GARIMA PETIKA INFORMATION

GARIMA PETIKA INFORMATION

GARIMA PETIKA INFORMATION | गरिमा पेटिका 

 

GARIMA PETIKA INFORMATION

विद्यालय में बालिका उत्पीडन एवं बाल यौनाचार की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने हेतु दिशा-निर्देश

विद्यालयों में अध्ययनरत सभी बालक / बालिकाओं को बिना किसी भेदभाव के सुरक्षित, संरक्षित एवं सर्वागीण विकासोन्मुख वातावरण में शिक्षा प्राप्त होना उनका अधिकार है परंतु लैंगिक असमानता एवं अवांछित छेड़-छाड़ की घटनाएं इसे चुनौतीपूर्ण रूप से बाधित करती रहती है। अतः इन परिस्थितियों में संस्था प्रधानों, अध्यापकों, विद्यार्थियों, विद्यालय के अन्य कार्मिकों तथा अभिभावकों में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता समीचीन है। इस बाबत विद्यालयी पाठ्यक्रम निर्माण एवं शिक्षक प्रशिक्षण विषय वस्तु में लैंगिक संवेदनशीलता को भी प्रत्यक्ष / अप्रत्यक्ष रूप से पाठ्यक्रम में समावेशित किया गया है। इसी क्रम में आपको पुनः निर्देशित किया जाता है कि आप अपने अधीनस्थ समस्त विद्यालयों में इस प्रकार की घटनाऐं रोकने के लिए विभिन्न स्तरों पर अग्रांकित विवरणानुसार तत्काल कार्यवाही सम्पादित की जानी सुनिश्चित करें:

1. विद्यालय के समस्त कार्यरत कार्मिकों, शिक्षकों SDMC व SMC के सदस्यों को “लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012” की कतिपय धाराओं यथा धारा – 19 (1) एवं 21 में विहित प्रावधान, जो समस्त कार्मिकों को दायित्वबद्ध करते हैं कि बाल / यौन प्रताड़ना से संबंधित घटनाओं पर तत्काल प्रसंज्ञान लिया जाकर नियमानुसार कार्यवाही सम्पादित की जाए की अवगति प्रदान करवाते हुए प्रत्येक स्तर पर इसकी सख्ती से पालना हेतु सम्पादित किया जाए।

2. विद्यालयों में गुड टच वेड टच की जानकारी देने हेतु प्रश्नोत्तरी, कविता, लघु नाटक, पोस्टर व कहानी इत्यादि के माध्यम से क्षेत्रिय शालीन भाषा में कार्यक्रम आयोजित किए जाए साथ ही विद्यालय में होने वाली बाल सभाओं में भी इस विषय पर जानकारी दिया जाना सुनिश्चित करावें प्रत्येक दिन प्रार्थना सभा के दौरान छात्राओं से संवाद किया जाए।

3. विद्यालयों में होने वाली अध्यापक-अभिभावक बैठक में अध्यापकों द्वारा अभिभावकों को बच्चों की सूक्ष्म गतिविधियों एवं उनके मूड पर नजर रखने, पड़ोसियों एवं रिश्तेदारों से बाल उत्पीडन से सावधान रहने के संबंध में समझाया जावें।

4. विद्यालय में कक्षा-कक्षों में सद्भावनापूर्ण वातावरण बनाने हेतु विशेष प्रयास किए जाएं एवं किशोर बालिकाओं के मध्य स्वास्थ्य व स्वच्छता संबंधी जागरूकता उत्पन्न करने एवं उन्हें गुड टच- बेड टच तथा राज्य बाल संरक्षण आयोग, बाल कल्याण समिति, पंचायत स्तरीय बाल संरक्षण समितियों के बारे में विस्तृत रूप में जानकारी दी जावें।

5. प्रत्येक विद्यालय में संस्था प्रधान की अध्यक्षता में यौन उत्पीड़न कमेटी गठित की जाए, जिसमें दो महिला शिक्षिका अनिवार्य रूप से हो ।

6. यथासंभव विद्यालय परिसर में आवश्यकतानुसार चिन्हित स्थानों पर लिखित चेतावनी सहित सीसीटीवी कैमरे एवं एक गरिमा पेटिका भी लगवाई जाए।

7. गरिमा पेटिका के बारे में छात्राओं को पुरी जानकारी दी जाए कि उनकी किसी प्रकार की शिकायत है, तो वे इस पेटिका में शिकायत दर्ज करवाऐं।

8. संस्था प्रधान गरिमा पेटी को प्रत्येक 15 दिन के भीतर खोले एवं उसमें प्राप्त शिकायतों का रजिस्टर संधारित करे। यदि कोई शिकायत पाई जाती है जो कमेटी तत्काल निर्णय करें।

9. विद्यालय के सूचना पट्ट तथा सुदृश्य स्थानो पर Child help line से संबंधित दूरभाषः – 1098 का स्पष्ट अंकन किया जाए तथा इस बारे में समस्त विद्यार्थियों को जानकारी दी जाए।

10. विद्यालय में उतरदायी भूमिका में निबद्ध कार्मिकों द्वारा इस तरह के अपराध में संलिप्तता पाए जान पर संबंधित पक्ष / व्यक्ति के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाए। अतः समस्त संस्था प्रधानों, शिक्षकगणों एवं अन्य विद्यालयी स्टाफ से यह अपेक्षा की जाती है कि लैंगिक समानता के लिए संवेदनशीलता से कार्य करें एवं विद्यालयों में पूर्णतः भयमुक्त एवं विभेदमुक्त वातावरण में निर्माण में अपना भरसक योगदान प्रदान करें।

GARIMA PETIKA INFORMATION

  • प्रत्येक विद्यालय में गरिमा पेटिका का संधारण करना अनिवार्य होगा |
  • प्रत्येक 15 दिन बाद इसे खोलना अनिवार्य हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या का पंजिका में इन्द्राज करना हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या का समाधान समिति के द्वारा किया जाना हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या को गुप्त रखते हुए समाधान किया जाना चाहिए और समस्या का समाधान करने के बाद समस्त विद्यार्थियों को सूचित किया जाना हैं  कि ” इन दिनों में प्राप्त समस्याओं, सुझावों का अवलोकन करके निपटारा कर दिया हैं ” जिससे शिकायत कर्ता को पता लग सकें |
  • गरिमा पेटिका ऐसे स्थान पर रखी जानी चाहिए जहाँ से वो हर किसी के पहुंच में |
  • गरिमा पेटिका का महत्व प्रत्येक सोमवार को प्रार्थना सभा में जरूर बताये |

 

 

  • -स्कूल में गरिमा पेटी कब स्थापित की गई।
  • -शिकायतों के निस्तारण के लिए बनाई समिति में कौन-कौन सदस्य हैं और समिति का गठन कब किया गया।
  • -गरिमा पेटी को कब-कब खोला गया।
  • -गरिमा पेटी में कितनी शिकायतें प्राप्त हुई।
  • -गरिमा पेटी में आई कितनी शिकायतों का निस्तारण किया गया।
 

 

विद्यालय स्तर पर आने वाली शिकायतों व समस्याओं के निस्तारण के लिए समिति का गठन किया जाना हैं। इसमें –
  1. संस्था प्रधान (प्रधानाचार्य/प्रधानाध्यापक),
  2. एक पुरुष शिक्षक,
  3. एक महिला शिक्षक,
  4. एक छात्र व
  5. एक छात्रा के साथ
  6. एक गैर शैक्षणिक कर्मचारी को शामिल करना हैं। इसमें इस बात को ध्यान रखना हैं कि समिति के सदस्य लैंगिक संवेदनशील व समानता के पक्षधर हों।
 
 

 

इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए विद्यालय में संभव होने पर सीसीटीवी कैमेरे लगाने के भी निर्देश हैं। इसके साथ ही चिह्नित स्थानों पर लिखित चेतावनी भी लगानी हैं। जिसका पालन स्कूलों की ओर से किया जाना हैं। इसके अलावा सूचना पट्ट पर चाइल्ड हैल्प लाइन के फोन नम्बर भी लिखे जाने हैं । इसकी जानकारी विद्यार्थियों को भी दी जानी हैं।
 

 

गरिमा पेटी और समिति के कार्यों को शाला दर्पण पर अपलोड करने के लिए सभी संस्था प्रधानों को निर्देश दिए गए हैं। इस नवाचार से बालिकाओं को सुरक्षित व संरक्षित वातावरण में शिक्षा प्राप्त करने का समान अधिकार मिल सकेगा।

अन्य कक्षाओ  की अध्ययन सामग्री के लिए यहाँ क्लिक करें ⇓

 
JOIN OUR TELEGRAM                            JOIN OUR FACEBOOK PAGE


बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 


राजस्थान एजुकेशन न्यूज़ मोटीवेशल स्टोरीज / प्रेरक कहानियाँ
रोजगार के लेटेस्ट अलर्ट राजस्थान शिक्षा जगत अपडेट
1500 भर्तियों के मोक टेस्ट  नोट्स किताबें PDF फाइल्स