हैं। सन् 1948 में उन्होंने
घुमक्कड़ शास्त्र नामक ग्रंथ की रचना की जिससे यात्रा करने की कला को सीखा जा सकता
है।

 

प्रश्न- डायरी लेखन में किस तरह की भाषा शैली
अपनानी चाहिए?

उत्तर- डायरी लेखन में परिष्कृत एवं मानक भाषा
शैली का आग्रह नहीं रखना चाहिए। यह अत्यंत निजी एवं व्यक्तिगत होती है। परिष्कृत
एवं क्लिष्ट भाषा के प्रयोग से कथ्य एकदम भारी हो जाता है। डायरी लेखन में यह
चिंता नहीं करनी चाहिए कि भाषा कितनी शुद्ध है और शैली-सौंदर्य कितना कलात्मक है।
इसमें सहज अभिव्यक्ति एवं हृदय के भावों के आवेग को प्राथमिकता देनी चाहिए।
स्वाभाविक भाषा शैली का प्रयोग करने से ही डायरी का सही स्वरूप उभरता है। अतः
कृत्रिमता से बचने के लिए डायरी लेखन में हृदय की अनुभूति के अनुरूप ही भाषा शैली
अपनानी चाहिए। इसी विधि से इसमें आत्मीयता का समावेश होता है।

 

प्रश्न- संदर्भ ग्रंथ किसे कहते हैं? इनका
क्या महत्त्व है?

उत्तर- शब्दकोश की तरह ही जिन ग्रंथों में
मानव द्वारा संचित ज्ञान को संक्षेप में प्रस्तुत किया जाता है अर्थात सभी विषयों
की अत्यंत संक्षिप्त जानकारी दी जाती है उसे ही संदर्भ ग्रंथ कहते हैं। संदर्भ
ग्रंथ समस्त जानकारी एवं सूचनाओं के संकलन होने से ज्ञान के भंडार माने जाते हैं।
इनका महत्त्व गागर में सागर भरने के समान है। संदर्भ ग्रंथों में किसी विषय पर
तुरंत जानकारी मिल जाती है। इस कारण यह अत्यंत महत्त्वपूर्ण व उपयोगी रहते हैं।
इनमें जानकारियों एवं विविध विषयों का संकलन क्रमानुसार और शब्दकोश के नियमों के
अनुसार रहता है।

 

भ्रमरगीत से चयनित कुछ पद- सूरदास

 

प्रश्न- गोपियों को उद्धव का संदेश कैसा लग
रहा है?

उत्तर-गोपियों को उद्धव का संदेश कड़वी ककड़ी के
समान लग रहा है।

 

प्रश्न- सूरदास भक्तिकाल की किस काव्य धारा के
कवि हैं?

उत्तर- सूरदास भक्तिकाल की सगुण भक्ति शाखा
में कृष्ण भक्ति काव्यधारा के कवि माने जाते हैं।

 

प्रश्न- सूरदास की भक्ति किस कोटि की मानी
जाती है?

उत्तर- सूरदास की भक्ति सखा भाव की अर्थात
सख्य भाव की मानी जाती है।

 

प्रश्न- गोपियों को उद्धव का योग संदेश किसके
समान लग रहा है?

उत्तर- गोपियों को उद्धव का योग संदेश कड़वी
ककड़ी के समान लग रहा है। गोपियाँ श्रीकृष्ण के साकार रूप से प्रेम करती हैं। उद्धव
उनकी भावनाओं को न समझकर उन्हें बार-बार योग साधना करने को प्रेरित कर रहे हैं।
श्रीकृष्ण को भूलाकर निर्गुण, निराकार ईश्वर की आराधना करना गोपियों को तनिक भी
नहीं सुहा रहा था। इसलिए उन्होंने योग की तुलना कड़वी ककड़ी से की है।

 

प्रश्न- सूरदास के पदों की काव्यगत विशेषताएं
लिखिए।

उत्तर- सूरदास के पदों की काव्यगत विशेषताएँ
निम्न हैं-

 भाव
पक्ष- इन पदों में गोपियों के उद्धव के साथ संवाद के माध्यम से विरह की मार्मिकता,
कृष्ण से अनन्य प्रेम, निर्गुण ब्रह्म पर सगुण ब्रह्म की श्रेष्ठता, गोपियों की
वाग्विदग्धता एवं वियोग शृंगार रस की छवि अप्रतिम है।

कला पक्ष- इन पदों की भाषा ब्रज है। अनुप्रास,
उपमा, रूपक, श्लेष और  व्यतिरेक अलंकारों
का प्रयोग हुआ है। संगीतात्मकता एवं माधुर्य तथा प्रसाद काव्य गुणों का सम्यक
निर्वहन हुआ है।

 

प्रश्न- 
‘बिन गोपाल बैरिन भई कुंजै‘ पद के आधार पर गोपियों की विरह वेदना का वर्णन
कीजिए।

उत्तर- इस पद में गोपियाँ कृष्ण के विरह में
दुःखी होकर उद्धव को बता रही हैं कि सुख प्रदान करने वाली समस्त वस्तुएँ कृष्ण के
वियोग में हमें कष्टकारक लग रही हैं। श्रीकृष्ण के संयोग के समय ब्रज की ये लताएँ
अत्यंत सुखकारी लगती थी किंतु अब अग्नि की प्रचंड लपटों के समान कष्ट देने वाली लग
रही हैं। यमुना का स्वच्छंद प्रवाह, कोयल की मधुर ध्वनि, कमलों का खिलना, भ्रमरों
का मधुर गुंजार आज सब व्यर्थ है। शीतल पवन, कपूर और अमृतमयी चंद्र-किरणें आदि
समस्त शीतल उपकरण हमें सूर्य की किरणों के समान संताप दे रही हैं।


नीति के दोहे- रहीम

 

प्रश्न- रहीम किसके भक्त थे?

उत्तर- रहीम कृष्ण के भक्त थे।

 

प्रश्न- काज परे कछु और है, काज सरे कछु और।

रहीमन भंवरी के भए, नदी सिरावत मोर।।

पद के माध्यम से कवि रहीम ने किन लोगों की ओर
संकेत किया है या लोगों के किस गुण के बारे में संकेत किया है?

उत्तर- कवि रहीम ने प्रस्तुत दोहे के माध्यम
से लोगों के स्वार्थी स्वभाव पर प्रहार किया हैं। मनुष्य की अवसरवादिता, और
मौकापरस्ती पर प्रहार किया है कि किस प्रकार मनुष्य अपना काम निकल जाने पर व्यवहार
बदल लेता है।

 

प्रश्न- कवि रहीम ने रूठे लोगों को मनाने की
बात क्यों कही है?

उत्तर- कवि रहीम कहते हैं कि रुठे हुए सज्जन
व्यक्ति को मना लेना चाहिए। जिस प्रकार से हम मोतियों की माला के टूट जाने पर उसको
उन्हें माला में पिरो लेते हैं। उसी प्रकार से रुठे हुए सज्जन भी मोतियों के समान
है। अतः उन्हें बार-बार  मनाते रहना चाहिए।

 

प्रश्न- रहीम ने उत्तम प्रकृति के मनुष्य की
क्या पहचान बताई है?

उत्तर- कवि रहीम कहते हैं कि उत्तम प्रकृति के
व्यक्ति पर कुसंग का प्रभाव नहीं पड़ता क्योंकि ऐसे व्यक्तियों का चरित्र विकारहीन
होता है। कवि ने चंदन के वृक्ष का उदाहरण देते हुए बताया है कि उस पर काले जहरीले
साँप लिपटे रहते हैं किंतु उस पर जहर का कोई असर नहीं पड़ता।

 

प्रश्न- कवि रहीम ने किसी व्यक्ति की पहचान का
क्या तरीका बताया है?

उत्तर- कवि रहीम व्यक्ति की पहचान का आधार
उसके वाणी-व्यवहार को बताया है। वे कहते हैं कि कौवा और कोयल दोनों दिखने में एक
जैसे होते हैं लेकिन उनके बोलने से ही पता चलता है कि कौन कोयल है और कौन कौवा।
इसी प्रकार से मनुष्य के वाणी-व्यवहार से ही पता चलता है कि कौन सज्जन है और कौन
दुर्जन।

 

प्रश्न- नीति काव्य के क्षेत्र में रहीम का
स्थान सर्वोपरि है। इस कथन की व्याख्या कीजिए।

उत्तर- कवि रहीम को नीति संबंधी दोहों के कारण
विशेष ख्याति प्राप्त हुई है। उन्होंने अपने जीवन के विस्तृत अनुभवों को सरल एवं
सुबोध भाषा में व्यक्त किया है। कवि ने अपने निजी अनुभव के आधार पर काव्य रचना की
है। उनके दोहे निजी अनुभव पर आधारित हैं और समाज से जुड़े होने के कारण अधिक
मार्मिक और प्रभावी बन पड़े हैं।

 

बिहारी सतसई के कुछ पद: बिहारी

 

प्रश्न- बिहारी किस काल और किस काव्य धारा के
कवि थे?

उत्तर- बिहारी रीतिकाल के शृंगारी कवि थे। आप
रीतिसिद्ध काव्यधारा के प्रमुख कवियों में गिने जाते हैं।

 

प्रश्न- समान आभा के कारण नजर न आने वाले
नायिका के आभूषणों की पहचान किससे होती है?

उत्तर- नायिका के आभूषणों को स्पर्श करके उनकी
कठोरता से ही उनकी पहचान की जा सकती है।

 

प्रश्न- कवि बिहारी ने यमुना तट की क्या
विशेषताएँ बताई हैं?

उत्तर- कवि बिहारी ने बताया है कि यमुना के तट
पर पहुँचने पर वृक्षों, लताओं और घने कुंजो को सुखदायी, शीतल और सुगंधित पवन से
व्यक्ति के तन मन को सुख मिलता है और उसे लगता है जैसे वह श्रीकृष्णकालीन ब्रज में
पहुँच गए हों।

 

प्रश्न- जगत् के चतुर चितेरे को भी मूढ़ बनना
पड़ा। बिहारी ने ऐसा क्यों कहा है?

उत्तर- नायिका का रूप सौंदर्य प्रतिपल बदल रहा
था। चित्रकार के लिए गतिमान और परिवर्तनशील वस्तुओं का चित्र बनाना कठिन होता है
क्योंकि स्थिर वस्तु का ही चित्र सही ढंग से बनता है। नायिका के गतिशील रूप
सौंदर्य का चित्र न बना सकने से कवि ने चतुर चित्रकार को भी मूढ़ बताया है।
क्षण-क्षण में नयापन रखने वाले का चित्र कोई नहीं बना सकता है।

 

प्रश्न- ज्यों-ज्यों बूड़े स्याम रंग,
त्यों-त्यों उज्जलु होई। अनुरागी चित्त की इस गति का क्या रहस्य है?

उत्तर- कवि बिहारी ने प्रेम में डूबे व्यक्ति
की गति विचित्र बताई है।  क्योंकि सामान्य
रूप से कोई वस्तु काले रंग में डूबने पर काली हो जाती है परंतु कृष्ण प्रेम में
डूबे चित्त की दशा ठीक इसके विपरीत होती है। वह ज्यों-ज्यों साँवले रंग के कृष्ण
के प्रेम में डूबता है त्यों-त्यों उसकी स्थिति और अधिक उज्ज्वल और निर्मल हो जाती
है अर्थात कृष्ण से प्रेमाभक्ति रखने वाला अवगुणी व्यक्ति भी उज्ज्वल चरित्र वाला
बन जाता है। विरोधाभास अलंकार के कारण से इस पद में अर्थगत चमत्कार पैदा हुआ है।

 

वीर रस के कवित्त: भूषण

 

प्रश्न- भूषण के संकलित छंदों में कौनसा रस और
गुण है?

उत्तर- कवि भूषण के संकलित छंदों में वीर रस
और ओज गुण है।

 

प्रश्न- भूषण की किन्हीं दो रचनाओं के नाम
लिखिए।

उत्तर- भूषण की रचनाओं के नाम निम्न हैं-  शिवराजभूषण, छत्रसालदशक, शिवाबावनी, भूषणहजारा
और भूषण उल्लास

 

प्रश्न- तेरे हीं भुजानि जानी पर भूतल को भार
है। कवित्त में कवि द्वारा शिवाजी की क्या विशेषता बताई गई है?

उत्तर- कवित्त में कवि भूषण ने प्रशंसा भरे
वचनों में बताया है कि उचित शासन व्यवस्था एवं प्रजापालन का भारवहन करने में
शिवाजी शेषनाग और हिमालय के समान हैं। मानव का भरण पोषण करने के लिए ही धरती पर उनका
जन्म हुआ है। शिवाजी अपनी प्रजा का हित साधने में जहाँ सर्वसमर्थ हैं वहीं शत्रुओं
का संहार करने में भी वे यमराज के समान हैं। इस प्रकार शिवाजी को प्रजापालन में
विशेष दक्ष बताया गया है।

 

प्रश्न- पाठ्यक्रम में सम्मिलित अंश के आधार
पर सिद्ध कीजिए कि भूषण वीर रस के कवि थे।

उत्तर- हिंदी साहित्य इतिहास के रीतिकाल में
महाकवि भूषण वीर रस की कविता रचने वाले अद्वितीय कवि थे। वैसे तो ‘शिवराजभूषण‘ में
भूषण ने सभी रसों का वर्णन किया है परंतु भूषण का मन वीर रस के वर्णन में विशेष
रूप से रमा रहा है। उन्होंने शिवाजी और छत्रसाल की वीरता एवं पराक्रम का अत्यंत
ओजस्वी वर्णन किया है। वे इन दोनों के आश्रय में रहे और इनकी वीरता के प्रशंसक भी।
उन्होंने स्पष्ट कहा है कि ‘आन राव राजा एक मन में लाऊँ अब, साहू को सराहौं के अब
सराहौं छत्रसाल को‘ रीतिकाल के कवि राजाओं की झूठी प्रशंसा करते थे परंतु भूषण
उनसे भिन्न हैं। उन्होंने हिंदू राष्ट्रीयता की रक्षा करने वाले, अन्याय का सामना
करने वाले  एवं मुगल बादशाहों का सामना
करने वाले महाराजा शिवाजी और छत्रसाल की वीरता का वर्णन किया है। इसीलिए भूषण को
वीर रस का अप्रतिम कवि माना जाता है।

 

कविता- उषा

रचनाकार- शमशेर बहादुर सिंह

 

प्रश्न- उषा कविता में किस समय का वर्णन
प्राप्त होता है?

उत्तर- उषा कविता में सूर्योदय के समय का
वर्णन मिलता है।

प्रश्न- लाल केसर तथा लाल खड़िया चाक के माध्यम
से कवि क्या कहना चाहता है?

उत्तर- उषा काल में जब धुँधले आसमान में सूर्य
की हल्की लाल किरणें फैलने लगती हैं तो उसके लिए कवि ने लाल केसर का फैलना बताया
है। कुछ क्षण बाद जब आकाश राख के रंग का लगता है तब सूर्य की लाल किरणें कुछ अधिक
उभरने लगती हैं। इसी दृश्य को कवि ने लाल खड़िया चाक को आकाश रूपी स्लेट पर मसलने
जैसा बताया है। इस प्रकार कवि ने भोर की लालिमा का चित्रण किया है।

प्रश्न- उषा कविता की प्रमुख शिल्प गत
विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर- उषा कविता की प्रमुख विशेषताएँ ये हैं
कि इसमें कवि ने परंपरा से हटकर नवीन उपमानों का प्रयोग कर पाठकों का रुझान
प्रकृति की तरफ किया है। श्लेष एवं उपमा अलंकार के द्वारा उषाकाल के आकाश एवं
चारों तरफ के आकर्षक एवं मनमोहक दृश्य सुंदर शब्द चित्रों के माध्यम से उकेरे गए
हैं। शब्दावली अत्यंत सरल, सुबोध, लघु आकार की एवं भावानुरूप प्रयुक्त हुई है।
बिम्ब योजना और शब्द-चित्र इसकी  विशेषताएँ
हैं।

 

प्रश्न- शमशेर बहादुर सिंह की उषा कविता का
प्रकृति चित्रण अपने शब्दों में कीजिए।

उत्तर- कवि अपनी छोटी सी कविता के माध्यम से
कहता है कि भोर होने को है। गहरा नीला आकाश एक विशालकाय नीले शंख जैसा प्रतीत हो
रहा है। नीले आकाश में भोर का धुँधला प्रकाश ऐसा लग रहा है जैसे वह राख से लीपा
गया गीला चौका हो। यह आकाश एक विशाल काली सिल के समान है जिसे केसर से धो दिया गया
हो। नीले आसमान में उषा की यह लालिमा इस प्रकार लगती है मानो स्लेट पर लाल खड़िया
चाक मल दिया गया हो। यह नीले जल में झिलमिलाता हुआ किसी रमणी की गौर वर्ण शरीर
जैसा है जो लहरों के जल में खिलता हुआ सा दिखाई दे रहा है और इसी के साथ ही सूर्य
का उदय हो रहा है। सूर्य के उदय के साथ-साथ भोर का यह मनमोहक दृश्य लुप्त होता जा
रहा है।

 

प्रश्न- उषा कविता में कवि का संदेश क्या है?

उत्तर- उषा कविता में कवि शमशेर बहादुर सिंह
ने यह संदेश व्यक्त किया है कि प्रातः काल प्राकृतिक परिवेश में जिस प्रकार
गतिशीलता और जीवंतता आ जाती है उसी प्रकार हमें भी अपने जीवन को गतिशील एवं जीवंत
रखना चाहिए। हमें प्रकृति से शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए। हमें आलस्य में नहीं पड़ना
चाहिए। हमें अपने उत्थान के लिए प्रयास करते रहना चाहिए और खुशियों से पुलकित रहना
चाहिए।


पाठ्यपुस्तक सृजन का गद्य खंड

 

पाठ का नाम- भय

लेखक- आचार्य रामचंद्र शुक्ल

 

प्रश्न- भय किस प्रकार का संवेग है?

उत्तर- भय दुःखात्मक संवर्ग का भाव है।भय
क्रोध का विपरीत मनोविकार है। इसमें दुःख से बचने की अथवा उससे होने वाली हानि से
दूर रहने की भावना बनती है।

 

प्रश्न- भय के कितने रूप होते हैं?

उत्तर- भय के दो रूप होते हैं- पहला असाध्य और
दूसरा साध्य। जिसका निवारण संभव न हो उसे असाध्य कहते हैं तथा जिसे प्रयास से दूर
किया जा सकता है वह भय का साध्य रूप कहलाता है।

 

प्रश्न- साहसी व्यक्ति कठिनाई में फँस जाने पर
क्या करता है?

उत्तर- साहसी व्यक्ति कठिनाई में फँस जाने पर
पहले तो जल्दी ही घबराता नहीं और घबराता भी है तो जल्द ही संभलकर अपने बचाव कार्य
में लग जाता है।

प्रश्न- भीरुता की उत्पत्ति का मूल कारण क्या
है?

उत्तर- कष्ट सहन करने की क्षमता न होने तथा
अपनी शक्ति से कलह को दूर करने का आत्मविश्वास न होने से भय या भीरुता की उत्पत्ति
होती है।

 

प्रश्न- आशंका और भय में अंतर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- दुःख या आपत्ति का पूर्ण निश्चय न रहने
पर उसकी संभावना मात्र के अनुमान से जो आवेग-शून्य भय होता है, उसे आशंका कहते
हैं। मसलन एक घने जंगल में पैदल चलने वाला यात्री इस आशंका में रहता है कि कहीं
कोई चीता न मिल जाए, फिर भी वह चलता रहता है। यदि उसे आवेगपूर्ण स्थिति में असली
भय हो जाएगा, तो फिर वह जंगल में एक कदम भी नहीं रखेगा। इस प्रकार आशंका से स्तम्भकारक
स्थिति अल्पकालिक या कुछ देर के लिए होती है, जबकि भय में वह दीर्घकालिक या पूर्ण
रूप से बनी रहती है।

 

प्रश्न- सभ्य और असभ्य प्राणियों के भय में
क्या अंतर है?

उत्तर- सभ्य समाज में भय के कारण लोग उतने
नहीं घबराते जितने कि असभ्य लोग घबराते हैं। असभ्य प्राणी भय के कारणों से सदैव
अपनी रक्षा के लिए चिंतित रहता है। इसी कारण जंगली और असभ्य जातियों में भय अधिक
होता है। इसके विपरीत सभ्य लोग भय से इतने भयभीत नहीं होते जिनते कि असभ्य लोग।
सभ्य लोग अपनी बुद्धि के बल पर भय के कारणों का समाधान खोज लेते हैं। इस तरह सभ्य
और असभ्य प्राणियों की भय में काफी अंतर है।

प्रश्न- सभ्यता का विकास होने से पूर्व मनुष्य
का भय किस प्रकार का था जो अब नहीं है? इस संबंध में आपका क्या कहना है?

उत्तर- सभ्यता का विकास होने से पूर्व मनुष्य
का भय वर्तमान के भय से भिन्न प्रकार का था। उस समय लोग भूत-प्रेत, जंगली और हिंसक
पशुओं से अधिक भयभीत रहते थे जबकि वर्तमान समय में मनुष्य को मनुष्य से ही भय है।
झूठे गवाह पेश करके मुकदमा जीत लेना, कानून की आड़ से दूसरों की संपत्ति हथिया
लेना, कमजोर लोगों के खेत-खलिहान, घर, रुपए-पैसे जबरन छीन लेना ये सब वर्तमान समय
के भय हैं।

 

पाठ- बाजार दर्शन

लेखक- जैनेंद्र

 

प्रश्न- लेखक के अनुसार बाजार का जादू किस राह
से काम करता है?

उत्तर- लेखक के अनुसार बाजार का जादू आँख की
राह से काम करता है।

 

प्रश्न- पैसे की पर्चेजिंग-पावर से क्या आशय
है?

उत्तर- पैसे की पर्चेजिंग पावर से आशय है-
पैसे की क्रय शक्ति या पैसे की प्रचुरता से मनचाही वस्तुएँ खरीदने की क्षमता।

 

प्रश्न- हमें बाजार से वस्तुएँ खरीदते समय
किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

उत्तर- बाजार दर्शन पाठ के अनुसार बाजार से
वस्तुएँ खरीदते समय मन भरा होना चाहिए। उस समय मन पर नियंत्रण रखना चाहिए।
क्रय-शक्ति होने पर भी लालच नहीं रखना चाहिए और बाजार की चकाचौंध से आकर्षित होने
से भी बचना चाहिए। केवल उपयोगी एवं आवश्यकता की वस्तुएँ खरीदने का दृढ़ निश्चय करना
चाहिए। लालच से या व्यर्थ की लालसा से सर्वथा मुक्त रहना चाहिए। विवेक और पर्चेजिंग-पावर
का सदुपयोग करना चाहिए।

 

प्रश्न- बाजारूपन से क्या आशय है? किस प्रकार
के व्यक्ति बाजार को सार्थकता प्रदान करते हैं अथवा बाजार की सार्थकता किसमें है?

उत्तर- बाजारूपन का आशय है ऊपरी चमक-दमक और
कोरा दिखावा। जब व्यापारी बेकार की वस्तुओं को आकर्षित बना कर ग्राहकों को ठगने
लगता है तो वहाँ बाजारूपन हावी हो जाता है। ग्राहक भी जब क्रय-शक्ति के गर्व में
अपने पैसे से अनावश्यक चीजों को खरीद कर विनाशक शैतानी-शक्ति को बढ़ावा देता है तो
बाजारूपन हावी हो जाता है। परंतु जो लोग बाजार की चकाचौंध में न आकर अपनी आवश्यकता
की ही वस्तुएँ खरीदते हैं वे बाजार को सार्थकता प्रदान करते हैं मनुष्य की
आवश्यकताओं की पूर्ति करना ही बाजार का कार्य है और उसी में उसकी सार्थकता है।

 

प्रश्न- लेखक ने किस अर्थशास्त्र को मायावी
तथा अनीतिशास्त्र कहा है?

उत्तर- धन एवं व्यवसाय में उचित संतुलन रखने
और विक्रय, लाभ आदि में मानवीय दृष्टिकोण रखने से अर्थशास्त्र को उपयोगी माना जाता
है परंतु जब बाजार का लक्ष्य अपने स्वार्थ में अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने और
तरह-तरह के विज्ञापन द्वारा ग्राहकों को ठगने और उनके साथ कपट भरा आचरण करने का हो
जाता है तब लेखक ने उस अर्थशास्त्र को मायावी और अनीतिशास्त्र कहा है।

 

प्रश्न- बाजार दर्शन निबंध का प्रतिपाद्य या
संदेश स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- बाजार दर्शन निबंध में लेखक ने आधुनिक
काल के बाजारवाद और उपभोक्तावाद का चिंतन कर इसके मूल तत्त्व को समझाने का प्रयास
किया है। इसका संदेश यह है कि व्यक्ति को बाजार के आकर्षण से बचना चाहिए। अपनी
पर्चेजिंग पावर का दुरुपयोग नहीं करना चाहिए तथा बाजार जाने से पहले अपनी
आवश्यकताओं की पहचान कर लेनी चाहिए तथा जरूरत की वस्तुओं को तय कर लेना चाहिए। तभी
उसे बाजार का लाभ मिल पाएगा और बाजार की सार्थकता सिद्ध होगी।

 

पाठ- ठेले पर हिमालय(निबंध)

लेखक- धर्मवीर भारती।

 

प्रश्न- लेखक की सारी खिन्नता व चिंता कब दूर
हो गई?

उत्तर- कौसानी पहुँचने पर हिमालय की शुभ्र-हिम
दर्शन से लेखक की सारी खिन्नता व निराशा दूर हो गई।

 

प्रश्न- त्रिताप कौन-कौन से होते हैं? हिमालय
की शीतलता से वे कैसे दूर हो गए?

उत्तर- धर्म शास्त्रों में दैहिक, दैविक और
भौतिक कष्टों के ताप को त्रिताप कहा गया है। ये त्रिताप सांसारिक मनुष्य को कष्ट
देते हैं तथा ईश्वर की कृपा भक्ति से उनसे शांति मिलती है। लेखक को जब हिमालय के
दर्शन हुए तो उनके मन की खिन्नता, शारीरिक थकान, सारे संघर्ष एवं अंतर्द्वंद्व सब
एक साथ जैसे नष्ट हो गये। इस प्रकार हिमालय की शीतलता, पवित्रता और शांति से लेखक
की सारी खिन्नता दूर हो गई और वह अब एकदम ताजगी महसूस कर रहे थे।

 

प्रश्न- कौसानी के प्राकृतिक सौंदर्य को लेकर
लेखक ने क्या सुना था?

उत्तर- लेखक ने अनेक लोगों से सुना था कि
कौसानी में अतुलित प्राकृतिक सौंदर्य है। उनके एक सहयोगी ने कहा था कि कश्मीर के
मुकाबले उन्हें कौसानी अधिक आकर्षक लगा। गाँधीजी ने यहीं पर अनासक्ति योग लिखा था
और कहा था कि कौसानी में स्विट्जरलैंड का आभास होता है। कौसानी सोमेश्वर घाटी की
ऊँची पर्वतमाला के शिखर पर स्थित सुंदर पर्वतीय स्थल है वह पर्यटकों को अत्यधिक
आकर्षित करता है।

 

प्रश्न- बिलकुल ठगे गए हम लोग। लेखक को ऐसा
क्यों लगा कि वह ठगे गए?

उत्तर- बस कौसानी के अड्डे पर रुकी। यह एक
छोटा और उजड़ा-सा गाँव था। वहाँ बर्फ का नामोनिशान भी नहीं था। लेखक बर्फ को निकट
से देखने की इरादे से कौसानी गया था। उसने कौसानी की बहुत तारीफ सुनी थी। अतः लेखक
को लगा कि लोगों की बातों पर विश्वास करके गलती की। उसके अनुसार वह बुरी तरह ठगा
गया था।

 

प्रश्न- और यकीन कीजिए इसे बिलकुल ढूंढना नहीं
पड़ा, बैठे-बैठे मिल गया। लेखक धर्मवीर भारती ने किसके बारे में कहा है?

उत्तर- लेखक धर्मवीर भारती ने यह बात अपने
निबंध ‘ठेले पर हिमालय‘ की शीर्षक के बारे में कही है। लेखक अपने गुरुजन
उपन्यासकार मित्र के साथ पान की दुकान पर खड़ा था। वहाँ एक बर्फ वाला ठेले पर बर्फ
की सिल्लियाँ लादकर लाया। उसे देखकर मित्र बोले यह  बर्फ तो हिमालय की शोभा है। सुनते ही लेखक ने
अपने लेख का शीर्षक ‘ठेले पर हिमालय‘ रख दिया।

 

प्रश्न- कौसानी जाते समय लेखक के चेहरे पर
अधैर्य, असंतोष एवं क्षोभ क्यों झलक उठा?

उत्तर- लेखक को बताया गया था कि कौसानी बहुत
ही सुंदर स्थान है। लेकिन कष्टप्रद, टेढ़ी-मेढ़ी सड़क देखकर और बर्फ का नामोनिशान न
पाकर लेखक के मन में अधैर्य, असंतोष और क्षोभ पैदा हो गया।

 

प्रश्न- पर्यटन का हमारे जीवन में क्या
महत्त्व है?

उत्तर- पर्यटन का आशय भ्रमण करने या स्वेच्छा
से कहीं भी सैर करने जाने से है। मानव की जिज्ञासा, महत्त्वाकांक्षा,
सौंदर्य-प्रियता, ज्ञानार्जन की आदत उसमें पर्यटन की रुचि जागृत करती है। पर्यटन
धार्मिक, ऐतिहासिक एवं प्राकृतिक दृष्टि से प्रसिद्ध स्थानों का किया जाता है।
शैक्षिक दृष्टि से भी पर्यटन का विशेष महत्त्व है। लोगों के मुख से किसी स्थान की
विशेषता सुन लेने या पुस्तकों को पढ़ने से उस स्थान की पूरी जानकारी नहीं मिल पाती
है परंतु वहां भ्रमण करने से, अपनी आँखों से सारे स्थानों पर घूमने से उसका
सर्वांगीण ज्ञान हो जाता है, जो सदा-सदा के लिए मन में अंकित हो जाता है। इस
प्रकार पर्यटन का हमारे जीवन पर स्थायी प्रभाव पड़ता है। पर्यटन से ज्ञान की
प्राप्ति होती है। पर्यटन आनंदवर्द्धक एवं मनोरंजक भी होता है। शरीर में
चुस्ती-फुर्ती आ जाती है। जीवन के अनुभव बढ़ते हैं। लोगों से मेलजोल बढ़ता है और
अनेक स्थानों की परंपराओं, खानपान, वाणी-व्यवहार का पता चलता है। पर्यटन से
व्यवसाय-व्यापार भी बढ़ता है। पर्यटन स्थलों का विकास भी होता है तथा जलवायु
परिवर्तन एवं पर्यावरण की जानकारी मिलती है। इस प्रकार पर्यटन का मानव जीवन में
अत्यधिक महत्त्व है।

 

पाठ- तौलिए(एकांकी)

लेखक- उपेंद्रनाथ अश्क

 

प्रश्न- चूहासैदन शाह के लोगों की तंदुरुस्ती
का राज क्या था?

उत्तर- डॉक्टरों के अनुसार चूहासैदन शाह के एक
जाट के रक्त का परीक्षण किया था। उन्हें मालूम हुआ कि वहाँ के लोगों के रक्त में
रोग का मुकाबला करने वालों की लाल कीटाणु अधिक मात्रा में हैं। ये लोग दही और
लस्सी का प्रयोग अधिक करते हैं। दही में भी बहुत-सी बीमारियों के कीटाणुओं को
मारने की शक्ति होती है। रोगों को रोकने की शक्ति होने से चूहासैदन शाह के लोग
तंदुरुस्त रहते थे।

 

प्रश्न- तौलिए एकांकी में आधुनिक जीवन की किन
विसंगतियों का चित्रण हुआ है?

उत्तर- एकांकी में आधुनिक शहरी मध्यवर्गीय
सभ्य और शिक्षित कहलाने वाले समाज की अडम्बरप्रियता, अनुकरण की प्रवृत्ति, स्वयं
को सब कुछ अधिक मानने की प्रवृत्ति तथा कृत्रिम दिखावे की आदत आदि विसंगतियों का
चित्रण किया गया है। इस तरह की प्रवृत्तियों से उनके पारिवारिक रिश्तों में
प्रगाढ़ता एवं आत्मीयता नहीं रहती है। फलस्वरूप सहजता और सरलता से जीवन जीने की
आनंद लुप्त हो जाता है। एकांकी में इन्हीं विसंगतियों का चित्रण किया गया है।

प्रश्न- तौलिए एकांकी के उद्देश्य पर प्रकाश
डालिए।

उत्तर-
तौलिए एकांकी में मध्यमवर्गीय परिवारों में तथाकथित सभ्यता एवं सुरुचि के नाम पर
जो सिद्धांत गढ़े जाते हैं और आडंबर और दिखावे की प्रवृत्ति बन रही है। उस पर सशक्त
व्यंग्य किया गया है। सफाई रखना अच्छा गुण है किंतु स्वच्छता के प्रति सनक सवार
होना भी ठीक नहीं है क्योंकि इससे परिवार में अशांति रहती है।


पाठ- ममता(कहानी)

 

लेखक- जयशंकर प्रसाद

छायावादी काव्यधारा के प्रमुख कवि। ऐतिहासिक
उपन्यास, नाटक, निबंध एवं कहानियों के लेखक।

 

प्रश्न- ममता ने स्वर्ण मुद्राओं का उपहार
लेने से मना क्यों कर दिया था?

उत्तर- ममता संतोषी और त्यागी स्वभाव की थी।
उसमें जरा भी लोभ-लालच नहीं था। उसके पिता जो स्वर्ण मुद्राएं लाए थे, वे विधर्मी
से रिश्वत रूप में ली गई थी। उसे म्लेच्छ से उत्कोच कदापि स्वीकार नहीं था। वह
मानती थी कि विपत्ति आने पर ब्राह्मण होने के नाते अन्य लोग उनकी सहायता अवश्य
करेंगे। अतः भावी विपदा की आशंका से घूस लेना अनुचित मानकर ममता ने स्वर्ण
मुद्राएं लेने से मना कर दिया था।

 

प्रश्न- ममता कहानी में भारतीय संस्कृति के
किन-किन मूल्यों को उभारा गया है?

उत्तर- ममता कहानी के माध्यम से भारतीय
संस्कृति के निम्न मूल्यों पर  प्रकाश डाला
गया है-

·       शरणागत
की सहायता करनी चाहिए।

·       विपदा
ग्रस्त व्यक्ति को आश्रय देना मानव का कर्तव्य है।

·       किसी
भी हालत में उत्कोच या रिश्वत नहीं लेनी चाहिए।

·       त्याग,
संतोष, निर्लोभ, सहनशीलता आदि गुणों को अपनाना चाहिए।

·       कृतज्ञता
एवं मानवता को परम धर्म मानना चाहिए।

·       दीन-दुःखियों
पर दया करनी चाहिए।

 

प्रश्न- ममता की झोपड़ी की स्थान पर किस बादशाह
ने अष्टकोण मंदिर बनवाया था?

उत्तर- ममता की झोपड़ी के स्थान पर मुगल बादशाह
अकबर ने अष्टकोण मंदिर का निर्माण करवाया था।

 

प्रश्न- मंत्री चूड़ामणि ने किस आशय से उत्कोच
स्वीकार किया था?

उत्तर- मंत्री चूड़ामणि को जवानी में विधवा हुई
पुत्री ममता की चिंता थी। चूड़ामणि वृद्ध था और वह ममता को भविष्य में बेसहारा होने
पर भी सुख-सुविधा मिले, इसके लिए धन संचित करना चाहता था। उसे ज्ञात था कि रोहतास
दुर्ग का सामंत कमजोर है और उसका शीघ्र ही पतन हो सकता है और शेरशाह उस पर अधिकार
कर सकता है। तब न उसका मंत्री पद रहेगा और न जीवन। ऐसी दशा में ममता सुखी रहें इसी
आशय से उन्होंने उत्कोच लिया था।

 

प्रश्न- ममता कहानी में जयशंकर प्रसाद ने
भारतीय नारी के किन गुणों का चित्रण किया है?

उत्तर- ममता कहानी में जयशंकर प्रसाद में
भारतीय नारी के विविध गुणों का चित्रण किया है। ममता के माध्यम से भारतीय नारी को
त्याग, स्वाभिमान, जातीय गौरव, जातीय संस्कार, 
सेवाभाव, देशप्रेम, कष्ट-सहिष्णुता और नैतिक आचरण के साथ ही अतिथि सेवा तथा
शरणागत सुरक्षा जैसे गुणों से मंडित बताया गया है। प्रसाद ने भारतीय नारी में
जातीय स्वाभिमान, कर्तव्य निष्ठा एवं आस्तिक भावना आदि गुणों का चित्रण किया है।

 

भाषा, लिपि और व्याकरण संबंधी प्रश्न-

 

प्रश्न- भाषा से आप क्या समझते हैं?

उत्तर- मनुष्य और मनुष्य के बीच वस्तुओं के
विषय में अपनी इच्छा और विचारों के आदान-प्रदान के लिए काम में लिए जाने वाले
ध्वनि संकेत ही भाषा कहलाते हैं। इसमें साहित्य रचना भी होती है।

 

प्रश्न- बोली किसे कहते हैं?

उत्तर- बोली भाषा का वह रूप है जिसका व्यवहार
बहुत ही सीमित क्षेत्र में होता है। भाषा का यह रूप मूलतः भूगोल पर आधारित होता
है। यह साहित्यिक नहीं होती।

 

प्रश्न- विभाषा से आप क्या समझते हैं?

उत्तर- विभाषा का क्षेत्र बोली से थोड़ा
विस्तृत तथा भाषा से थोड़ा कम होता है। यह एक प्रांत या उपप्रांत में प्रचलित होती
है। वस्तुतः जब कोई बोली अपना क्षेत्र विस्तृत कर परिष्कृत हो जाती है और एक बड़े
क्षेत्र के निवासियों द्वारा बोली जाने लगती है तो वह विभाषा कहलाती है। इसमें
अल्प मात्रा में साहित्य रचना भी होती है।

 

प्रश्न- भाषा के कितने रूप होते हैं?

उत्तर- भाषा की दो रूप माने जाते हैं- लिखित
एवं मौखिक। भाषा का एक और रूप भी देखने में आता है जिसे सांकेतिक कहा जाता है।

 

प्रश्न- भाषा के किस रूप में समाज की
संस्कृति, इतिहास व साहित्य सुरक्षित रहते हैं?

उत्तर- किसी भी भाषा के दो स्वरूप होते हैं
लिखित एवं मौखिक। मूल रूप से तो भाषा का लिखित रूप ही समाज की संस्कृति, इतिहास व
साहित्य का संरक्षक होता है लेकिन हमने देखा है कि वाचिक या मौखिक रूप से भी
संस्कृति, इतिहास एवं साहित्य एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित हुए हैं।

 

प्रश्न- लिपि किसे कहते हैं? हिंदी की लिपि
कौनसी है?

उत्तर- भाषा के लिखित रूप को ही लिपि कहा जाता
है अर्थात भाषा के ध्वनि संकेतों को व्यक्त करने के लिए प्रयुक्त होने वाले प्रतीक
चिह्न ही लिपि है। हिंदी भाषा की लिपि का नाम देवनागरी है।

 

प्रश्न- देवनागरी लिपि की प्रमुख विशेषताएँ
बताइए।

उत्तर- देवनागरी एक आदर्श एवं वैज्ञानिक लिपि
है। एक आदर्श एवं वैज्ञानिक सहज रूप में देखी जाने वाली समस्त विशेषताएँ देवनागरी
में दृष्टिगत होती हैंय यथा-

·        ध्वनि के अनुरूप चिह्नों के नाम।

·       एक
ध्वनि के लिए एक चिह्न। क्, च्, ट् इत्यादि

·       लिपि
चिह्नों की पर्याप्त संख्या।

·       लघु
एवं दीर्घ स्वरों के लिए स्वतंत्र चिह्न।

·       सुंदर
एवं कलात्मक लेखन।

 

प्रश्न- भारत की प्राचीन लिपियाँ कौन-कौन सी
हैं?

उत्तर- प्राचीन भारत में मुख्यतः दो लिपियाँ
प्रचलित थीं-  ब्राह्मी तथा खरोष्ठी लिपि।

 

प्रश्न- भारत की प्राचीन लिपियों के बारे में
लिखिए।

उत्तर- ब्राह्मी लिपि- यह लिपि भारत की व्यापक
एवं श्रेष्ठ लिपि मानी जाती है। यह बाएँ से दाएँ लिखी जाती थी। खरोष्ठी लिपि- यह
लिपि विदेश से भारत आई थी। यह ईरान से पश्चिमोत्तर के रास्ते भारत आई। यह दाएँ से
बाएँ लिखी जाती है। इसमें 5 स्वर एवं 32 व्यंजन अर्थात कुल 37 वर्ण हैं। इस लिपि
के अक्षर खर अर्थात गधे के ओष्ठों के समान बेढ़ंगे होने के कारण इसका नाम खरोष्ठी
पड़ा। एक अन्य मत के अनुसार गधे की खाल पर लिखे जाने के कारण इसे खरपोश्त
(खर-पृष्ठ) कहा जाता था इसी का अपभ्रंश खरोष्ठ एवं खरोष्ठी के रूप में हुआ।

 

प्रश्न- व्याकरण किसे कहते हैं?

उत्तर- व्याकरण नियमों का वह शास्त्र है जिसके
द्वारा भाषा को शुद्ध बोलने व लिखने का ज्ञान प्राप्त होता है।

 

प्रश्न- व्याकरण किसे कहते हैं?

उत्तर- व्याकरण वह शास्त्र है जो हमें किसी
भाषा के शुद्ध रूप को लिखने और बोलने की नियमों का ज्ञान करवाता है। व्याकरण के
नियमों से भाषा में स्थिरता आती है। नियमों की स्थिरता से भाषा में एक प्रकार की
मानकता स्थापित होती है। यही मानकता भाषा को परिनिष्ठित एवं परिष्कृत रूप प्रदान
करती है। अतः व्याकरण ही ऐसा शास्त्र है जो भाषा को सर्वमान्य, शिष्ट-सम्मत एवं
स्थायी रूप प्रदान करता है।

 

प्रश्न- भाषा के किस रूप में व्याकरण सम्मतता
की संभावना रहती है?

उत्तर- भाषा के दो रूप प्रयुक्त होते हैं-
लिखित और मौखिक। दोनों ही रूप व्याकरण के नियमों से अनुशासित होते हैं परंतु मौखिक
रूप में व्याकरण का अनुशासन थोड़ा कम होता है। व्यक्ति धाराप्रवाह बोलता है अतः
व्याकरण के नियमों का उल्लंघन स्वाभाविक हो जाता है। लिखित रूप में भाषा का प्रयोग
एक विचार के साथ होता है। लेखक के पास समय भी होता है। शीघ्रता अपनाना आवश्यक नहीं
होता और सबसे खास बात लेखन के बाद संशोधन की गुंजाइश भी बनी रहती है। अतः लिखित
रूप अधिक व्याकरण सम्मत होता है।

 

प्रश्न- भाषा और व्याकरण का संबंध बताइए।

उत्तर- व्याकरण भाषा की वर्तनी को निश्चित रूप
प्रदान करता है अर्थात जो भाषा मानक रूप में प्रयुक्त होती है उसके वर्णो,
व्यंजनों, शब्दों एवं वाक्यों का विवेचन एवं प्रतिपादन व्याकरण के द्वारा ही होता
है। अतः वाचिक माध्यम भाषा को बोलने लिखने में नियमों से साधने वाली वर्तनी को
व्याकरण कहते हैं। स्पष्ट रूप से व्याकरण भाषा के स्वरूप को नियंत्रित करती है उसे
शुद्ध रूप प्रदान करती है। व्याकरण के अभाव में भाषा का परिष्कार नहीं हो पाता।

 

प्रश्न- व्याकरण के प्रमुख अंगो का परिचय
दीजिए।

उत्तर- व्याकरण के मुख्य रूप से चार अंग होते
हैं-

1.     वर्ण
विचार- इसके अंतर्गत वर्णों से संबंधित उनके आकार, उच्चारण, वर्गीकरण एवं उनके मेल
से शब्द निर्माण प्रक्रिया का ज्ञान होता है।

2.     शब्द
विचार- इसमें शब्द के भेद उत्पत्ति, व्युत्पत्ति एवं रचना के साथ-साथ शब्दों के
प्रकारों का ज्ञान होता है।

3.     पद
विचार- इसमें शब्द से पद निर्माण की प्रक्रिया और पदों के विविध रूपों का वर्णन
प्राप्त होता है।

4.     वाक्य
विचार- इसके अंतर्गत वाक्य से संबंधित उसके भेद, अन्वय, विश्लेषण, संश्लेषण, रचना एवं
वाक्य निर्माण प्रक्रिया की जानकारी प्राप्त होती है।

 

प्रश्न- भाषा की प्रमुख इकाइयों का परिचय
दीजिए।

उत्तर- भाषा की निम्न इकाइयाँ होती हैं-

1.     ध्वनि-
हमारे मुख से निकलने वाली प्रत्येक आवाज ध्वनि कहलाती है।

2.     वर्ण-
वर्ण भाषा की सबसे छोटी इकाई मानी जाती है।

3.     शब्द-
वर्णों के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं।

4.     पद-
वाक्य में प्रयुक्त पद को शब्द कहा जाता है अर्थात जब कोई शब्द वाक्य में प्रयुक्त
होकर अन्य शब्दों के साथ अपना संबंध स्थापित कर लेता है तो वह पद कहलाता है।

वाक्य-
शब्दों के मेल से जब एक पूर्ण विचार प्रकट होता है तो वह शब्द समूह वाक्य कहलाता
है अर्थात शब्दों के सार्थक समूह को वाक्य कहते हैं।


<

p align=”center” style=”background: #FFD966; border: none; mso-background-themecolor: accent4; mso-background-themetint: 153; mso-border-bottom-alt: thick-thin-small-gap; mso-border-color-alt: red; mso-border-left-alt: thin-thick-small-gap; mso-border-right-alt: thick-thin-small-gap; mso-border-top-alt: thin-thick-small-gap; mso-border-width-alt: 3.75pt; mso-padding-alt: 1.0pt 4.0pt 1.0pt 4.0pt; padding: 0in; text-align: center;”>अलंकार संबंधी प्रश्नोत्तर-

 

प्रश्न- ‘काली घटा का घमंड घटा‘ पंक्ति में
कौन सा अलंकार है? समझाइए।

उत्तर- उक्त पंक्ति में यमक अलंकार है। जब
किसी पद में एक ही शब्द एक से अधिक बार प्रयुक्त हो और हर बार उसका अलग अर्थ ग्रहण
किया जाए तो वहाँ यमक अलंकार माना जाता है। प्रस्तुत पंक्ति में घटा शब्द दो बार
प्रयुक्त हुआ है और दोनों बार अलग-अलग अर्थ प्रकट हुए हैं। घटा- बादलीध्मेघमाला और
कम होना।

 

प्रश्न- रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरे, मोती मानुष चून।।

प्रस्तुत पद में कौन सा अलंकार है, समझाइए।

उत्तर- प्रस्तुत पद में श्लेष अलंकार है। जब
कोई शब्द प्रसंग के अनुसार अलग-अलग अर्थ प्रकट करने लगता है तो वहाँ श्लेष अलंकार
माना जाता है। उक्त पद में पानी शब्द मोती, मनुष्य और चूने के संदर्भ में क्रम से
चमक, मान-सम्मान और जल के अर्थ को प्रकट कर रहा है।

 

प्रश्न- चरण धरत चिंता करत, भावत नींद न शोर।

सुवरण को ढूँढ़त फिरे, कवि, कामी अरु चोर।।

प्रस्तुत पद में अलंकार का व कारण बताइए।

उत्तर- उक्त पद में श्लेष अलंकार है जब किसी
पद में प्रयुक्त कोई एक शब्द संदर्भ के अनुसार अलग-अलग अर्थ प्रकट करने लगता है तो
वहाँ श्लेष अलंकार माना जाता है। प्रस्तुत पद में सुवरण शब्द कवि के संदर्भ में
सुंदर रचना, कामी पुरुष के संदर्भ में गौर वर्ण स्त्री और चोर के संदर्भ में
स्वर्ण या सोने के अर्थ की प्रतीति करवा रहा है। अतः यहाँ श्लेष अलंकार माना
जाएगा।

 

प्रश्न- जो रहीम गति दीप की, कुल कपूत गति सो।

वारै उजियारो करे, बाढ़े अंधेरो होय।।

प्रस्तुत पद अलंकार का प्रकार व कारण बताइए

उत्तर- प्रस्तुत पद में श्लेष अलंकार प्रयुक्त
हुआ है। जब किसी पद में कोई शब्द संदर्भ के अनुसार अलग-अलग अर्थ प्रकट करता है तो
वहाँ श्लेष अलंकार माना जाता है। उक्त पद में दीपक और कपूर में समानता बताते हुए
‘वारे‘ और ‘बाढ़े‘ शब्द के अर्थ दोनों के संदर्भ में अलग-अलग प्रकट हुए हैं। अतः
यहाँ श्लेष अलंकार माना जाएगा।

 

प्रश्न- ‘कोटि कुलिश सम वचन तुम्हारा‘ पद में
अलंकार और उसका कारण बताइए।

उत्तर- प्रस्तुत पद में उपमा अलंकार है। जब
किसी पद में किसी एक सामान्य पदार्थ को एक प्रसिद्ध पदार्थ के समान मान लिया जाता
है तो वहाँ उपमा अलंकार माना जाता है। प्रस्तुत पद में लक्ष्मण के वचनों को करोड़ों
पत्थरों के समान कठोर बताया गया है। अतः यहां उपमा अलंकार माना जाएगा।

 

प्रश्न- काम सा रूप, प्रताप दिनेश सा सोम सा
शील है, राम महीप का।

प्रस्तुत पद में अलंकार व उसका कारण बताइए।

उत्तर- प्रस्तुत पद में उपमा अलंकार है। जब
किसी साधारण चीज को किसी एक प्रसिद्ध पदार्थ के समान मान लिया जाता है तो वहाँ
उपमा अलंकार माना जाता है। उक्त पद में राम को कामदेव, सूर्य और चंद्रमा के समान
माना गया है। अतः उपमा अलंकार माना जाएगा।

 

प्रश्न- अरुण भए कोमल चरण, भूवि चलबे ते मानु।
प्रस्तुत पद में अलंकार और उसका कारण बताइए।

उत्तर- उक्त पद में उत्प्रेक्षा अलंकार
प्रयुक्त हुआ है। जब किसी पद में उपमेय उपमान को समान तो नहीं किंतु उपमेय में
उपमान की संभावना प्रकट की जाती है तो वहाँ उत्प्रेक्षा अलंकार माना जाता है।

 

प्रश्न- ‘तरनि तनूजा तट तमाल तरुवर बहु छाए‘
प्रस्तुत पद में अलंकार का कारण प्रकार और कारण लिखिए।

उत्तर- प्रस्तुत पद में अनुप्रास अलंकार
प्रयुक्त हुआ है। जब किसी काव्य रचना में किसी एक ही वर्ण की एक निश्चित क्रम में
आवृत्ति होती है वहाँ अनुप्रास अलंकार माना जाता है।

 

प्रश्न- ‘सब जाति फटी दुःख की दुपटी, कपटी
रहें न जहँ एक‘ प्रस्तुत पद में कौनसा अलंकार प्रयुक्त हुआ है?

उत्तर- प्रस्तुत पद में अनुप्रास अलंकार
प्रयुक्त हुआ है। जब किसी काव्य रचना में किसी एक ही वर्ण की निश्चित क्रम में
आवृत्ति होती है तो वहाँ अनुप्रास अलंकार माना जाता है।

 

प्रश्न- पूत कपूत तो क्यों धन संचौ,

पूत सपूत तो क्यों धन संचौ?

पद में प्रयुक्त अलंकार और उसका कारण लिखिए।

उत्तर- विवेच्य पद में अनुप्रास अलंकार
प्रयुक्त हुआ है। जब किसी काव्य रचना में किसी एक ही वर्ण की एक निश्चित क्रम में
आवृत्ति होती है तो वहाँ अनुप्रास अलंकार माना जाता है। यह लाटानुप्रास का उदाहरण
है। जहाँ पूरे पद की जो की त्यों आवृत्ति होती है परंतु अर्थ में परिवर्तन नहीं
होता तो वहाँ लाटानुप्रास माना जाता है।


CLASS 12 HINDI SAHITYA RBSE ABHINAV SIR

CLASS 12 HINDI SAHITYA RBSE ABHINAV SIR

कक्षा 12

विषय- हिंदी साहित्य

तैयारकर्ता- अभिनव सरोवा (व्याख्याता हिंदी, राउमावि- पीथूसर, झुंझुनूं)

 

वैश्विक महामारी कोविड-19 के
चलते मार्च 2020 से विद्यालय बंद रहे हैं। ऐसे में कक्षा-कक्ष शिक्षण न हो पाने के
कारण बच्चे लगातार पढ़ाई से वंचित रहे हैं। इसी परिप्रेक्ष्य में माध्यमिक शिक्षा
बोर्ड राजस्थानए अजमेर द्वारा पाठ्यक्रम को संशोधित किया गया है। प्रश्न-पत्र का
पैटर्न भी बदला गया है। कुछ महत्त्वपूर्ण बदलाव इसमें किए गये हैं; जैसे उच्च
माध्यमिक परीक्षा में पहली बार बहुविकल्पात्मक ;अ, ब, स, द वाले प्रश्न शामिल किए
गए हैं।  इसके साथ ही आतंरिक विकल्प (अथवा
वाले) वाले प्रश्नों में भी पहली बार 2 की बजाय 3 विकल्प मिलेंगे। इस प्रश्न पत्र
को निम्न पाँच भागों में विभक्त किया गया है-

 

1.      खंड अ- इस
खंड में कुल 11 प्रश्न होंगे। पहले प्रश्न में बहुविकल्प वाले 20 प्रश्न किए
जाएँगे। प्रत्येक प्रश्न का अंकभार 1-1 होगा। इसमें भी 4 प्रश्न(i, ii, iii
और iv) हिंदी साहित्य के इतिहास के
आधुनिक काल से किए जाएँगे। उसके बाद 2 प्रश्न(v और vi)
काव्य-गुण से सम्बंधित होंगे। अगले 2 प्रश्न( vii और viii) छंद से और अंतिम 2 प्रश्न(ix और x) अलंकार से संबंधित होंगे।

इसी खंड में प्रश्न नम्बर 2 से
8 तक के प्रश्न अति लघूत्तरात्मक श्रेणी के होंगे। इसमें 3 प्रश्न क्रमशः
काव्य-गुण (2),  छंद (3) और
अलंकार(4) से संबंधित होंगे। उसके बाद के 2 प्रश्न(5 – 6) पाठ्यपुस्तक सरयू से
होंगे। जिनमें एक गद्य खंड से तो दूसरा पद्य खंड से होगा। आगे के 2 प्रश्न(7 – 8)
पूरक पाठ्यपुस्तक मन्दाकिनी से होंगे। इसी खंड में 3 और प्रश्न (9, 10
& 11) भी पूछे जाएँगे जिनमें रिक्त स्थान की पूर्ति करवाई
जाएगी।  इस 3 प्रश्नों में एक प्रश्न
काव्य(गुण) दूसरा छंद और तीसरा अलंकार से संबंधित होगा। इस प्रकार प्रश्न-पत्र के
11 प्रश्नों की प्रकृत्ति के बारे में हम जाने चुके हैं। अब आगे के प्रश्नों के
विषय में जानने का प्रयास करते हैं।

2.      खंड ब- इस खंड में लघूत्तरात्मक
श्रेणी के कुल 8 प्रश्न पूछे जाएँगे जो क्रम संख्या 12 से 19 तक रहेंगे। प्रत्येक
प्रश्न का अंकभार 2-2 रहेगा। इसमें से पहले 2 प्रश्न (12 व 13) पाठ्यपुस्तक सरयू
के गद्य खंड से होंगे और अगले 2 प्रश्न(14 व 15 नम्बर) सरयू के ही पद्य खंड से
पूछे जाएँगे। अगले चार प्रश्न(16 से 19 तक) पूरक पाठ्यपुस्तक मन्दाकिनी से किए
जाएँगे। इनका अंकभार भी 2-2 अंक ही रहेगा। ये समस्त प्रश्न बच्चे की समझ पर आधारित
होंगे।

3.      खंड स-  इस खंड में कुल चार प्रश्न किए जाएँगे। प्रत्येक
प्रश्न का अंकभार 4.4 रहेगा। पहले तीन प्रश्न(20, 21 और 22) हिंदी साहित्य के इतिहास
के आधुनिक काल से होंगे और चौथा प्रश्न (23 नम्बर) अलंकार से संबंधित होगा। इस
प्रश्न में अलंकार की परिभाषा और उदाहरण लिखना होगा। संभव है कि पूछे गए अलंकार के
लक्षण भी पूछ लिए जाएँ। इसलिए पाठ्यक्रम में शामिल अलंकारों (अन्योक्ति,
समासोक्ति, विभावना, प्रतीप और व्यतिरेक) की परिभाषाए लक्षण और एक-एक उदाहरण हर
हाल में तैयार रखें।

 

4.      खंड द- इस
खंड में कुल 2 प्रश्न होंगे।  प्रत्येक प्रश्न
का अंकभार 5-5 रहेगा। इसमें पाठ्यपुस्तक सरयू के गद्य और पद्य खंड से एक-एक गद्यांश
और पद्यांश की व्याख्या पूछी जाएगी। प्रश्न नम्बर 24 में गद्य खंड से एक व्याख्या पूछी
जाएगी। इसमें आतंरिक विकल्प (अथवा) उपलब्ध रहेगा। जिनमें से किसी एक अंश की
व्याख्या करनी है। इसी प्रकार प्रश्न नम्बर 25 में सरयू के पद्य खंड से एक
व्याख्या पूछी जाएगी। इसमें भी आतंरिक विकल्प (अथवा) मौजूद रहेगा।

 

5.      खंड ई-  इस खंड में कुल 3 प्रश्न पूछे जाएँगे। प्रत्येक
प्रश्न 6-6 अंक का होगा।  इनमें से एक
प्रश्न (26 नम्बर वाला) सरयू के गद्य खंड से होगा जिसमें कुल 3 विकल्प होंगे और इन
तीन विकल्पों में से किसी एक का जवाब लिखना है। इसी प्रकार 27 वाँ प्रश्न सरयू के
ही पद्य खंड से होगा। इसमें भी 3 विकल्प (अथवा) होंगे। जिनमें से कोई एक करना है।
प्रश्न-पत्र का अंतिम और 28 वाँ प्रश्न पूरक पाठ्यपुस्तक मन्दाकिनी से होगा।  इसमें भी वही 3 प्रश्न होंगे।  जिनमें से किसी एक का जवाब देना होगा।

    मुझे पूरा विश्वास है कि आप सभी कोरोनाकाल के
संकट को मद्देनजर रखते हुए एक तय रणनीति के तहत अपनी तैयारी रखेंगे। इस पोस्ट को
आप सेव करके रख सकते हैं,  लिख सकते हैं।
मुझे पूरा यकीन है कि ये आपके हर हाल में काम आएगी। अपने शिक्षक साथियों से आग्रह
करता हूँ पहले आप पढ़ें और यदि पसंद आए तो अपनी स्कूल के बच्चों संग साझा करें और
जहाँ कहीं जरूरत महसूसें; आवश्यक मार्गदर्शन जरूर देवें। आपकी सलाहें और
मार्गदर्शन कहीं न कहीं बच्चों के काम आएँगे। सभी बच्चों को शुभकामनाएँ और शिक्षक
साथियों का अभिनन्दन। बहुत जल्द परीक्षा के लिहाज से महत्त्वपूर्ण प्रश्नोत्तर
आपकी सेवा में हाज़िर होंगे। हमें पूरा विश्वास है कि ये आप में एक समझ पैदा करेगी
और परीक्षा परिणाम में गुणात्मक और संख्यात्मक वृद्धि होगी। हमारे प्रयास की सफलता
विद्यार्थियों के अध्ययन, चिंतन और मनन पर आधारित होगी।                                                                                   

                                                                                                  शुभकामनाओं सहित

                                                                                  
अभिनव सरोवा  (हिंदी शिक्षक)

[wptelegram-widget num_messages=”5″ width=”100%” author_photo=”always_hide”]

काव्यांग परिचय

1 काव्य गुण किसे कहते हैं?

उत्तर. काव्य में ओज, प्रवाह,
चमत्कार और प्रभाव उत्पन्न करने वाले तत्त्व काव्य-गुण कहलाते हैं।

2 काव्य-गुण कितने होते हैं?
नाम लिखिए।

उत्तर. काव्य-गुण तीन होते हैं।
प्रसाद गुण, माधुर्य गुण और ओज गुण।

3 माधुर्य गुण की परिभाषा
लिखिए।

उत्तर. जिस काव्य रचना को पढ़ने/
सुनने से पाठक/ श्रोता का चित्त प्रसन्नता से प्रफुल्लित हो जाता है वहाँ माधुर्य
गुण माना जाता है।

अथवा

जिस काव्य रचना से चित्त आह्लाद
से द्रवित हो जाए,  उस काव्य-गुण को
माधुर्य गुण कहते हैं।

4 प्रसाद गुण की परिभाषा लिखिए।

उत्तर. जिस काव्य रचना को सुनते
ही अर्थ समझ में आ जाए,  वहाँ प्रसाद गुण
माना जाता है।

5 प्रसाद गुण किन-किन रसों में
प्रयुक्त होता है?

उत्तर. वैसे तो सभी रसों में
प्रयुक्त होता है किंतु करुण, हास्य, शांत और वात्सल्य रस में मुख्यतः प्रयुक्त
होता है।

6 माधुर्य गुण किन रसों में
प्रयुक्त होता है?

उत्तर. शृंगार, शांत और करुण रस
में प्रयुक्त होता है।

छंद शास्त्र

 

·       प्रवर्तक आचार्य- पिंगल

·       छंद शब्द संस्कृत भाषा की छद् धातु में असुन प्रत्यय जुड़ने से बना
है।

·       छंद शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है- बाँधना, फुसलाना, प्रसन्न करना
या मात्राओं का ध्यान रखना।

·       परिभाषा- साहित्य की ऐसी रचना जिसमें  यति, गति, 
पाद, चरण, दल इत्यादि के नियम लागू होते हैं, उसे छंद कहते हैं।

छंद शब्द का प्रथम उल्लेख
ऋग्वेद में मिलता है। ऋग्वेद के 10 वें सूक्त( पुरुष सूक्त)के 90 वें मंडल के 9
वें मंत्र में प्राप्त होता है। हमारे छंदशास्त्र में वेद के छह
अंग स्वीकार किए गए हैं। उनमे से छंदशास्त्र को एक अंग माना गया है। छंदशास्त्र को
वेदपुरुष के पैर अंग के रूप में स्वीकार किया गया है।

 

आँख- ज्योतिष

ü कान- निरुक्त

ü नाक- शिक्षा

ü मुख- व्याकरण

ü हाथ- कल्प

ü पैर- छंद।

लौकिक साहित्य के अंतर्गत
आचार्य पिंगल को छंदशास्त्र का प्रवर्तक आचार्य माना जाता है।  इनके द्वारा रचित छंदःसूत्र ग्रन्थ (सातवीं सदी
ई. पू.)को छंदशास्त्र का आदिग्रंथ माना जाता है।

छंदों का वर्गीकरण

(1) मात्रिक छंद- जिस छंद की
पहचान मात्राओं के आधार पर होती है उन्हें मात्रिक छन्द कहते हैं। जैसे दोहा,
सोरठा, चौपाई इत्यादि।

(2) वर्णिक छंद- जिन छंदों की
पहचान वर्णों की संख्या एवं गणों के आधार पर होती है उन्हें वर्णिक छंद कहते हैं।

v सम छंद- जिस छंद के प्रत्येक चरण में समान लक्षण (मात्राएँ एवं
वर्ण) पाए जाते हैं उन्हें सम छंद कहते हैं; जैसे चौपाई और द्रुतविलंबित आदि।

v अर्द्धसम छंद- जिस छंद के आधे-आधे चरणों में समान लक्षण पाए जाते
हैं उन्हें अर्द्धसम छंद कहते हैं। अर्थात सम और विषम चरणों में समान लक्षण होना; जैसे
दोहा और सोरठा आदि।

मात्रा-  किसी भी स्वर के उच्चारण
में लगने वाले समय को ही मात्रा कहते हैं। छंद में दो प्रकार की मात्राएँ होती
हैं-

(1) लघु मात्रा- खड़ी पाई (I)  संख्या-
1

(2) दीर्घ मात्रा- वक्र रेखा (S)  संख्या-
2

मात्रा निर्धारण के नियम

1)     मात्रा सदैव स्वर वर्णों के साथ ही लगती है।

2)     ह्रस्व स्वरों (अ, इ, उ, ऋ) के साथ लघु तथा दीर्घ स्वरों(आ, ई, ऊ,
ए, ऐ, ओ, औ) के साथ गुरु मात्रा लगती है।

3)     यदि किसी ह्रस्व स्वर के तुरंत बाद कोई आधा अक्षर/ हलंत वर्ण/
विसर्ग/ संयुक्ताक्षर आ रहा हो तो ह्रस्व होने के बावजूद भी उस पर गुरु मात्रा का
प्रयोग किया जाएगा।

4)     यदि किसी स्वर पर अनुस्वार का प्रयोग हो रहा हो तो उस पर भी गुरु
मात्रा का ही प्रयोग किया जाएगा। जबकि लघु स्वर के साथ अनुनासिक (चन्द्रबिन्दु) का
प्रयोग हो रहा हो तो लघु मात्रा ही मानी जाएगी और दीर्घ स्वर पर चन्द्रबिन्दु का
प्रयोग हो रहा हो तो उसे गुरु माना जाएगा।

जैसे    हंस- S I (3 मात्राएँ)

                   हँस- I I (2 मात्राएँ)

गण- तीन वर्णों के समूह को गण कहते हैं। छन्दशास्त्र में कुल 8 गण
माने जाते हैं। गण निर्धारण के लिए निम्न सूत्र काम में लिया जाता है| :-  यमाताराजभानसलगा

क्रम

संख्या  गण का नाम.                         सूत्र.                       मात्रा.                   अन्य नाम.    उदाहरण

1       यगण                               यमाता                       (ISS)              आदिलघु.      यशोदा/ सुनीता

2       मगण                               मातारा                       (SSS)             सर्व
गुरु       जामाता/आमादा

3       तगण                               ताराज                       (SSI)               अंत लघु       दामाद/
सामान/ नाराज

4       रगण                                राजभा                        (SIS)              मध्य
लघु      आरती/ भारती/ पार्वती

5      जगण                                जभान                        (ISI)               मध्य
गुरु      गुलाब/ जवान/ नवीन

6      भगण                                भानस                         (SII)              आदि
गुरु       भारत/ मानव/ राहुल

7      नगण                                 नसल                          (III)         सर्व
लघु       सुमन/ नमक/ नक़ल/ फसल

8     सगण                                 सलगा                         (IIS)             अंत गुरु        सरिता/ ममता/ सलमा

 

प्रश्न- हरिगीतिका छंद की
परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए अथवा हरिगीतिका छंद को उदाहरण सहित समझाइए

उत्तर- हरिगीतिका सममात्रिक छंद
होता है। इसके प्रत्येक चरण में  28-28
मात्राएँ होती हैं तथा यति हमेशा 16-12 मात्राओं पर होती है। तुक प्रत्येक चरण के
अंत में मिलती है। उदाहरण-

·       कहती हुई यों उत्तरा के, नेत्र जल से भर गए।

·       हिम के कणों से मानो पूर्ण, हो गए पंकज नए।

·       श्रीरामचंद्र कृपालु भजु मनहरण भव भय दारुणम्।

·       नवकंज लोचन कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम्।।

प्रश्न- छप्पय छंद की परिभाषा
उदाहरण सहित लिखिए।

उत्तर- यह विषम मात्रिक छंद
होता है। रोला और उल्लाला से बने इस मिश्रित छंद में 6 पंक्तियाँ होती हैं। इसकी
प्रथम 4 पंक्तियों में 24-24 तथा अंतिम 2 में 28-28 मात्राएँ होती हैं। प्रथम 4
पंक्तियों में 11-13 पर तथा अंतिम 2 में 15-13 पर यति होती है। सूत्र- छप-छप
रोऊँ(रोला और उल्लाला)

उदाहरण

नीलांबर परिधान हरित पट पर सुंदर है।

सूर्य चंद्र युग मुकुट मेखला रत्नाकर है।।

नदियाँ प्रेम प्रवाह फूल तारामंडल हैं।

बंदीजन खगवृंद शेषफन सिंहासन है।।

करते अभिषेक पयोद हैं बलिहारी इस देश की।

हे मातृभूमि! तू सत्य ही सगुण मूर्ति सर्वेश की।।

 

प्रश्न- कुंडलिया छंद की उदाहरण
सहित परिभाषा लिखिए।

उत्तर- यह विषम मात्रिक छंद
होता है। दोहा और रोला छंद से बने इस मिश्रित छंद में 6 पंक्तियाँ होती हैं। प्रथम
2 पंक्तियों में 13-11 पर तथा अंतिम 4 पंक्तियों में 11-13 पर यति होती है। जिस
शब्द से इसका आरंभ होता है वही इसका अंतिम शब्द भी होता है। दूसरी पंक्ति का दूसरा
चरण तीसरी पंक्ति का प्रथम चरण होता है। सूत्र- कुंडली मारनो दोरो(दोहा और रोला)
काम

उदाहरण-

Ø बिना विचारे जो करे, सो पाछै पछताए।

Ø काम बिगारै आपनो, जग में होत हँसाय।।

Ø जग में होत हँसाय, चित्त में चैन ना पावे।

Ø खान-पान सम्मान, राग रंग मनहिं न भावे।

Ø कह गिरधर कविराय, दु:ख कछु टारै न टरै।

Ø खटकत है जिय माहिं, किया जो बिना विचारे।।

Ø लाठी में गुन बहुत हैं सदा राखिए संग

Ø नदियाँ नाला जहाँ पड़ै तहाँ बचावत अंग।

Ø तहाँ बचावत अंग झपट कुत्ते को मारै।

Ø दुश्मन दामनगीर ताही का मस्तक फारै।

Ø कह गिरधर कविराय सुनो हे धुर के साठी।

Ø सब हथियारन छोड़ हाथ में राखिए लाठी।।

 

प्रश्न. सवैया छंद की परिभाषा
उदाहरण सहित लिखिए।

उत्तर- यह वर्णिक छंद होता है इसके
प्रत्येक चरण में 22 से 26 तक वर्ण होते हैं। वर्णों की संख्या के आधार पर सवैया
के 11 भेद होते हैं।

उदाहरण-

v या लकुटी अरु कामरिया पर राज तिहूँ पुर को तजि डारो।

v आठहुँ सिद्धि नवोंनिधि को सुख नंद की धेनु चराय बिसारौं।

v रसखान कबौं इन आँखिन सों ब्रज के बन बाग तड़ाग निहारौं।

v कोटिक हूँ कलधौत के धाम करील के कुंजन ऊपर वारो।।

 

प्रश्न- अन्योक्ति अलंकार की
परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए।

उत्तर. जब कवि अप्रस्तुत(उपमान)
का वर्णन करके प्रस्तुत(उपमेय) का बोध कराता है तो वहाँ अन्योक्ति अलंकार माना
जाता है। इसे अप्रस्तुत प्रशंसा भी कहते हैं। इसे अन्योक्ति इसलिए कहा जाता है कि
इसमें जिसे कुछ कहना होता है सीधे उसे न कहकर दूसरे के माध्यम या सहारे से कहा
जाता है।

उदाहरण.

*  नहीं पराग नहीं मधुर मधु, नहीं विकास इहिं काल।

*

  अलि कली ही सौ बंध्यो, आगे कौन हवाल।

*  माली आवत देखकर, कलियन करी पुकारि।

*  फूले-फूले चुन लिए, काल्हि हमारी बारि।।

 

प्रश्न. विभावना अलंकार की
परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए।

उत्तर. प्रत्येक कार्य के पीछे
कोई न कोई कारण(साधन) अवश्य होता है परंतु जब कहीं पर कारण के बिना ही किसी कार्य
की उत्पत्ति हो जाती है तो वहाँ विभावना अलंकार माना जाता है। इस विभावना को प्रकट
करने के लिए बिन, बिना, बिनु, रहित जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है।

जब किसी पद में कारण(साधन) के
अभाव में ही किसी कार्य का होना वर्णित किया जाता है तो वहाँ विभावना अलंकार माना
जाता है।

उदाहरण-

(1)   निन्दक नियरे राखिए आँगन कुटी छवाय।

(2)   बिन पानी साबुन बिना निर्मल करे सुभाय।

नोट.  साबुन एवं पानी जैसे साधनों के बिना भी
कार्य(निर्मल) सिद्ध हो रहा है

 

प्रश्न. व्यतिरेक तथा प्रतीप
अलंकार में अंतर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर. व्यतिरेक अलंकार में
गुणों की अधिकता देखकर उपमेय को उपमान से श्रेष्ठ बताया जाता है इसमें उपमेय उपमान
के किसी गुण में तुलना का भाव नहीं रहता। इसके विपरीत प्रतीप अलंकार में दोनों में
किसी एक गुण के बारे में तुलना होती है तथा उपमेय को उपमान से श्रेष्ठ बताया जाता
है। उदाहरण.

§  व्यतिरेक-  संत हृदय नवनीत
समाना कहा कविन्ह परि कहि नहिं जाना।

§  निज प्रताप द्रवै नवनीता पर दुरूख द्रवहि सुसंत पुनीता।

§  प्रतीप-  राधे तेरो बदन
विराजत नीको।

§  जब तू इत उत विलोकति निसि निसि पति लागत फीको



पाठ्य पुस्तक सरयू से लघूरात्त्मक प्रश्न और उनके जवाब

पाठ. गुल्ली.डंडा

लेखक. प्रेमचंद (मूलनाम- धनपतराय)

20 गया का मित्र या कथानायक बड़ा
होकर किस पद पर पहुँचता है?

उत्तर. कथानायक बड़ा होकर जिला
इंजीनियर के पद पर नियुक्त होता है।

21 गया बड़ा होकर क्या बनता है?

उत्तर. गया बड़ा होकर डिप्टी
साहब का साइस बनता है।

22 गया के व्यक्तित्व की तीन
विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर. (अ) गया गरीब पारिवारिक
लंबाए पतला और काला-सा लड़का था।

(ब) गया गुल्ली-डंडे का कुशल
खिलाड़ी था।

(स) गया समझदार था। वह कथानायक
का आदर करता था। जबकि वो ये भी जानता था कि वह खेल में बेईमानी कर रहा है।

23 गुल्ली-डंडे को खेलों का
राजा क्यों कहा जाता है?

उत्तर. गुल्ली-डंडा नामक खेल के
सामान अन्य खेलों की भाँति महँगे नहीं होते हैं। किसी भी पेड़ की टहनी काटकर गुल्ली
और डंडा बनाया जा सकता है और इसके लिए किसी प्रकार के कोर्ट, लॉन, नेट या थापी की
जरूरत नहीं पड़ती। टीम के लिए ज्यादा खिलाड़ियों की जरूरत भी नहीं होती। दो लोग भी
इसे खेल सकते हैं। इन्हीं सब खूबियों के कारण गुल्ली-डंडा खेलों का राजा माना जाता
है।

24 कथानायक और गया के बीच
स्मृतियाँ सजीव होने में कौनसी बात बाधक बनती है और क्यों?

उत्तर. कथानायक का बड़े पद पर
नियुक्त होना और गया का एक साइस होना अर्थात पद और प्रतिष्ठा ही इन दोनों के बीच
की स्मृतियों के सजीव होने में बाधक बनती है। गया को जब पता चलता है कि उसका बचपन
का मित्र अब जिला इंजीनियर बन गया है तो वह समझ जाता है कि अब उनमें बचपन की सी
समानता नहीं रही। इसी कारण वह कथानायक का आदर करता है। बस यही बात उनकी स्मृतियों
को सजीव होने में बाधक बनती है।

25 “कुछ ऐसी मिठास थी
उसमें कि आज तक उससे मन मीठा होता रहता है” इस कथन में लेखक किस मिठास की बात
कर रहा है?

उत्तर. बचपन में लेखक गया के
साथ गुल्ली.डंडा खेल रहा था। लेखक बिना दाँव दिए ही घर जाना चाहता था जबकि गया उसे
बिना दाँव के घर जाने नहीं देना चाहता था। इसी बात पर दोनों में झगड़ा होता है और
गया ने कथानायक की पीठ पर डंडा मारा था। लेखक ने डंडे की उसी मार को मीठी याद
बताया है। लेखक कहता है कि उसमें जो मिठास थी वो उच्चपदए प्रतिष्ठा और धन में भी
नहीं है।

26 “वह बड़ा हो गया और मैं
छोटा” लेखक को ऐसा अनुभव कब और क्यों हुआ?

उत्तर. लेखक ने देखा कि भीमताल
में खेलते समय गया कुछ अनमना था। वह पूरी कुशलता के साथ नहीं खेल रहा था। वह
कथानायक की बेईमानियों का विरोध भी नहीं कर रहा था। वास्तव में वह खेल नहीं रहा था
बल्कि खेल का बहाना करके लेखक को खिला रहा था। लेखक का मानना था कि इसका कारण
दोनों के पदए प्रतिष्ठा और आर्थिक स्थिति में अंतर होना था। गया लेखक को अपनी जोड़
का खिलाड़ी नहीं मान रहा था। जबकि दूसरे दिन उसने बहुत ही शानदार खेल दिखाया था। बस
यही कारण था कि लेखक के मुँह से अनायास ही निकल गया कि वह बड़ा हो गया और मैं छोटा।

27 ‘गुल्ली-डंडा’ कहानी  के आधार पर प्रेमचंद की भाषा.शैली पर संक्षिप्त
टिप्पणी लिखिए।

उत्तर. ‘गुल्ली-डंडा’ कहानी के
लिए प्रेमचंद ने सरल और विषयानुकूल भाषा का चयन किया है। उनकी भाषा में संस्कृत के
तत्सम शब्द हैं तो उर्दू के शब्द भी हैं और बोलचाल भी भाषा के शब्द भी शामिल हैं।
मुहावरों का भी सुंदर और प्रभावी प्रयोग किया गया है। इस कारण भाषा में एक प्रवाह
बन पड़ा है। शैली वर्णनात्मक तो है ही साथ ही प्रसंग के अनुसार विवेचनात्मकए
विचारात्मक और व्यंग्यात्मक भी है।

28 लेखक के अनुसार बच्च्चों में
ऐसी कौनसी शक्ति होती है जो बड़ों में नहीं होती?

उत्तर. लेखक के अनुसार बच्चों
में मिथ्या;झूठद्ध को सत्य मानने की शक्ति होती है जो बड़ों में नहीं होती है। बड़े
तो सत्य को भी मिथ्या बना देते हैं जबकि बच्चे मिथ्या को सत्य बना लेते हैं। इसी
कारण अपने पिता का तबादला होने पर वह अपने साथियों से कहता है कि अब वह शहर जा रहा
है। वहाँ आसमान छूते ऊँचे मकान हैं। स्कूल में मास्टर बच्चों को मारे तो उसे जेल
जाना पड़ता है। हालांकि वह झूठ बोल रहा था लेकिन उसके दोस्त उसकी बातों को सत्य मान
रहे थे।

पाठ. मिठाईवाला

लेखक. भगवती प्रसाद वाजपेयी

29 मिठाईवाला कहानी में किन-किन
रूपों में आया था?

उत्तर. मिठाईवाला निम्न तीन
रूपों में आया था- खिलौनेवाला मुरलीवाले और मिठाईवाले के रूप में।

30 मिठाई वाला कहानी की मूल
संवेदना क्या है?

उत्तर. ये एक युवा की कहानी है
जिसके दो बच्चों का देहांत समय से पहले हो जाता है। इससे उसके मन में भारी पीड़ा
उत्पन्न होती है। इसी पीड़ा को कम करने के लिए वह बच्चों के बीच अपना समय व्यतीत
करता है। वह खिलौनोंए मुरली और मिठाई से उनको खुश करने का प्रयास करता है। इससे
उसे भी खुशी और संतोष की प्राप्ति होती है। कहानी की मूल संवेदना भी यही है कि हम
अपने व्यवहार और वाणी से किसी को खुशी देकर खुद भी खुश हो सकते हैं। प्रेम और खुशी
बाँटकर ही व्यक्ति खुश हो सकता है और अपने दुःख या अभाव को भूला सकता है।

31 ‘पेट जो न कराए सो थोड़ा’ इस
कथन से कौनसा मनोभाव प्रकट होता है?

उत्तर. रोहिणी अपने घर से मुरलीवाले
कि बात सुन रही थी। वह बड़े प्यार से और सस्ते भाव से बच्चों को चीजें बेच रहा था।
उसे वह भला आदमी लगा। फिर वह सोचती है कि समय का फेर है। बेचारे को अपना पेट भरने
के लिए ये सब करना पड़ रहा है। पेट जो न करवाएए सो थोड़ा। इस कथन से रोहिणी का
मुरलीवाले के प्रति दया और सहानुभूति के मनोभाव प्रकट होते हैं।

32 मिठाईवाले ने अपनी मिठाई की
क्या-क्या विशेषताएँ बताईं?

उत्तर.  मिठाईवाले ने बताया कि उसकी मिठाइयाँ नई तरह की
हैं। वे रंग-बिरंगी कुछ खट्टी, कुछ मीठी तथा जायकेदार हैं। वे मुँह में जल्दी नहीं
घूलती। उनमें से कुछ चपटी कुछ गोल और कुछ पहलदार हैं बच्चे इनको बड़े चाव से चूसते
हैं और इनसे खाँसी भी दूर होती है।

33 मुरलीवाला एकदम अप्रतिभ
क्यों हो गया?

उत्तर. जब विजय बाबू मुरलीवाले
से मुरली का मोलभाव करते हैं तो वह उसे कहते हैं कि तुम लोगों की झूठ बोलने की आदत
होती है। मुरली तो सभी को दो-दो पैसे में ही दे रहे हैं परंतु एहसान का बोझ मेरे
ऊपर लाद रहे हैं। विजय बाबू की इस प्रकार की कठोर और अविश्वास से भरी बात सुनकर
मुरलीवाला उदास और अप्रतिभ हो जाता है क्योंकि वह बच्चों की खुशी पाने के लिए
चीजें सस्ती बेच रहा था। धन कमाना उसका उद्देश्य नहीं था।

34 मिठाईवाला कहानी के आधार पर
समझाइए कि मनुष्य अपने जीवन के अभाव की पूर्ति स्वयं को विश्व से जोड़कर कर सकता है
तथा सुख संतोषपूर्ण जीवन जी सकता है।

उत्तर.  मिठाईवाला पंडित भगवतीप्रसाद वाजपेयी की एक
उद्देश्यपूर्ण कहानी है। मानव जीवन में अभाव तथा कष्टों का आना स्वाभाविक है। कुछ
लोग अपना अभावग्रस्त जीवन अन्य अभावों के बारे में सोचते.सोचते और दुःख सहते हुए
बिताते हैं। समझदार लोग दूसरों के अभावए 
पीड़ाए रोग आदि से मुक्त करके अपने अभाव को भूल जाते हैं। वे खुद को संसार
से जोड़ देते हैं तथा दूसरों के सुख.दुःख में सहभागी बनते हैं। इस प्रकार उनके अपने
अभाव महत्त्वहीन हो जाते हैं। उल्टे दूसरों को सुख और संतोष पहुंचाकर वे स्वयं भी
सुखी और संतुष्ट होते हैं। मिठाईवाला अपने बच्चों को सभी बच्चों में देखता है उनको
प्रसन्नता देकर उसे भी सुख मिलता है वह उनको खुशी से उछलता-कूदता देखकर, उनकी
तोतली बातें सुनकर सुखी और संतुष्ट होता है और खुद के बच्चों के बिछोह की पीड़ा को
भूल जाता है। कहानीकार को यह बताने में सफलता मिली है कि मनुष्य अपने जीवन के अभाव
और संकटों से मुक्ति पा सकता है यदि वह स्वयं को समाज से जोड़ दें और दूसरों के सुख
में ही अपना सुख खोजे।

पाठ.शिरीष के फूल

लेखक. हजारी प्रसाद द्विवेदी

प्रश्न. ‘धरित्री निर्धूम
अग्निकुंड बनी हुई थी’ पंक्ति से क्या आशय हैघ्

उत्तर. आशय यह है कि धरती किसी
अग्निकुंड की तरह तप रही थी बस उसमें से धुँआ नहीं निकल रहा था।

प्रश्न. शिरीष का फूल संस्कृत
साहित्य में कैसा माना गया है?

उत्तर.  शिरीष का फूल संस्कृत साहित्य में अत्यंत कोमल
माना गया है।

प्रश्न.  लेखक ने शिरीष के फूल को कालजयी अवधूत की तरह
क्यों बताया है?

उत्तर. अवधूत अनासक्त होता है
वह संसार के सुख.दुःख में समरस होकर जीता है। इसी कारण वह काल को जीतने में समर्थ
होता है शिरीष का फूल भी ऐसा ही है। जब चारों ओर भीषण गर्मी पड़ती है लू के थपेड़े
लगते हैं। धरती निर्धूम अग्निकुंड बन जाती है तब भी शिरीष हरा-भरा और फूलों से लदा
रहता है। जब कोई फूल खिलने का साहस नहीं करता उस समय भी फूलों से लदा रहता
है।                                     

प्रश्न. काल के कोड़ों की मार से
कौन बच सकता है?

उत्तर.  काल देवता अर्थात मृत्यु निरंतर कोड़े चला रहा
है। कुछ लोग समझते हैं कि वे जहां है वही बने रहे तो काल देवता की आंख से बच
जाएंगे। ऐसे लोग भोले और अज्ञानी होते हैं। जो बचना चाहते हैं उनको निरंतर गतिशील
रहना चाहिए एक ही स्थान पर जमे नहीं कि गए नहीं। इससे तात्पर्य यह है कि निरंतर
कर्मरत और प्रगतिशील रहना ही काल की मार से बचने के लिए जरूरी है।

प्रश्न. शिरीष के फूल द्विवेदी
जी का एक संदेशपरक निबंध है। इसमें लेखक ने जो संदेश दिया है उसे अपने शब्दों में
लिखिए।

उत्तर. शिरीष के फूल
हजारीप्रसाद द्विवेदी की एक उद्देश्यपरक निबंधात्मक रचना है। इसमें लेखक ने बताया
है कि विपरीत परिस्थितियों में रहकर भी शांत और एक सुखद जीवन जिया जा सकता है।
लेखक जब शिरीष को देखता है तो विस्मयपूर्ण आनंद से भर जाता है। भीषण गर्मी में भी
शिरीष हरे-हरे पत्तों और फूलों से लद जाता है। लेखक को लगता है कि वह कठिन
परिस्थितियों से अप्रभावित अवधूत है। मनुष्य के भी जीवन में कठिनाइयां आती है
किंतु उनसे अप्रभावित रहकर अपने कर्तव्य पथ पर दृढ़ता से चलना चाहिए।

लेखक ये संदेश देता है कि
मनुष्य जीवन के चरम सत्य को समझे। संसार परिवर्तनशील है। वृद्धावस्था तथा मृत्यु
अनिवारणीय है। जो किसी पद पर अधिकार प्राप्त जन है उनको पदए अधिकार और धन लिप्सा
से मुक्त रहना चाहिए। शिरीष समदर्शी तथा अनासक्त है। गांधीजी अनासक्त कर्मयोगी थे।
कालिदास योगी के समान विरक्त किंतु विदग्ध प्रेमी थे। कबीर मस्त मौला थे। मनुष्य
को इसी प्रकार का अनासक्त जीवन जीना चाहिए।

प्रश्न. शिरीष के पुराने फलों
को देखकर लेखक को किनकी और क्यों याद आती है?

उत्तर.  शिरीष के फूल बहुत मजबूत होते हैं। वे नए फूल आ
जाने पर भी अपना स्थान नहीं छोड़ते जब तक कि नए पत्ते और फल मिलकर उनको वहाँ से हटा
न दें। पुराने लड़खड़ाते फलों को देखकर लेखक को भारत के उन बूढ़े नेताओं की याद आती
है जो युवा पीढ़ी को काम करने तथा आगे बढ़ने का अवसर नहीं देते तथा अपनी मृत्यु तक
अपने पद पर बने रहना चाहते हैं। इन नेताओं और शिरीष के पुराने फलों का स्वभाव एक
जैसा है इसलिए लेखक को इनकी याद आ जाती है।

प्रश्न. हाय वह अवधूत आज कहाँ
है? लेखक ने अवधूत किसे कहा है? आज उसकी आवश्यकता लेखक को क्यों महसूस हो रही है?

उत्तर. हाय वह अवधूत आज कहाँ
है?  द्विवेदीजी महात्मा गांधी को अवधूत कह
रहे हैं तथा उनको स्मरण कर रहे हैं। गांधीजी शिरीष की तरह अनासक्त थे। उस समय
विश्व में सर्वत्र हिंसा तथा अन्यायए अत्याचार तथा शोषण फैला हुआ था। उस सबसे
अविचलित महात्मा गांधी सत्य और अहिंसा के मार्ग पर दृढ़ता से चल रहे थे। आज भी भारत
और विश्व के अन्य देशों में उपद्रव, मारकाट, 
खूनखराबा व लूटपाट का वातावरण है। आतंकवाद विश्व के सभी देशो में फैल चुका
है। धर्म के नाम पर दूसरे धर्म को मानने वाले लोगों की हत्या हो रही हैं। प्रेम और
सद्भाव नष्ट किया जा रहा है। विश्व को इस वातावरण से मुक्ति दिलाने में महात्मा
गांधी ही समर्थ हो सकते हैं। अतः लेखक को गांधीजी की याद आ रही है। उसका मन उनकी
अनुपस्थिति को लेकर व्याकुल है उसमें एक पीर, एक टीस उठ रही है। हाय अहिंसा का वह
अग्रदूत आज नहीं रहा। काश आज गांधी होते तो लोगों से कहते। तुम मनुष्य होए उसी एक
परमपिता की संतान हो, क्यों एक-दूसरे की जान ले रहे हो? जिसे तुम धर्म समझ रहे हो
वह धर्म नहीं है। धर्म तो मनुष्य से प्रेम करना तथा उसकी पूजा करना है। गांधी आज
भी प्रासंगिक है वह लेखक को याद आ रहे हैं।

पाठ. पाजेब

लेखक- जैनेंद्र (मूलनाम-
आनंदीलाल)

प्रश्न. जैनेंद्र किस प्रकार के
कथाकार के रूप में प्रसिद्ध हैं?

उत्तर.जैनेंद्र मनोवैज्ञानिक
कथाकार के रूप में प्रसिद्ध हैं।

प्रश्न. आशुतोष निरपराध होते
हुए भी पाजेब चुराने की बात क्यों स्वीकार कर लेता है?

उत्तर. आशुतोष ने पायल नहीं
चुराई थी किंतु वह उसकी चोरी करना स्वीकार कर लेता है क्योंकि वह अबोध बच्चा था।
उसकी बुद्धि अविकसित थी वह तर्कपूर्ण ढंग से अपनी बात नहीं रख पाया। पिता के
प्रभावए स्नेह, भय तथा प्रलोभन आदि के कारण वह सही बात नहीं कर पाया। जो कुछ उसके
पिता कहलवाना चाहते थे वह वही कह देता था। वह दृढ़तापूर्वक अपनी बात नहीं रख पाया
कि उसने चोरी नहीं की थी।

प्रश्न. मैंने स्थिर किया कि
अपराध के प्रति करुणा ही होनी चाहिए रोष का अधिकार नहीं है लेखक के इस निश्चय का
क्या कारण थाघ् क्या आप इससे सहमत हैं अथवा नहीं?

उत्तर. लेखक को संदेह हुआ कि
आशुतोष ने पाजेब चुराई है अपराध स्वीकृति के लिए उस पर बल प्रयोग को उसने उचित
नहीं माना। उसका मत है कि क्रोध करने से बात बिगड़ जाती है। अपराधी में विशेष रूप
से यदि वह बच्चा हो तो जिद्द तथा विरोध की भावना पनप जाती है। इसके विपरीत
करुणापूर्ण व्यवहार करने से वह अपने अपराध को आसानी से स्वीकार कर लेता है। हम
इससे सहमत हैं यह एक मनोवैज्ञानिक सत्य है।

प्रश्न. पाजेब कहानी बाल
मनोविज्ञान पर आधारित कहानी है। कथन की समीक्षा कीजिए

उत्तर. बालकों के मन की विशेषता
बताने वाले ज्ञान को बाल मनोविज्ञान कहते हैं। बच्चे मन से भोले और सरल होते हैं।
उनकी बुद्धि अविकसित एवं कोमल होती है। वे टेढ़े.मेढ़े तर्कों को नहीं समझ पाते।
उनकी बुद्धि तर्कपूर्ण भी नहीं होती। घुमा.फिराकर पूछे गए टेढ़े-मेढ़े प्रश्नों से
वे भ्रमित हो जाते हैं तथा सत्य क्या है यह ठीक तरह से बता नहीं पाते। इस तरह से
निरपराध होने पर भी अपराधी बना दिए जाते हैंए जो उनके लिए एक भयानक त्रासदी होती
है।

पाजेब कहानी की कथावस्तु तथा
पात्रों का चरित्र बाल-मनोविज्ञान पर आधारित है। आरंभ मुन्नी तथा उसके भाई आशुतोष
के बालहठ से होता है। बाद में कथानक का विकास पाजेब के खोने तथा उसके बारे में
आशुतोष के साथ पूछताछ करने से हुआ है। कोमल मन का बालक अपने पिता के तर्कपूर्ण तथा
घुमा-फिराकर पूछे गए प्रश्नों का उत्तर नहीं दे पाता है और चोरी करना स्वीकार कर
लेता है।

कहानी के पात्रों का
चरित्र.चित्रण भी मनोविज्ञान के अनुरूप ही हुआ है आशुतोष का चरित्र बाल-मनोविज्ञान
का सजीव चित्र है इसे प्रभावशाली बनाने में बाल-मनोविज्ञान का गहरा योगदान है।

प्रश्न. लेखक के अनुसार अपराध
प्रवृत्ति को किस प्रकार जीता जा सकता है?

उत्तर. लेखक का मानना है कि
अपराध की प्रवृत्ति को दंड से नहीं बदला जा सकता। अपराध के प्रति करुणा होनी चाहिए
रोष नहीं। अपराध की प्रवृत्ति अपराधी के साथ प्रेम का व्यवहार करने से ही दूर हो
सकती है उसको आतंक से दबाना ठीक बात नहीं है। बालक का स्वभाव कोमल होता है अतः
उसके साथ स्नेह का व्यवहार होना चाहिए।

 

पाठ. अलोपी

लेखिका. महादेवी वर्मा

प्रश्न. अलोपी पाठ किस
गद्य-विधा की रचना है?

उत्तर. अलोपी संस्मरण गद्य.विधा
की रचना है।

प्रश्न. अलोपी के चक्षु के अभाव
की पूर्ति किसने की?

उत्तर. अलोपी के चक्षु के अभाव
की पूर्ति उसकी रसना अर्थात जीभ ने की।

प्रश्न. ‘आज के पुरुष का
पुरुषार्थ विलाप है’ लेखिका ने ऐसा क्यों कहा है?

उत्तर. लेखिका ने महसूस किया कि
आज का पुरुष कर्तव्यनिष्ठ तथा परिश्रमी नहीं है वह श्रमपूर्वक कठोर जीवन न बिताकर
अपनी निराशा और अभावों की शिकायतें करता रहता है। वह हर समय अपने दुर्भाग्य का
रोना रोता रहता है। आधुनिक पुरुष की ऐसी अवस्था देखकर महादेवी ने रोने-पीटने को ही
उसका पुरुषार्थ बताया है।

प्रश्न. ‘गिरा अनयन नयन बिनु
बानी’ लेखिका इन शब्दों को किस संदर्भ में ठीक मानती है?

उत्तर. महादेवी ने नेत्रहीन
अलोपी को छात्रावास में ताजा सब्जी लाने का काम सौंपा था। अलोपी नेत्रहीन था किंतु
उसको वाणी का वैभव प्राप्त था। वह बालक रघु के मार्गदर्शन में नित्य छात्रावास आता
था। ये दोनों छात्रावास में विनोद के केंद्र बन गए थे। धीरे-धीरे अलोपी उन सबका
प्रिय बन गया था। इसलिए छात्रावास के माहौल को देखकर ऐसा कहा जा सकता है कि गिरा
अनयन नयन बिनु बानी। गिरा बताने का काम करती है परन्तु उसके आँख नहीं होती। इसलिए
उसने कुछ देखा नहीं और नयन बिनु बानी अर्थात आँखे देख तो लेती हैं लेकिन वह बता
नहीं पाती क्योंकि उनके वाणी नहीं है।

प्रश्न. यह सत्य होने पर भी
कल्पना जैसा जान पड़ता है इस कथन में कौनसे सत्य का उल्लेख है जो कल्पना जैसा जान
पड़ता है?

उत्तर. अलोपी साहसी, पराक्रमी व
कठोर परिश्रमी था। वह सब्जियों से भरी भारी डलिया सिर पर उठाकर संतुलन बनाकर चल
लेता था। जब उसकी पत्नी उसको धोखा देकर चली गई तो अलोपी को गहरा आघात लगा। उसका सब
साहस, संपूर्ण विश्वास तथा समस्त आत्मविश्वास को संसार का एक विश्वासघात निगल गया
था यह बात सत्य है किंतु कल्पना के समान लगती है।

प्रश्न. ऐसे आश्चर्य से मेरा
कभी साक्षात नहीं हुआ था महादेवी को अलोपी के बारे में क्या अपूर्वए आश्चर्यजनक
लगा था? स्पष्ट कीजिए।

उत्तर. अलोपी नेत्रहीन युवक था
उसने महादेवी को विश्वास दिलाया कि वह रघु की सहायता से उनके यहाँ ताजा तरकारियाँ
पहुँचाने का काम सफलता के साथ कर सकेगा। उसकी दृढ़ताए आत्मविश्वास तथा श्रम के
प्रति लगन देखकर महादेवी को विस्मय होता है। आजकल अनेक किशोर सुख की चीजें पाने के
लिए अपनी बूढ़ी माताओं से झगड़ते हैं जो बुढ़ापे में काम करती है। ऐसे-ऐसे युवक हैं
जो अपने निर्धन पिता का सब कुछ छीन लें तथा भीख माँगने में भी संकोच नहीं करते।
छोटे बच्चों का लालन-पालन छोड़कर दिनभर मजदूरी करके धन कमाने वाली अपनी पत्नी से
पैसे छीनकर शाम को शराब पीने या सिनेमा देखने वाले पुरुषों की भी कमी नहीं है आज
के पुरुष अपनी निराशा और असमर्थता का रोना रोते हैं। उनका पुरुषार्थ तथा पराक्रम
उनके रोने में ही प्रकट होता है ऐसे युवकों और पुरुषों के संसार में एक अलोपी भी
है जो अंधा होते हुए भी काम करता है और अपनी माँ को आराम देना चाहता है। अलोपी का
यह दृढ़ निश्चय महादेवी को आश्चर्य में डालने वाला था।

प्रश्न. अलोपी संस्मरण के नायक
अलोपी का चरित्र-चित्रण कीजिए।

उत्तर.अलोपी संस्मरण के नायक
अलोपी के चरित्र में प्रमुख गुण निम्न थे-

नेत्रहीन किंतु पराक्रमी- अलोपी
नेत्रहीन जरुर था किंतु पुरुषार्थहीन नहीं। वह साहस एवं आत्मविश्वास के साथ
सब्जियों से भरी डलिया उठाकर महादेवी वर्मा के यहाँ प्रतिदिन पहुँचाता है।

आत्मविश्वासी- अलोपी में गजब का
आत्मविश्वास था वह विश्वास दिलाता है कि वह रघु की सहायता और सहयोग से सब्जी लाने
का कठिन काम भी सफलतापूर्वक कर लेगा।

सभी के प्रति आदर एवं सद्भाव
रखने वाला- अलोपी बड़ों का आदर तथा महादेवी का सम्मान करता है महादेवी द्वारा
डाँटने पर भी वह कहता है जब आपकी आज्ञा नहीं है तब वह घर के बाहर पैर नहीं रखेगा।
उसके मन में भक्तिन से सद्भाव, उसे अपनी वृद्धमाता के प्रति चिंतित हैए वह अपनी
धोखेबाज पत्नी की शिकायत भी पुलिस से नहीं करता है।

परिश्रमी-  अलोपी कठोर परिश्रम करता है। काम करने से बचने
के लिए वह अपनी नेत्रहीनता का बहाना नहीं बनाता।

विश्वासघात से आहत- पत्नी का
विश्वासघात अलोपी को तोड़ देता है और वह एक दिन इस संसार को छोड़कर चला जाता है।


पाठ- संस्कारों और
शास्त्रों की लड़ाई (व्यंग्यात्मक निबंध)

लेखक- हरिशंकर परसाई

प्रश्न- लेखक मदर इन लॉ को
क्रांति की दुश्मन क्यों मानता है?

उत्तर- मदर इन लॉ क्रांतिकारी
दामाद के विचारों को बदल देती है। मदर इन लॉ क्रांति की दुश्मन होती है। वह
क्रांतिकारी के विचारों को बदल देती है। परिवार के संस्कारों के अनुसार आचरण करने
को विवश कर देती है। यदि वह न माने तो मदर इन लॉ बच्चों का ध्यान दिलाकर
क्रांतिकारी को परिवार की मान्यता और संस्कारों को मानने के लिए विवश कर देती है
इस प्रकार मदर इन लॉ क्रांतिकारी की क्रांति की भावना की दुश्मन बन जाती है।

प्रश्न. ष्बड़ा विकट संघर्ष
हैष्लेखक के मित्र में उसको किस विकट संघर्ष के बारे में बताया?

उत्तर. लेखक ने देखा कि परंपरा
तथा आडंबर के धुर विरोधी मित्र ने अपने सिर का मुंडन करवा लिया है तो उसने इसका
कारण जानना चाहा। मित्र ने बताया कि उसके पिता की मृत्यु हो गई है। वह उनका
पिंडदान करने प्रयाग जा रहा है। उसके सिद्धांतों का क्या हुआए यह जानने पर मित्र
ने बताया कि पारिवारिक संस्कारों तथा सिद्धांतों में जबरदस्त संघर्ष है। संस्कारों
के कारण उसे अपने सिद्धांत त्यागने पड़े।

प्रश्न. वह पाँव दरवाजे की तरफ
बढ़ाती है तो हाथ साँकल की तरफ चले जाते हैं। इस कथन में लेखक ने किस प्रथा पर
व्यंग्य किया है?

उत्तर.  इस कथन में लेखक ने पर्दा प्रथा पर व्यंग्य
किया है। स्त्रियों को घर में ही रहना होता था। वह पर्दे में रहती थी। वे घर से
बाहर नहीं जा सकती थीं। किसी को यहाँ तक कि अपने पति को बुलाने के लिए भी पुकारने
के स्थान पर उनको कुंडी बजानी होती थी पाँव दरवाजे की तरफ बढ़ाने और हाथ साँकल की
ओर चले जाने में इसी प्रथा की ओर संकेत किया गया है। यहाँ पाँव दरवाजे की तरफ
बढ़ाना रूढ़ियों से मुक्ति पाने के लिए प्रयोग किया गया है तथा हाथ साँकल पर चले
जाना पुरानी रूढ़ियों के लिए प्रयोग किया गया है।

प्रश्न. नारी मुक्ति में महंगाई
का क्या योगदान है? लेखक के मत से अपनी सहमति अथवा असहमति का उल्लेख तर्क सहित
कीजिए।

उत्तर. पहले स्त्रियों को घर के
अंदर रहना होता था तथा पर्दा भी करना होता था। वह बाहर नहीं जा सकती थी। घर में
पुरुषों से बातें नहीं कर सकती थी। समय बदला महँगाई बढ़ी और अकेले पति की कमाई से
घर का खर्च चलना मुश्किल हो गया तब पत्नी भी नौकरी करने लगी। इस प्रकार उसे बंधनों
से मुक्ति मिली और वह खुले वातावरण में साँस लेने लगी। नारी मुक्ति के लिए खूब
आंदोलन हुए हैं उसको इन आंदोलन के कारण मुक्ति नहीं मिली। उसे इस कारण भी मुक्ति
नहीं मिली कि समाज ने उसके व्यक्तित्व को मान्यता प्रदान कर दी है या पुरुषवादी
मानसिकता कमजोर हो गई है। उसको मुक्ति मिलने का कारण समाज में आधुनिक दृष्टिकोण की
वृद्धि होना भी नहीं है। लेखक के मत में इसका कारण बढ़ती हुई महंगाई है इसी के कारण
उसे घर से बाहर जाकर नौकरी करने का अवसर मिला है। जिससे वह दूसरों यहाँ तक कि
पुरुषों के साथ भी बात कर सकती है तथा साथ काम करती है। लेखक के मत से हम सहमत
हैं। आर्थिक दबाव अनेक स्थापित अवगुणों को ध्वस्त कर देता है। पर्दाप्रथा को नष्ट
करने में भी यह एक महत्त्वपूर्ण कारक बनकर सामने आया है।

प्रश्न. संस्कारों और शास्त्रों
की लड़ाई पाठ के लेखक ने किसे और क्यों द्वंद्वात्मक भौतिकवाद में फंसा माना है?

उत्तर. लेखक ने अपने एक
मार्क्सवादी मित्र को लेकर यह व्यंग्य किया है। यह मित्र एक तरफ तो बाहरी आडंबर और
अंधविश्वासों पर विश्वास नहीं करने का दावा करता है दूसरी ओर पिता की मृत्यु पर
सारे संस्कारों का पालन करते हैं इसीलिए लेखक ने उन्हें द्वंद्वात्मक भौतिकवादी
अर्थात दोहरी मान्यताओं के द्वंद्व में फँसा हुआ बताया है।

प्रश्न. लड़की की माता की किस
तरह की सोच से पता लगा कि अर्थशास्त्र ने संस्कारों को पटकनी दे दी?

उत्तर. माँ ने सोचा यह जो
15,000 दहेज के लिए रखे थे यह साफ बच गए। 15,000 में इतना अच्छा लड़का नहीं मिलता
उन्होंने कार्ड बाँटकर दावत दे दी। इस प्रकार अर्थशास्त्र ने संस्कारों को पटकनी
दे दी। पहले वह सरकारी शादी को बुरा समझती थी किंतु 15000 की बचत ने सारे
संस्कारों को समाप्त कर दिया।

 

सरयू का पद्य खंड

कबीर

प्रश्न. कबीर ने इस संसार को
किसके समान बताया है?

उत्तर. कबीर ने इस संसार को
सेमल के फूल के समान बताया है।

प्रश्न. कबीर के अनुसार गुरु और
गोविंद में क्या अंतर है?

उत्तर. कबीर के अनुसार गुरु और
गोविंद में कोई अंतर नहीं है। उनमें सिर्फ आकार (शरीर) का ही अंतर है।

प्रश्न. कबीर के दोहों को साखी
क्यों कहा जाता है?

उत्तर. कबीर ने जो कहा वो उनके
जीवन के अनुभव पर आधारित है। उन्होंने सुनी.सुनाई बातों पर नहीं लिखा है। उन्होंने
अपनी आँखों से जो देखा है वही अपने दोहों में व्यक्त किया है। आँखों देखी होने के
कारण उसे साक्ष्य अर्थात साखी कहा गया है।

प्रश्न. पीछें लागा जाई था, लोक
वेद के साथि। इस पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।

उत्तर. इस पंक्ति में कबीर ने
गुरु की महान उपकार के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट की है। जब तक गुरु का मार्गदर्शन
प्राप्त नहीं हुआ था तब तक कबीर भी बिना सोचे-समझे लोकाचार और मान्यताओं के
पिछलग्गू बने हुए थे। जब गोविंद की कृपा से उन्हें गुरु की प्राप्ति होती है या
गुरु का सान्निध्य प्राप्त होता है और गुरु ने उनके हाथ में ज्ञान रूपी दीपक थमाया
तब उन्हें दिखाई दिया कि वह तो अंधविश्वास के मार्ग पर चले जा रहे थे। गुरु ने
उनके उद्धार का मार्ग प्रशस्त किया है।

प्रश्न. ‘संतो भाई आई ज्ञान की
आँधी रे’ पद में कवि क्या संदेश देना चाहते हैं? स्पष्ट कीजिए

उत्तर. कबीर भले ही घोषणा करते
हैं कि उन्होंने मसि कागद छुयो नहीं कलम गही ना हाथ परंतु उन्होंने अपनी बात सटीक
प्रतीकों और रूपकों के द्वारा कहने में पूर्ण निपुणता दिखाई है। उपर्युक्त पद में
कबीर ने ज्ञान के महत्त्व को आलंकारिक शैली में प्रस्तुत किया है। उनकी मान्यता है
कि स्वभाव के सारे दुर्गुणों से मुक्ति पाने के लिए ज्ञान से बढ़कर और कोई दवा नहीं
है। जब हृदय में ज्ञान रूपी आँधी आती है तो सारे दुर्गुण एक-एक कर धराशायी होते
चले जाते हैं और अंत में साधक का हृदय प्रेम की रिमझिम वर्षा से भीग उठता है।
ज्ञान रूपी सूर्य का उदय होता है और अज्ञान का अंधकार विलीन हो जाता है। ज्ञान
प्राप्ति की साधना का यही संदेश इस पद द्वारा कबीर ने दिया है।

प्रश्न. ‘जल में उत्पत्ति जल
में वास, जल में नलिनी तोर निवास’ पंक्ति का मूलभाव लिखिए।

उत्तर. उपर्युक्त पंक्ति कबीर
के पद काहे री नलिनी तू कुम्हलानी से लिया गया है। इस पद में कबीर ने नलिनी
(कमलीनी) को जीवात्मा का और सरोवर के जल को परमात्मा का प्रतीक माना है। वह कमलीनी
रूपी अपनी आत्मा से प्रश्न करते हैं कि अरे नलिनी तू क्यों मुरझाई हुई है? तेरे
चारों ओर तथा तेरे नाल में सरोवर का जल (परमात्मा) है। तेरी उत्पत्ति और निवास भी
इसी सरोवर में है निरंतर इसी सरोवर रूपी परमात्मा में तू स्थित है। भाव यह है कि
कमलिनी को यदि जल न मिले तो वह कुम्हला जाएगी परंतु जब भीतर-बाहर दोनों ओर जल ही
हो तो कमलीनी के मुरझाने का क्या कारण हो सकता है। इसका एकमात्र कारण यही हो सकता
है कि कमलिनी का किसी अन्य से प्रेम हो गया हो और उसी के वियोग में वह दुःखी और
मुरझाई है। पंक्ति का मूलभाव यही है कि जीवात्मा और परमात्मा अभिन्न हैं। जीवात्मा
की उत्पत्ति और स्थिति उसी सर्वव्यापक परब्रह्मा में है वह उसे कदापि अलग नहीं है।

पाठ. मंदोदरी की रावण को
सीख

रचनाकार.  गोस्वामी तुलसीदास।

रामचरितमानस से संकलित।

प्रश्न. मंदोदरी ने सीता को
किसके समान माना?

उत्तर.  मंदोदरी ने सीता को रावण के वंश रूपी कमल समूह
को नष्ट कर देने वाली शीत ऋतु की रात्रि के समान माना है।

प्रश्न. रावण को राम के
विश्वरुप से परिचित कराने में मंदोदरी का क्या उद्देश्य था?

उत्तर. रावण राम को साधारण
मनुष्य मान रहा था वह राम से बैर ठाने हुए था। मंदोदरी राम के स्वरुप और प्रभाव से
परिचित थी। वह जानती थी कि राम का विरोध रावण और राक्षसों के विनाश का कारण बनेगा।
वह असमय विधवा नहीं होना चाहती थी। अतः रावण को प्रभावित करने और राम की शरण जाने
को प्रेरित करने के लिए उसने राम के विश्व रूप से रावण को परिचित करवाया था।

प्रश्न. दुःखी और खिसियाये हुए
राजसभा से लौटे रावण को मंदोदरी ने क्या समझाया?

उत्तर. मंदोदरी ने रावण से कहा
कि राम से बैर और उन पर विजय पाने के कुविचार को मन से त्याग दो। जब तुम लक्ष्मण
द्वारा खींची गई रेखा को नहीं लांघ सके तो उन भाइयों पर विजय कैसे पाओगे?  उनके दूत हनुमान ने सहज ही समुद्र लांघकर आराम
से लंका में प्रवेश किया। उसने अशोक वाटिका उजाड़ डालीए रखवालों को मार डाला।
तुम्हारी आँखों के सामने तुम्हारे पुत्र अक्षय कुमार को मार डाला। तुम्हारे प्यारे
नगर लंका को जला डाला। अब तो अपने बल की डींग हाँकना छोड़ दो।

रहीम के दोहे

प्रश्न. रहीम सच्चा मित्र किसे
मानते हैं?

उत्तर. रहीम ने माना है कि
सच्चा मित्र वही है जो सुख.दुःख में समान रूप से काम आए। रहीम उसी को सच्चा मित्र
मानते हैं जो संकट आने पर भी अपने मित्र को छोड़ता नहीं और बुरे दिनों में उसका साथ
निभाता है।

प्रश्न. रहीम दुष्ट लोगों से
मित्रता व शत्रुता क्यों नहीं रखना चाहते?

उत्तर. दुष्ट और ओछे लोग
विश्वसनीय नहीं होते हैं। उनसे शत्रुता या मित्रता दोनों ही हानिकारक हो सकती हैं
यदि हम ऐसे लोगों से शत्रुता रखेंगे तो वह हमें हानि पहुँचाने के लिए घटिया से
घटिया तरीके काम में ले सकते हैं इसी प्रकार दुष्टों की मित्रता परभी विश्वास करना
बुद्धिमानी नहीं कहा जा सकता वह अपनेस्वार्थ के लिए कभी भी हमारे साथ विश्वासघात कर
सकते हैं। जैसे यदि कुत्ता किसी कारण कुछ हो जाए तो तुरंत काट देता है और यदि
प्रसन्न होकर वह आपके हाथ.पैर चाटता है तो भी अच्छा नहीं लगता। उस स्थान को धोना
पड़ता है इस प्रकार से कवि ने संदेश दिया है कि दुष्ट व्यक्तियों के प्रति तटस्थ
भाव रखना चाहिए।

प्रश्न. रहीम के अनुसार
कौन-कौनसी बातें दबाने पर भी नहीं दबती, प्रकट हो जाती हैं? स्पष्ट करते हुए
लिखिए।

उत्तर. कवि रहीम के अनुसार सात
बातें ऐसी हैं जो मनुष्य कितना भी छुपाना चाहे लेकिन छुप नहीं सकती। ख़ैर अर्थात
कुशल-मंगल, मनुष्य के हाव-भाव, व्यवहार से जान लेते हैं कि वह सुख से रह रहा है।
इसी प्रकार खून अर्थात किसी की हत्या कभी नहीं छुपती। खाँसी भी नहीं छिपाई जा
सकती। ख़ुशी का भी सभी को पता चल जाता है। ऐसे ही बैरभाव और प्रेमभाव भी व्यवहार से
समझ में आ जाते हैं। मदिरा पिए हुए व्यक्ति की पहचान गंध या पीने वाले के व्यवहार
से हो जाती है।

 

कवि. मैथिलीशरण गुप्त
(राष्ट्रकवि)

रचना. यशोधरा और भारत की
श्रेष्ठता।

प्रश्न. भारत की श्रेष्ठता
कविता में मैथिलीशरण गुप्त ने क्या संदेश दिया है?

उत्तर. भारत की श्रेष्ठता कविता
में मैथिलीशरण गुप्त ने भारत के गौरवशाली अतीत का वर्णन किया है। उन्होंने बताया
है कि भारत ही विश्व का वह देश है जहाँ सर्वप्रथम सृष्टि आरंभ हुई थी। यहीं से
विश्व में ज्ञान का प्रकाश फैला। समस्त संसार को ज्ञान-विज्ञान, कला-कौशल,
सभ्यता-संस्कृति सिखाने वाला देश भारत ही है। गुप्तजी का संदेश है कि भारतीयों को
अपने गौरवशाली अतीत का स्मरण करना चाहिए तथा निराशा और उत्साहहीनता को त्यागकर देश
के उत्थान के कार्य में जुट जाना चाहिए। हमें अपने देश से प्रेम करना चाहिए तथा
अपने कठोर परिश्रम द्वारा उसको पुनः उन्नति के शिखर पर पहुँचाना चाहिए।

प्रश्न. कवि ने भारतवर्ष को
भू-लोक का गौरव क्यों बताया है? अपने शब्दों में लिखिए।

उत्तर.  भारत का प्राकृतिक सौंदर्य अनुपम है। यहाँ
पर्वतराज हिमालय तथा देवनदी गंगा है। संसार के सभी देशों की अपेक्षा यह देश महान
और उन्नत है। भारतवर्ष ऋषि-मुनियों की तपोभूमि रहा है। कवि ने इसी कारण भारत को
भू-लोक का गौरव बताया है।

प्रश्न. संतान उनकी आज यद्यपि
हम अधोगति में पड़े, पर चिह्न उनकी उच्चता के आज भी कुछ हैं खड़े उपर्युक्त पंक्ति
के आधार पर बताइए कि भारतीय किनकी संतान हैं और आज उनकी क्या दशा हो रही है?

उत्तर. गुप्तजी की रचना
भारत-भारती के अनुसार भारत के निवासी आर्य थे। आर्य शब्द का अर्थ है श्रेष्ठ
मनुष्य। भारत उन्हीं आर्यों की संतान है आर्यों का शारीरिक सौष्ठव और मानसिक
प्रखरता अत्यंत उच्चकोटि की थी। उस समय भारत अंग्रेजों के अधीन था गुलामी के कारण
उनको पढ़ने-लिखने तथा अपना और अपने देश का विकास करने और उन्नति करने का अवसर नहीं
मिल पाया। भारतीय शिक्षित एवं निर्धन रह गए। विश्व में उनका कोई सम्मान नहीं रहा।
वे तन-मन से अशक्त बन गए। गुलामी, गरीबी और अशिक्षा उनको खटकती नहीं थी। खटकती भी
थी तो उसको दूर करने का कोई उपाय वे नहीं जानते थे। आज भी भारतीयों की दशा में
बहुत ज्यादा सुधार नहीं हुआ है।

यशोधरा खंडकाव्य से

प्रश्न. ‘दु:खी न हो इस जन के
दुःख से’ पंक्ति  में यशोधरा ने जन शब्द का
प्रयोग किसके लिए किया है?

उत्तर.  दुःखी न हो इस जन के दुःख से पंक्ति में जन
शब्द का प्रयोग यशोधरा ने स्वयं अपने लिए किया है। यद्यपि उसे इस बात की पीड़ा है
कि उसके पति ने उसकी उपेक्षा की है। वह उसको बिना बताए घर से चले गए हैं परंतु वह
उनके सुख एवं सिद्धि पाने में बाधक नहीं बनना चाहती। वह चाहती है कि उसके पति सुखी
रहें और अपने लक्ष्य सिद्धि को प्राप्त करें। यहाँ जन शब्द का प्रयोग यशोधरा स्वयं
के लिए हुआ है।

प्रश्न. फिर भी क्या पूरा
पहचानाघ् यशोधरा ने यह क्यों कहा कि गौतम बुद्ध उसको पूरी तरह पहचान नहीं पाए हैं?

उत्तर. बुद्ध के चोरी-चोरी
यशोधरा से बिना कहे घर से जाने के कारण यशोधरा को इस बात की शंका होती है कि
सिद्धार्थ अपनी पत्नी को अच्छी या पूरी तरह से पहचान नहीं पाए थे यशोधरा की नजर
में सिद्धार्थ को इस बात की आशंका हुई होगी कि यदि वह यशोधरा को बताकर जाएँगे तो
वह उन्हें जाने नहीं देगी। यशोधरा ऐसी नहीं है उनको कभी नहीं रोकती। अपितु गौतम का
इस तरह जाना सिद्ध करता है वह अपनी पत्नी की भावना को पहचान नहीं पाए थे।

प्रश्न. ‘हुआ न वह भी भाग्य
अभागा’ पंक्ति में यशोधरा ने स्वयं को अभागा क्यों कहा है?

उत्तर. यशोधरा बता रही है कि
पत्नी का कर्तव्य है कि वह अपने पति के कर्तव्यपालन में सहयोग करें। युद्धभूमि के
लिए भी अपने पति को विदा करना क्षत्राणी का धर्म रहा है। यशोधरा के पति चुपचाप चले
गए। वह सोती ही रह गई। उसे इस बात का दुःख था कि वह सिद्धि हेतु जाने वाले अपने
पति को अपने हाथ से तैयार कर नहीं भेज सकी उसको यह बात मन ही मन साल रही है कि
अपने पति को विदा करने का सौभाग्य प्राप्त नहीं हो पाया।


कवि. सूर्यकांत त्रिपाठी
‘निराला’

राम की शक्तिपूजा।

प्रश्न. रावण अशुद्ध होकर भी
यदि कर सकता है त्रस्त, तो निश्चय तुम हो सिद्धए  उसे करोगे ध्वस्त।

इन पंक्तियों में राम व रावण की
कौनसी असमानता व्यंजित हुई है?

उत्तर. ष्राम की
शक्तिपूजाष्कविता में निराला ने जीवन संग्राम में संघर्षरत सत् और असत्शक्तियों के
प्रतीक के रूप में राम और रावण को प्रस्तुत किया है। राम नीतिए धर्म और न्याय के
प्रतीक हैं जबकि रावण अपने बुरे कार्यों को सही सिद्ध करने के लिए युद्ध कर रहा
था। एक सदाचारी था तो दूसरा दुराचारी। यही राम और रावण के बीच की असमानता है।

प्रश्न. राम का यह संघर्ष
विषमता और हताशा से त्रस्त मानवता को दानवता की शक्तिसंपन्नता के विरुद्ध निरंतर
संघर्ष करने की प्रेरणा देता है। टिप्पणी कीजिए।

अथवा

राम की शक्तिपूजा में
अंतर्निहित संदेश क्या है?

उत्तर. राम की शक्तिपूजा में
पुरुष रूपी सिंह राम की विजय का संदेश है। सत्, 
न्याय तथा धर्म का पक्ष रखने वाले राम एक ओर हैं तो दूसरी ओर असत, अन्याय
अनाचार और अधर्म का साथ देने वाला रावण है। इसमें पहला पक्ष मानवता का तो दूसरा
दानवता का है। राम महामानव है तथा रावण दानव।

राम में मानवीय कमजोरियाँ हैं।
उनके मन में आशा-निराशा, विश्वास-अविश्वास आदि के बीच द्वंद्व है। किंतु अंत में
उनका आत्मविश्वास ही विजयी होता है। राम की शक्तिपूजा के आरंभ में हम देखते हैं कि
राम का मन सशंक हो जाता है। शक्ति के रावण के पक्ष में होने के कारण वे हताश हो
जाते हैं। मानवता के प्रतीक राम उसके अभाव में दुर्बलता का अनुभव कर रहे हैं। दानव
रावण महाशक्ति का साथ पाकर और अधिक प्रबल हो जाता है। राम डर रहे हैं कि मानवता की
विजय कैसी होगी। मित्रों के परामर्श पर वे शक्ति की पूजा करते हैं और देवी का
आशीर्वाद प्राप्त कर रावण पर विजय प्राप्त करते हैं। हमें भी अपनी कमजोरियों से न
घबराकर आत्मविश्वास के साथ शक्तिशाली के विरुद्ध संघर्ष करना चाहिए यही राम की
शक्तिपूजा का संदेश या शिक्षा है।

प्रश्न. भौतिकता की वर्तमान
चकाचौंध में राम की शक्तिपूजा साधारण मनुष्य की पीड़ा को अभिव्यक्त करती है। स्पष्ट
कीजिए

उत्तर. राम की शक्तिपूजा
आध्यात्मिकता से प्रेरित है। इस कविता में प्रतीकात्मक रूप से वह आज के मानव की
पीड़ा को भी व्यक्त करती है। आज भ्रष्टाचार का सर्वत्र बोलबाला है। भौतिक सुख का
आकर्षण मनुष्य को सत्य से अलग कर देता है। रावण ने परनारी सीता का अपहरण किया है।
आज हर दिन हम महिलाओं के अपहरण एवं उनसे दुराचार के समाचार पढ़ते व सुनते हैं। इन
घटनाओं का विरोध करने वाले लोग ही हमें दिखाई देते हैं। सीता के अपहरण से सीता व
राम की पीड़ा आज भी अनेक स्त्री-पुरुषों की भी पीड़ा है। राम सत्य की लड़ाई लड़ रहे थे
किंतु उन्हें पग-पग पर विरोध का सामना करना पड़ता है। सत्य के मार्ग पर चलना भी
नीरापद नहीं है। समाज में व्याप्त अनाचार और अन्याय आज भी सशक्त रूप में दिखाई
देते हैं। अनेक लोग उससे पीड़ित होते हैं तथा उनके कारण दंड भी सहन करना पड़ता है।
राम को यह देखकर दुःख होता है कि सत् और शक्ति अधर्म के साथ खड़ी है। आज के
भौतिकवादी समाज में सत् के मार्ग के अनेक पथिक लोभ-लालच में पड़कर अधर्म का साथ
देते हैं। साधारण आदमी के मन की पीड़ा राम की पीड़ा बनकर उभरी है।

प्रश्न. राम की शक्तिपूजा कविता
के नायक राम के चरित्र की विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर. राम की शक्तिपूजा
महाप्राण निराला की एक प्रबंधक रचना है। उसके नायक राम हैं। राम के चरित्र की
विशेषताएँ निम्न हैं-

धीर, गंभीर और विचारशील- राम
धैर्यवान, गंभीर और विचारशील हैं। राम सीता के अपहरण को धैर्यपूर्वक सहते हैं तथा
वह रावण से उसकी मुक्ति के लिए उपाय सोचते हैं।

§  आशावादी-  राम आशावादी हैं।
वे रावण पर विजय पाकर सीता को मुक्त कराने की आशा मन में पाले हुए हैं।

§  निराश और हताश- राम को एक साधारण मनुष्य के रूप में दिखाया गया है।
महाशक्ति को रावण के पक्ष में देखकर राम हताश हो जाते हैं उन्हें अपनी विजय पर
संदेह होने लगता है।

§  दृढ़ निश्चयी- राम दृढ़ निश्चयी थे। वे शक्ति की उपासना के समय एक
नीलकमल गायब होने पर उसके स्थान पर वह अपना एक नेत्र दुर्गा को अर्पित करने के लिए
तैयार हो जाते हैं।

 

रचना-  कुरुक्षेत्र

रचयिता- रामधारी सिंह दिनकर

प्रश्न. क्षमा किस पुरुष को
शोभा देती है?

उत्तर. क्षमा वीर तथा पराक्रमी
पुरुष को शोभा देती है। जो निर्बल हैं, 
जिसमें अत्याचारी का विरोध करने की न इच्छा है, न ही सामर्थ्य। उसको किसी
को क्षमा करने का अधिकार भी नहीं होता। यह माना जाता है कि अत्याचारी को दंड देने
की सामर्थ्य न होने के कारण वह क्षमा करने की बात करता है और अपनी दुर्बलता को
छिपा लेता है

प्रश्न. ‘अहंकार के साथ घृणा का
जहाँ द्वंद्व हो जारी’ पंक्ति में कवि ने किनके बीच होने वाले संघर्ष की ओर संकेत
किया है? अहंकार एवं घृणा किसके प्रतीक हैं?

उत्तर. इस पंक्ति में कवि ने
शोषक और शोषितों के बीच चलने वाले संघर्ष की ओर संकेत किया है। शोषकों को अपनी
शक्ति का अहंकार होता है। शोषित उनके दमनकारी व्यवहार के कारण उनसे घृणा करते हैं।
दोनों के हित एक दूसरे के विरोधी होते हैं शोषक शोषण की सुविधा के लिए शांति
व्यवस्था को बनाए रखना चाहता है। अहंकार शोषकों तथा घृणा शोषितों का प्रतीक हैं।

प्रश्न. “कौन  दोषी होगा इस रण का” पंक्ति के अनुसार
स्पष्ट कीजिए कि युद्ध किस कारण आरंभ होता है?

उत्तर. नए-नए बहाने बनाकर लोगों
का शोषण करनाए उनकी उपेक्षा करना तथा चुभने वाले कटुवचन कहना, उन्हें अपमानित करना
यह सब शोषित और पीड़ितों को उत्तेजित कर देते हैं। उनकी सहनशक्ति नष्ट हो जाती है
वे शोषकों का विरोध करने के लिए तैयार हो जाते हैं। इस प्रकार युद्ध के दोषी असल
में आक्रमणकारी शोषित नहीं होते। वे तो मजबूरन आक्रमण करते हैं वास्तविक दोष उनका
होता है जो युद्ध के लिए उनको विवश कर देते हैं।

प्रश्न. निर्बल मनुष्य में दया,
क्षमा और सहनशीलता आदि गुण होने पर भी उसका आदर क्यों नहीं होता?

उत्तर. निर्बल मनुष्य में दया,
क्षमा और सहनशीलता आदि गुण हो तब भी लोग उसका आदर नहीं करते इसका कारण है उसका
निर्बल होना। जब मनुष्य शक्तिशाली होता है तभी संसार उसकी पूजा करता है। दुनिया
ताकत की ही पूजा करती है दया, क्षमा और सहनशीलता को लोग निर्बल व्यक्ति की कमजोरी
समझते हैं।

प्रश्न. शांति कितने प्रकार की
होती है? उनमें क्या अंतर होता है?

उत्तर. शांति दो प्रकार की होती
है। पहली शासकों तथा बलवान लोगों द्वारा शक्ति के बल पर स्थापित की गई शांति तथा
दूसरी जनता के बीच स्वीकृत स्वाभाविक रुप से स्वीकृत शांति। बल से स्थापित शांति
बनावटी होती है तथा उसके विरुद्ध विद्रोह होने का भय भी निरंतर बना रहता है शांति
तब होती है जब समाज में किसी का शोषण नहीं होता तथा सबको न्यायोचित अधिकार सुलभ
रहते हैं।

प्रश्न. युद्ध निंदनीय तथा
शांति प्रशंसनीय कब होती हैघ् कुरुक्षेत्र कविता के आधार पर लिखिए।

उत्तर. प्रत्येक दशा में युद्ध
निंदनीय तथा शांति प्रशंसनीय नहीं होती। शांति अच्छी और प्रशंसनीय तब होती है जब
वह सच्ची शांति हो। कृत्रिम शांति प्रशंसनीय नहीं होती जब मनुष्य स्वेच्छा सेए
अपने मन से शांति व्यवस्था का समर्थन करते हैं तो शांति प्रशंसनीय होती है इस
प्रकार की शांति की स्थापना के लिए बल प्रयोग करने की जरूरत नहीं होती। सच्ची
शांति व्यवस्था में लोगों को सुखपूर्वक जीने का अवसर मिलता है कोई किसी का शोषण और
दमन नहीं करता।

युद्ध निंदनीय होता है किंतु
सदैव नहीं। जब कोई आततायी किसी की संपत्ति और राज्य हड़पने के लिए आक्रमण करता है
तो युद्ध निंदनीय होता है। दूसरे के सुख.साधन छीनने और धन.दौलत लूटने के इरादे से
होने वाला युद्ध निंदा योग्य है। यदि युद्ध अपने अधिकारों को प्राप्त करने के लिए
किया जाता है तो वह निंदनीय नहीं होता इस प्रकार युद्ध और शांति दोनों ही स्थिति
परिस्थिति के अनुसार निंदनीय अथवा प्रशंसनीय हो सकते हैंण्

प्रश्न. श्सच पूछो तो शर में
बसती है दीप्ति विजय कीष्ष् पंक्ति के आधार पर कुरुक्षेत्र काव्यांश का ध्येय
लिखिए।

उत्तर. इस काव्यांश में कवि ने
जीवन में शक्ति.सामर्थ्य को ही सारे मानवीय गुणों का आधार सिद्ध करना चाहा है।
भीष्म द्वारा यही संदेश दिलवाया गया है। विनम्रता की चमक.दमक बाण अर्थात
अस्त्र.शस्त्र से ही प्रकट होती है। शस्त्रहीनए शक्तिहीन पुरुष की विनम्रता
निरर्थक होती है। जिस वीर पुरुष में शत्रु को परास्त करने की शक्ति होती है उसी की
मेल.जोल की नीति तथा संधि समझौते की बातें स्वीकार ये होती हैं। संधि की शर्तें तय
करने का अधिकारी शक्तिशाली मनुष्य ही होता है। जब मनुष्य की वीरता और पराक्रम
लोगों को स्पष्ट दिखाई देते हैं तभी संसार उनका आदर करता है।

 

रचना-  भारतमाता, धरती कितना देती है

रचनाकार-  सुमित्रानंदन पंत

प्रश्न. धरती कितना देती है
कविता का केंद्रीय भाव लिखिए।

उत्तर. धरती कितना देती है
कविता में कवि ने मनुष्य की जीवन में सत्कर्म के महत्त्व का प्रतिपादन किया है।
अच्छे काम करने से ही मानव जीवन तथा समाज का हित होना संभव है। कवि भाग्यवाद से
प्रेरित है अथवा यह भी कह सकते हैं कि कवि गीता के कर्मवाद का संदेश दे रहा है।
कवि के शब्दों में कहा जाए तो कहा जा सकता है कि हम जैसा बोयेंगे वैसा ही पाएँगे

प्रश्न. भारत माता कविता की दो
विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर. कवि ने भारत माता के
माध्यम से भारत के दीन और शोषित जनों का चित्रण किया है। भारत गाँवों में बसता है।
अतः कवि भारत माता को ग्रामवासिनी कहता है। भारत माता की दरिद्रता का वर्णन करके
ही कवि निराश नहीं हैं। उसमें आशा की भावना प्रखर है। वह गाँधीवादी अहिंसा में
भारत की मुक्ति के दर्शन करता है। (यह 
कविता वस्तुतः तब लिखी गई थी जब भारत स्वतंत्र नहीं था)


पुस्तक-
मंदाकिनी

इस पाठ्यपुस्तक में से 1
निबंधात्मक प्रश्न (आंतरिक विकल्प सहित) अंकभार 4 तथा 4 लघूत्तरात्मक प्रश्न
(प्रत्येक का अंकभार 3-3 अंक) आएँगे।

पाठ. हिंदी गद्य का विकास

प्रश्न. क्या गद्य आज हमारी
सांस्कृतिक गतिविधियों का आधार बन गया है?

उत्तर. आज का युग गद्य युग कहा
जाता है। दो व्यक्तियों के बीच साधारण बातचीत से लेकर गंभीर विषयों पर गोष्ठियों
के आयोजन आदि सभी गतिविधियों में गद्य का ही प्रयोग होता है। ज्ञान-विज्ञान, कला,
शिल्प, तकनीक आदि ऐसे विषय है जहाँ ग्रंथ रचना से लेकर उन पर व्याख्यान आदि सभी
गद्य के माध्यम से ही संभव है।

प्रश्न.  रिपोर्ताज का संक्षिप्त परिचय दीजिए।

उत्तर. रिपोर्ताज फ्रांसीसी
भाषा का शब्द है। यह रिपोर्ट का ही साहित्य के रूप होता है। किसी घटना के तथ्यों
तथा उपस्थित व्यक्तियों के विचारों को रोचक शैली में प्रस्तुत करना ही रिपोर्ताज
कहलाता है। दूसरे विश्वयुद्धए आजाद हिंद सेना का निर्माणए बंगाल के अकाल आदि ने
रिपोर्ताज को हिंदी गद्य साहित्य का अंग बना दिया।

प्रश्न. फीचर विधा क्या
है?  संक्षिप्त परिचय दीजिए।

उत्तर. यह विधा अभी
पत्र.पत्रिकाओं के स्तंभों में अधिक दिखाई दे रही है फ़ीचर द्वारा लेखक किसी स्थान
का सजीव वर्णन प्रस्तुत करता है इसे रूपक भी कहा जाता है। फीचर में प्रस्तुत कथा
के साथ एक अंतर्कथा भी चलती है। फीचर लेखक का उद्देश्य स्थान विशेष का सर्वांगीण
परिचय कराना होता है फीचर विधा हिंदी गद्य साहित्य में धीरे.धीरे अपना स्थान बना
रही है।

प्रश्न. संस्कृत विद्वानों ने
गद्य की परिभाषा के विषय में क्या कहा है?

उत्तर. आचार्य भामह ने गद्य को
स्वाभाविक, व्यवस्थित, शब्दार्थ युक्त पदावली कहा है। वामन ने कोई परिभाषा तो नहीं
दी किंतु कहा है कि ‘गद्य कवियों की कसौटी है’ ऐसा  कहकर गद्य के महत्त्व का परिचय करवाया है।
आचार्य दंडी ने गद्य को चरणों में अविभाजित है तथा गण और मात्राओं से रहित रचना
माना है। विश्वनाथ ने भी गद्य की कोई परिभाषा नहीं दी है केवल उसको काव्य मानते
हुए  4 
भेदों की चर्चा की है।

पाठ. राष्ट्र का स्वरूप

लेखक. डॉ. वासुदेवशरण अग्रवाल

प्रश्न. मेघ हमारे अध्ययन की
परिधि में क्यों आने चाहिए?

उत्तर. मेघ अर्थात बादल, बादलों
के बरसने से ही पृथ्वी की उपजाऊ शक्ति बढ़ती है। प्रकृति अपने सौंदर्य को प्राप्त
करती है। पेड़-पौधे और विभिन्न प्रकार की वनस्पति विकसित होती है। वर्षा का यह जल
विभिन्न रुप से सहायक सिद्ध होता है। अतः उसके निर्माण और विकास की प्रक्रिया को
जानना हमारे लिए आवश्यक है। जब हम मेघों का अध्ययन करेंगे तभी हमें उसकी
निर्माण-प्रक्रिया और पृथ्वी के लिए उसकी उपयोगिता का ज्ञान होगा।

प्रश्न. लेखक ने संस्कृति को
राष्ट्र के  विटप का पुष्प क्यों कहा है?

उत्तर. लेखक डॉ. वासुदेवशरण
अग्रवाल ने राष्ट्र को विटप अर्थात पेड़ तथा उसकी संस्कृति को पुष्प कहा है। जब
किसी वृक्ष का पूर्ण विकास हो जाता है तब ही वह पुष्पित होता है। पुष्पों से लदे
वृक्ष की शोभा दर्शनीय होती है। पुष्प उसकी शोभा, सौंदर्य और आकर्षण को बढ़ाते हैं।
इसी प्रकार किसी राष्ट्र के उन्नत होने पर उसकी संस्कृति विकसित होगी। संस्कृति उस
राष्ट्र को महत्त्वपूर्ण बनाती है। समस्त विश्व उस राष्ट्र का मूल्यांकन उसकी
संस्कृति को देखकर ही करता है।

रचना. निर्वासित कहानी

लेखिका- सूर्यबाला

प्रश्न- वर्तमान युग में वृद्ध
दंपतियों को एकाकीपन का दंश झेलना पड़ रहा है। इस कथन की पुष्टि निर्वासित कहानी के
आधार पर कीजिए।

उत्तर. नगरों के बढ़ते आकार,
सिकुड़ते घर और संकीर्ण होती मानसिकता ने बुजुर्गों को अकेले और निर्वासित जीवन
जीने को विवश कर दिया है। वृद्ध दंपती या तो अकेले जीवनयापन करते हैं या उनकी
संतान उन्हें विभाजित करके एकाकी जीवन जीने को बाध्य कर देती है। आज की युवा पीढ़ी
भौतिक सुखों तथा अपने सपनों को साकार करने में इतनी स्वार्थी हो गई है कि
बुजुर्गों को घर की शान, मान एवं अनमोल धरोहर समझने के स्थान पर उन्हें भारस्वरूप
समझने लगी है। ऐसे माहौल में वृद्ध दंपतियों को एकाकी जीवन जीना पड़ता है।

प्रश्न. ऐसी क्या बात हुई जिसने
राजेन की माँ और बाबूजी को अंदर तक झकझोर दिया?

उत्तर. जब बाबूजी ने माँ को
बताया कि उन्हें अपने छोटे बेटे रणधीर के साथ उसके घर जाना होगा और उसे (राजेन की
माँ) बड़े बेटे राजेन के साथ यहीं रहना होगा। इस अप्रत्याशित बात ने उन दोनों को
अंदर तक झकझोर दिया। एक-दूसरे के बिना रहने की कल्पना ने उन्हें अंदर तक तोड़ दिया।
दोनों के लिए यह एक असहनीय पीड़ा थी।

प्रश्न. बड़े बेटे राजेन के पास
जाने की बात पर पड़ोसियों ने क्या कहा?

उत्तर. रिटायर होने के बाद डेढ़
साल तक तो राजेन उन्हें पैसे भेजता रहा। एक दिन उसने पत्र भेजकर दोनों को अपने पास
आने के लिए कहा। यह बात जानकर पड़ोसियों ने उन दोनों को राजेन के पास जाकर रहने के
लाभ बताते हुए कहा और समझाया। अनेक तर्क उनके समक्ष रखे गए। एक अन्य पड़ोसन ने
उन्हें न जाने की सलाह देते हुए कहा कि ये सब कचौड़ी.पकौड़ी एक तरफ और अपना सुराज एक
तरफ। इस प्रकार पड़ोसियों ने उन्हें बेटे के पास जाने और न जाने के बारे में
समझाया।

प्रश्न. बुजुर्गों के प्रति
युवा पीढ़ी का क्या नजरिया होता है युववर्ग और बुजुर्गों की सोच और व्यवहार में
अंतर को स्पष्ट करें। इस अंतर को किस प्रकार दूर किया जा सकता हैघ्

उत्तर. प्रत्येक संतान की
सफलता.असफलता एवं चरित्र निर्माण में माता.पिता के योगदान को नकारा नहीं जा सकता
यदि संतान की सफलता मेंमाता.पिता का योगदान होता है तो उसके चारित्रिक पतन या उसके
व्यक्तित्व का विकास न होने के लिए भी माता.पिता ही उत्तरदायी होते हैं। अतः
युवकों के लिए बुजुर्गों का बहुत महत्त्व है किंतु आज का युवा कुछ भिन्न प्रकार की
सोच रखता है वह सफलता का श्रेय सिर्फ अपनी मेहनत और लगन को देता है और असफलता के
लिए बुजुर्गों को दोषी ठहराता है आज के युवा के लिए बुजुर्ग व्यक्ति घर में रखी
ऐसी मूर्ति के समान होता है जिसे दो वक्त की रोटीए कपड़ा और दवा की आवश्यकता होती
है। उसके नजरिए के अनुसार बुजुर्ग लोग अपना जीवन जी चुके होते हैं उनकी आवश्यकताएँ
और भावनाएँ महत्त्वपूर्ण नहीं होती। अब उन्हें सिर्फ मृत्यु का इंतजार होता है।

आज का युवा अपने बुजुर्गों के
कठोर अनुशासन पसंद व्यक्तित्व के आगे नहीं झुकता सिर्फ बुजुर्ग होने के कारण उनकी
तर्कहीन बातों को स्वीकार कर लेना उसके लिए असहनीय होता है। उन्हें भी आज की पीढ़ी
का व्यवहार उद्दंडतापूर्ण प्रतीत होता है। समाज में आ रहे बदलाव उन्हें विचलित
करते हैं।

इन सब मतभेदों को दूर करने के
लिए आवश्यक है कि बुजुर्ग पीढ़ी अपनी संतान के मन को समझें। बुजुर्गों को चाहिए कि
वह संतान के दुःख में भागीदार बनें। दूसरी ओर युवा पीढ़ी को भी वृद्धजनों के साथ
प्रेम और आदर के साथ पेश आना चाहिए तथा उनके अनुभवों और सुझावों का सम्मान करते
हुए उनसे लाभ लेना चाहिए।

पाठ. सुभाषचंद्र बोस
(जीवनी)

प्रश्न. मेरा घर तो गंदा था ही
मेरा मन उससे ज्यादा गंदा था। आपकी सेवाओं ने मेरी दोनों गंदगियों को निकल दिया
हैए किसका कथन है तथा ऐसा कहने का क्या कारण था?

अथवा

हैदर गुंडे का हृदय परिवर्तन
किस कारण हुआ?

उत्तर-  यह कथन हैदर का है। हैदर नगर का कुख्यात गुंडा
था। वह आए दिन सुभाष और उनकी मित्र मंडली के सेवा कार्य में बाधा डालता था। एक दिन
हैजे ने उसके परिवार को भी चपेट में ले लिया। इससे मुक्ति के लिए वह नगर के
प्रत्येक डॉक्टर के पास गया किंतु कोई भी उसके साथ नहीं आया। जब वह निराश होकर
लौटा तो यह देखकर चकित रह गया सेवादार बच्चे उसके घर की सफाई कर रहे थे। घर वालों
को दवा खिला रहे थे। उसका मन बहला रहे थे। यह वही बच्चे थे जिनके काम में वह
अड़चनें खड़ी करता था। उनके इस सेवा कार्य को देखकर उसका हृदय परिवर्तित हो गया उसने
सुभाष के चरण पकड़कर यह शब्द कहे थे।

प्रश्न. सुभाष बाबू ने मांडले
जेल के वातावरण का वर्णन किस प्रकार किया है?

उत्तर.  सुभाष बाबू ने मांडले जेल के वातावरण का वर्णन
करते हुए कहा है कि वहाँ चारों ओर धूल ही धूल थी। मांडले जेल की वायु भी धूलयुक्त
थी,  जिसके कारण साँस के साथ धूल अंदर जाती
थी। इतना ही नहीं भोजन की धूल धूसरित हो जाता था और उन्हें वही भोजन खाना पड़ता था।
सब तरफ बस धूल ही धूल थी। जब यहाँ धूल भरी आँधियाँ चलती थी तो दूर-दूर तक के पेड़
और पहाड़ियाँ सब ढक जाती थी। उस समय धूल के पूर्ण सौंदर्य के दर्शन होते थे। सुभाष
बाबू ने इसी धूल को दूसरा परमेश्वर कहा है।

पाठ. भारत के महान वैज्ञानिक सर जगदीशचंद्र बोस

लेखक. परमहंस योगानंद।

यह पाठ परमहंस योगानंद की
आत्मकथा ‘योगी कथामृत’ से लिया गया है। इसमें परमहंस योगानंद द्वारा सर जगदीशचंद्र
बोस के साक्षात्कार के अंश शामिल किए गए हैं।

प्रश्न. बोस के क्रेस्कोग्राफ
की क्या विशेषता थी? लिखिए

उत्तर. सर बोस द्वारा आविष्कृत
क्रेस्कोग्राफ से पौधों में होने वाली सूक्ष्म से सूक्ष्म जैविक क्रिया स्पष्ट
दिखाई देती थी। इसकी परिवर्धन शक्ति एक करोड़ गुणा है। इस आविष्कार के माध्यम से
बड़े से बड़े पेड़ को आसानी से स्थानांतरित किया जा सकता है। इसी के माध्यम से यह भी
सिद्ध हुआ कि पौधों में संवेदनशील स्नायुतंत्र होता है।

प्रश्न. अपने आविष्कार के
माध्यम से बोस ने क्या सिद्ध किया?

उत्तर. अपने आविष्कार
क्रेस्कोग्राफ के माध्यम से वह सर बोस ने यह सिद्ध किया कि पेड़-पौधों में भी
संवेदनशील स्नायुतंत्र होता है। उनका जीवन भी विभिन्न भावनाओं से परिपूर्ण होता
है। वे भी प्रेम, घृणा, आनंद, भय, सुख-दुःख, चोट, दर्द, मूर्छा जैसी अन्य
उत्तेजनाओं के प्रति संवेदनशील होते हैं। अन्य प्राणियों की समान ही प्रतिक्रिया
भावानुभूति पेड़-पौधों में भी होती है।

प्रश्न. सर बोस के किन शब्दों
को सुनकर योगानंद जी की आँखें भर आई?

उत्तर. सर बोस ने अपने भाषण के
अंत में कहा कि विज्ञान न तो पूर्व का है न पश्चिम का। बल्कि अपनी सार्वभौमिकता
एवं सार्वलौकिकता के कारण वह सभी देशों का है। परंतु फिर भी भारत इसके विकास में
महान योगदान देने के लिए विशेष रूप से योग्य है। भारतीयों की ज्वलंत कल्पनाशक्ति
तो ऊपर-ऊपर परस्पर विरोधी लगने वाले तथ्यों की गुत्थी से भी नया सूत्र निकाल सकती
है। परंतु एकाग्रता की आदत ने इसे रोक रखा है। संयम मन को अनंत धीरज के साथ सत्य
की खोज में लगाए रखने की शक्ति प्रदान करता है उसकी इन शब्दों को सुनकर योगानंद जी
की आँखें भर आई।


<

p align=”center” style=”background: #E5DFEC; border: none; mso-background-themecolor: accent4; mso-background-themetint: 51; mso-border-bottom-alt: thick-thin-small-gap; mso-border-color-alt: red; mso-border-left-alt: thin-thick-small-gap; mso-border-right-alt: thick-thin-small-gap; mso-border-top-alt: thin-thick-small-gap; mso-border-width-alt: 3.0pt; mso-padding-alt: 1.0pt 4.0pt 1.0pt 4.0pt; padding: 0in; text-align: center;”>पाठ. भोर का तारा (एकांकी)

लेखक. जगदीश चंद्र माथुर

प्रश्न. शेखर को राजकवि क्यों
बनाया गया?

उत्तर. एक उत्सव के अवसर पर
छाया के मुख से मधुर गीत सुनकर सम्राट स्कंदगुप्त मंत्रमुग्ध हो गए। उनके द्वारा
गीत के रचनाकार का नाम पूछे जाने पर छाया ने शेखर का नाम बताया और उसे राजकवि
बनाने की बात कही। छाया की बात मानकर और उसके द्वारा रचित गीत से प्रसन्न होकर सम्राट
द्वारा शेखर को राजकवि बनाया गया।

प्रश्न. भोर का तारा एकांकी का
नायक कौन है? उसका चरित्र-चित्रण कीजिए।

उत्तर. भोर का तारा एकांकी का
नायक शेखर है। वह सच्चा प्रेमी, कर्तव्य के प्रति त्याग को तत्पर रहने वाला युवक
है। उसके चरित्र की विशेषताएँ निम्न हैं-

 (अ) 
सहृदय कवि- शेखर एक सहृदय कवि है। वह प्रकृति के हर तत्त्व में कविता को
देखता है। उसे राजपथ पर भीख माँगने वाली स्त्री में भी कला दिखाई देती है। उसके
रचित गीत पर मुग्ध होकर सम्राट उसे अपना राजकवि बना लेता है।

(ब) भावुक व्यक्ति-  शेखर एक भावुक व्यक्ति है। वह अपने भावों को
अपनी कविता के माध्यम से प्रकट करता है

(स) सच्चा प्रेमी- शेखर एक
सच्चा प्रेमी है। वह छाया और अपने बीच के अंतर को जानता है वह सदैव अपनी सीमा में
रहकर छाया को चाहता है। 

(द) राजभक्त-  राजकवि नियुक्त होने पर अपने कवि कर्म के
द्वारा राजा को प्रसन्न करता है किंतु उन्हें ज्ञात होने पर कि राष्ट्र पर संकट आ
गया है वह व्यक्तिगत प्रेम संबंधी अपनी रचना को आग के हवाले कर देता है।

(य)  कर्तव्य के प्रति सजग एवं त्याग को तत्पर-  शेखर अपने कर्तव्य के प्रति सजग है वह कवि-कर्म
द्वारा देश के प्रति अपने कर्तव्यों के निर्वहन हेतु देशवासियों को सजग करता है।

प्रश्न. भोर का तारा एक निजी
प्रेम-प्रधान एकांकी है या देश प्रेम प्रधान एकांकी? कारण सहित उत्तर दीजिए

उत्तर. भोर का तारा एकांकी आरंभ
से मध्य तक निजी प्रेम से परिपूर्ण एकांकी प्रतीत होता है। जिसका नायक शेखर अपनी
प्रेयसी के प्रेम से प्रेरणा लेकर काव्य रचना करता है। वह जीवन के प्रत्येक अंग
में प्रेम देखता है किंतु जैसे-जैसे मध्य से आगे बढ़ता है वह निजी प्रेम से देश
प्रेम में बदलता जाता है। माधव के द्वारा यह सूचना पाकर कि भारत में हूणों का
प्रवेश हो चुका है और वे अपने अत्याचार और अन्याय से लोगों को प्रताड़ित कर रहे
हैं, स्वदेश प्रेम में परिणत हो जाता है। माधव से अपनी ओजपूर्ण वाणी में देश के
युवाओं में देश के प्रति प्रेम और चेतना जगाने को कहता है। शेखर देशवासियों को
जाग्रत करता है। वह अपनी प्रेम की निशानी भोर का तारा को आग के हवाले कर देता है
इस प्रकार निजी प्रेम के ऊपर राष्ट्रप्रेम विजयी होता है।

पाठ. गेहूँ बनाम गुलाब

लेखक. रामवृक्ष बेनीपुरी।

इस पाठ में लेखक ने गेहूँ को
मनुष्य की भौतिक आवश्यकताओं का प्रतीक माना है वहीं गुलाब को मानव की सांस्कृतिक
प्रगति का प्रतीक माना है।

गुलाब मनुष्य के मानसिक विकास
को सूचित करता है।

प्रश्न. गेहूँ पर गुलाब की
प्रभुता से क्या तात्पर्य है?

उत्तर. मनुष्य को भौतिक वस्तुओं
के जंजाल से मुक्त होकर सांस्कृतिक एवं प्राकृतिक सौंदर्य के आनंद को प्राप्त करना
होगा। भौतिक, आर्थिक एवं राजनीतिक आवश्यकताओं के स्थान पर सांस्कृतिक एवं मानसिक
आवश्यकताओं को महत्त्व देना होगा। मनुष्य को मानसिक आवश्यकताओं का स्तर शारीरिक
आवश्यकता के स्तर से ऊँचा उठाना होगा। तभी यह गेहूँ पर गुलाब की प्रभुता संभव हो
पाएगी।

प्रश्न. ‘शौक-ए-दीदार अगर है तो
नज़र पैदा कर’ पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए।

उत्तर. लेखक कहते हैं कि जल्द
ही इस संसार से भौतिक युग समाप्त हो जाएगा और लोग धन तथा अपने स्वार्थों को
महत्त्व देने के स्थान पर श्रेष्ठ और महान विचारों तथा प्रेम और सौहार्द्र पर
आधारित भावनाओं को महत्त्व देना शुरू कर देंगे। शारीरिक भूख और तृप्ति के स्थान पर
मानसिक संतोष और भावनाओं की संतुष्टि पर अधिक बल दिया जाएगा। संपूर्ण संसार सुखमय
हो जाएगा यदि कोई आने वाले ऐसे सुनहरे युग को देखना और महसूस करना चाहता है तो उसे
स्वयं के प्रत्यक्षीकरण की प्रबल जिज्ञासा पैदा करनी होगी।

हिंदी साहित्य का आधुनिक
काल

 

प्रश्न. भारतेंदु युग को
पुनर्जागरण काल क्यों कहा जाता है?  इस काल
के गद्य साहित्य की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।

उत्तर. भारतेंदु पुरानी और नई
के संधि स्थल पर हैं। इस युग में रीतिकाल की शृंगार प्रवृत्ति,  व्यक्ति महिमा के स्थान पर कवि गण समाज और
राष्ट्र को उद्बोधन देने वाली लोक मंगलकारी दृष्टि अपनाने लगे थे। इसी कारण
भारतेंदु युग को पुनर्जागरणकाल कहा जाता है। भारतेंदु युग के गद्य साहित्य में
गद्य की लगभग सभी विधाओं में यथा नाटक, उपन्यास, कहानी, निबंध, आलोचना इत्यादि का
विकास एवं लेखन हुआ। इसमें सांस्कृतिक जागरण का संदेश निहित था। भारतेंदुयुगीन
गद्य साहित्य में धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्र में परिवर्तन एवं
सुधार की आवाज मुखर थी। इस काल के गद्य साहित्य में मातृभूमि प्रेम, स्वदेशी की
भावना, कुरीतियों का विरोध,  शिक्षा का
महत्त्व, मद्य का निषेध,  बाल-विवाह
इत्यादि विषयों पर लेखकों ने अपने विचार प्रकाशित किए। ब्रह्मसमाज, आर्यसमाज,
स्वामी विवेकानंद व थियोसोफिकल सोसायटी के सिद्धांतों ने भी गद्यकारों को प्रभावित
किया।

प्रश्न.  भारतेंदु युग को पुनर्जागरणकाल क्यों कहा जाता
है?  इस काल के प्रमुख कवि एवं उनकी रचनाओं
का उल्लेख कीजिए।

उत्तर. भारतेंदु युग में जन
चेतना पुनर्जागरण की भावना से भरी हुई थी इस कारण उस समय की साहित्य चेतना
मध्यकालीन रचना प्रवृत्तियों तक सीमित न रहकर नई दिशाओं की ओर बढ़ने लगी इस कारण इस
युग को पुनर्जागरणकाल कहा जाता है। इस काल के प्रमुख कवि भारतेंदु हरिश्चंद्रए
प्रेमघन; बद्रीनारायण चौधरीद्धए प्रतापनारायण मिश्रए ठाकुर जगन्मोहनसिंहए
अंबिकादत्त व्यासए राधाकृष्ण दास थे। इनकी प्रमुख रचनाएँ भारतेंदु कृत-
विद्यासुंदर, मुद्राराक्षस, भारतदुर्दशा, वैदिकी हिंसा हिंसा न भवति, अंधेर नगरी,
प्रेमजोगिनी। प्रेमघन कृत- मयंक महिमा, लालित्य लहरी, जीर्ण जनपद। प्रतापनारायण
मिश्र कृत-प्रेम पुष्पावली,  शृंगार विलास।
अंबिकादत्त व्यास कृत- हो हो होरी, पारस पतासा, 
सुकवि सतसई। बालकृष्ण भट्ट कृत- सौ अजान एक सुजान, नूतन ब्रह्मचारी, रहस्य
कथा। राधाचरण गोस्वामी कृत- नवभक्तमाल, 
श्रीदामा चरित, तन मन धन गोसाई जी अर्पण, 
बूढ़े मुँह मुँहासे लोग देखे तमाशे इनके अतिरिक्त अन्य कवियों ने भी
भारतेंदु काल को अपने काव्य से समृद्ध किया।

प्रश्न. द्विवेदी युग को जागरण
सुधार काल क्यों कहा जाता है?

उत्तर. द्विवेदी युग का नामकरण
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम पर हुआ है। आचार्य द्विवेदी ने सन् 1903 से
सरस्वती पत्रिका का संपादन शुरू किया था। इस पत्रिका में इन्होंने खड़ी बोली को
अपनाया। द्विवेदी जी भाषा की शुद्धता एवं वर्तनी की एकरूपता के प्रबल समर्थक थे।
अतः आपने काव्यभाषा का व्याकरण की दृष्टि से परिमार्जन किया। द्विवेदी जी ने
समस्या पूर्ति को छोड़ने एवं स्वतंत्रता विषय पर कविता लिखने का परामर्श दिया इस
कारण यह युग जागरण सुधारकाल के नाम से अभिहित किया जाता है।

प्रश्न. छायावादयुगीन कहानी
विधा पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए

उत्तर. आधुनिक हिंदी कहानी का
विकास सच्चे अर्थों में इसी काल में हुआ था। कहानी परंपरा में प्रेमचंद का
आदर्शवादी एवं यथार्थवादी दृष्टिकोण साथ-साथ दिखाई देता है। आपने तकरीबन 300
कहानियाँ लिखीं। जो मानसरोवर के आठ खंडों में प्रकाशित हुई थी। बूढ़ी काकी,
कजाकी,  सवा सेर गेहूँ, ठाकुर का कुआँ,
ईदगाह, सद्गति इनकी मुख्य कहानियाँ हैं। इस काल के दूसरे प्रमुख कहानीकार जयशंकर
प्रसाद हैं। इनकी कहानियों में जीवन के यथार्थ की जगह स्वर्णिम अतीत के गौरव को
अधिक स्थान दिया गया है। प्रतिध्वनि, इंद्रजाल, आकाशदीप और आँधी इनके मुख्य कहानी
संग्रह हैं। इस युग के अन्य कहानीकारों में विशंभरनाथ कौशिक, सुदर्शन प्रेमचंद की
धारा के अनुयायी हैं। पांडे बेचन शर्मा ‘उग्र’ ने एक नई कहानी धारा का विकास किया।
उनकी कहानियों में सामाजिक विद्रोह के खिलाफ उग्र आक्रोश की अभिव्यक्ति हुई है।
जैनेंद्र ने कहानी को ‘घटना’ के स्तर से मानव चरित्र और मनोवैज्ञानिक स्तर पर ला
खड़ा किया। अज्ञेय ने भारतीय समाज की रूढ़िवादिता, शोषण, तत्कालीन विश्व में व्याप्त
संघर्ष को अपनी कहानियों में स्थान दिया। राहुल सांकृत्यायन और सुभद्रा कुमारी
चौहान ने सामाजिक व पारिवारिक व्यवहार पर केंद्रित कहानियों की रचना की।

प्रश्न. नई कविता क्या है? नई
कविता की प्रमुख विशेषता एवं कवियों का संक्षिप्त वर्णन कीजिए।

उत्तर. प्रयोगवाद का विकास ही
कालांतर में नई कविता के रूप में हुआ। प्रयोगवाद और नई कविता के मध्य कोई निश्चित
सीमा रेखा नहीं खींची जा सकती। बहुत से प्रयोगवादी कवियों ने नई कविता भी लिखी। नई
कविता की पहली विशेषता जीवन के प्रति आस्था है। इन कविताओं में आज की क्षणवादिता
और लघु.मानवतावादी दृष्टि जीवन मूल्यों के प्रति नकारात्मक नहीं बल्कि सकारात्मक
है। नई कविता में जीवन को पूर्ण रूप से स्वीकार कर उसे भोगने की लालसा दिखाई देती
है। अनुभूति की सच्चाई भी नई कविता में दिखाई देती है नई कविता जीवन के एक-एक क्षण
को सत्य मानती है। नई कविता में जीवन मूल्यों की नई दृष्टिकोण से व्याख्या की गई
है। लोक से जुड़ाव ही नई कविता की मुख्य विशेषता है। नई कविता में नवीनताए
बौद्धिकता, अतिशय वैयक्तिकता, क्षणवादिता, भोग एवं वासना, यथार्थवादिता, आधुनिक
बोध, प्रणयानुभूति, लोक संस्कृति, नया शिल्प विधान आदि विशेषताएँ मिलती हैं।
गिरिजा कुमार माथुर, मुक्तिबोध, जगदीश गुप्त, शमशेर बहादुर सिंह, त्रिलोचन इत्यादि
इसके मुख्य हस्ताक्षर हैं।