Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR

Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR

उदयपुर: करियर मार्गदर्शन राज्य स्तरीय वेबिनार आरएससीईआरटी उदयपुर : Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR SCERT organizes career counselling webinars करियर मार्गदर्शन राज्य स्तरीय वेबिनार., राजस्थान स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एससीईआरटी) ने शुक्रवार से नौवीं से बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए करियर काउंसलिंग पर केंद्रित वेबिनार की एक श्रृंखला शुरू की।

Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR SCERT organizes career counselling webinars करियर मार्गदर्शन राज्य स्तरीय वेबिनार वेबिनार को अगले चार सप्ताह तक प्रत्येक शुक्रवार को इसके आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर लाइव होस्ट किया जाएगा।

पांच वेबिनार में से प्रत्येक विभिन्न विषयों पर ध्यान केंद्रित करेगा, जिसमें करियर विकल्प, तनाव प्रबंधन, विशिष्ट क्षेत्रों के लिए विशिष्ट विषय शामिल हैं।

विद्यार्थियों के लिए गैर पारम्परिक करियर के अवसर

  • एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एससीईआरटी का व्यावसायिक मार्गदर्शन विभाग वेबिनार का आयोजन कर रहा है, जो सभी के लिए खुला है। “छात्र और माता-पिता उन्हें लाइव या बाद में देख सकते हैं।
  • हम उन्हें बुनियादी जानकारी दे रहे हैं कि उनके लिए प्रमुख कैरियर विकल्प क्या उपलब्ध हैं, अन्य विषयों के साथ-साथ उन्हें स्नातक या कक्षा IX-XII स्तर पर वास्तव में नौकरी पाने के लिए किन विषयों या धाराओं को चुनने की आवश्यकता है।
  • जैसे-जैसे परीक्षाएं आ रही हैं, हम उन्हें यह जानकारी भी दे रहे हैं कि तनाव कैसे प्रबंधित करें, तैयारी कैसे करें, हमारा अपना करियर पोर्टल जो दूसरों के बीच करियर विकल्पों के बारे में अधिक जानकारी देता है, ”एससीईआरटी के अधिकारी ने कहा।
वेबिनार में कौन कौन जुड़ेगा वेबिनार कब आयोजित होगा
विद्यार्थी कक्षा 9 से 12 के विद्यार्थी वेबिनार कब आयोजित होगा
विद्यालय के संस्था प्रधान दिनांक : 10 जनवरी
विद्यालय के समस्त शिक्षकसमय : 11:00 AM – 12:30 AM

RBSE QUESTION BANK : 

अभी तक, सभी सत्र लाइव आयोजित किए जाएंगे, लेकिन वे इंटरएक्टिव नहीं होंगे।

हालांकि, विभाग अप्रैल में इस तरह के वेबिनार का एक और सेट लगाने की योजना बना रहा है, जो इंटरैक्टिव हो सकता है।

आज के मंडी भाव जानना चाहते हैं ? तो यहाँ क्लिक कीजिए https://agriculturepedia.in/
आज के मंडी भाव जानना चाहते हैं ? तो यहाँ क्लिक कीजिए

Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR SCERT organizes career counselling webinars करियर मार्गदर्शन राज्य स्तरीय वेबिनार
Career Guidance State Level Webinar RSCERT UDAIPUR SCERT organizes career counselling webinars करियर मार्गदर्शन राज्य स्तरीय वेबिनार

LIVE WEBINAR देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023 : Rajasthan govt calendar 2023 pdf – राजस्थान गवर्नमेंट (Government) कैलेंडर Raj Calendar is an unique high quality monthly calendar सरकारी कैलेंडर Public Holidays Rajasthan Govt Holidays 2023 List the government of Rajasthan has dispatch public holidays for September and October, November, December upcoming months for full year 2023. Holidays list in Rajasthan school / college and government sectors departments remains all Sundays and some pf general and options special days

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023 : सामान्य प्रशासन विभाग ने वर्ष 2023 के सार्वजनिक और ऐच्छिक अवकाश की सूची जारी कर दी। विभाग ओर से जारी आदेश में 29 सार्वजनिक और 21 ऐच्छिक अवकाश घोषित किए गए हैं। यह आदेश राजकीय कार्यालयों पर लागू होगा। कर्मचारियों को 07 सार्वजनिक अवकाश शनिवार या रविवार को आ रहे , नुकसान हो रहा है।

माह : जनवरी 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

माह : फरवरी 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023
अपने जिलो के कृषि मंडी के भाव जानने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए
अपने जिलो के कृषि मंडी के भाव जानने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

मार्च 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

अप्रेल 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

मई 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

जून 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

जुलाई 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

अगस्त 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

सितम्बर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

अक्टूबर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

माह : नवम्बर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

माह : दिसम्बर 2023

RAJASTHAN GOVERNMENT CALANDER 2023 PDF राजस्थान सरकार मासिक कलेंडर 2023

Shivira panchang 2022-23 pdf download शिविरा पंचांग 2022 PDF

Rajasthan Government and private school opening new guidelines / Latest Updates : Shivira panchang 2022-23, Shivira 2022-23, Rajasthan Shivira panchang 2022-23, Shivira panchang 2022 – Shivira panchang July 2022 Pdf download, Shivira panchang August 2022 PDF download, Shivira panchang September 2022 download, Shivira panchang October 2022 PDF download, Shivira panchang November 2022 pdf download, Shivira panchang December 2022 pdf download, Shivira panchang January 2023 pdf download, Shivira panchang February 2023 pdf download, Shivira panchang march 2023 pdf download, Shivira panchang April 2023 pdf download, Shivira panchang may 2023 pdf download, Shivira panchang June 2023 pdf download,

राजस्थान में सरकारी स्कूल और प्राइवेट स्कूलों को खोलने को लेकर ताजा जानकारी सामने आई है साथ ही सत्र 2022-23 के लिए शिविरा कैलेंडर जारी कर दिया गया हैं। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने सत्र 2022 23 के लिए शिविरा पंचांग जारी कर दी गई है। इस बार नए शैक्षिक सत्र की शुरुआत शिक्षकों के लिए 24 जून 2022 से होगी। साथ ही बच्चों के लिए 1 जुलाई 2022 से स्कूलें खुलेगी। सरकारी और निजी स्कूलों में गर्मियों की छुट्टियां समाप्त हो रही है और जल्दी स्कूलों में वापस बच्चों की और शिक्षकों की चहल-पहल होगी। बीते तीन वर्षों में कोविड-19 की वजह से स्कूलों का सत्र समय से नहीं प्रारंभ हो पा रहा था। लेकिन इस बार समय पर स्कूलों का संचालन शुरू होगा गत 3 वर्षों में शिक्षा व्यवस्था में कोविड-19 की वजह से सुचारू संचालन नहीं हो पाया था। राजस्थान में स्कूलों और कॉलेजों की संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल में के माध्यम से उपलब्ध करवाने की कोशिश की जा रही है आशा है ये आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी ।

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा निदेशालय द्वारा सभी सरकारी और निजी विद्यालयों के लिए 1 जुलाई 2022 से 30 जून 2023 तक के लिए शिविरा पंचांग या संचालन कार्यक्रम जारी किया

Shivira panchang 2022-23

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा निदेशालय द्वारा सभी सरकारी और निजी विद्यालयों के लिए 1 जुलाई 2022 से 30 जून 2023 तक के लिए शिविरा पंचांग या संचालन कार्यक्रम जारी किया गया है। पंचांग के अनुरूप क्षेत्राधिकार में विद्यालय संचालन / विभागीय क्रियाकलापों कार्यक्रम एवं गतिविधियों का आयोजन और क्रियान्वयन किया जायेंगा।

Shivira panchang 2022-23 PDF

  1. आगामी शैक्षणिक सत्र 2022 23 का सत्रारंभ 24 जून 2022 से शिक्षण कार्य और विद्यार्थियों की नियमित उपस्थिति 1 जुलाई 2022 से प्रारंभ की जाएगी। 24 जून से सामान्य प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ हो जाएगी साथ ही प्रवेशोत्सव दो चरणों में चलाया जाएगा। प्रवेश की अंतिम तिथि 15 जुलाई 2022 होगी। व्यवसायिक शिक्षा संचालित विद्यालयों में योजना का प्रचार प्रसार और नवीन विद्यार्थियों हेतु प्रवेश काउंसलिंग 21 से 30 जून 2022 तक किया जाएगा। मध्यावधि अवकाश 19 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक किया जाएगा । विद्यालयों में शीतकालीन अवकाश 25 दिसंबर 2022 से 5 जनवरी 2023 तक रहेगा इस बार शीतकालीन अवकाश में 5 दिनों की बढ़ोतरी की गई है।

Shivira panchang 2022-23 Admission Date

कक्षा 1 में प्रवेश के समय राज्य सरकार द्वारा संशोधित प्रवधानानुसार विद्यार्थियों की आयु 5 वर्ष से अधिक परंतु 7 वर्ष से कम होनी चाहिए। आरटीई अधिनियम 2009 के अनुसार बालक बालिकाओं का विद्यालय में प्रवेश वर्ष पर्यंत रहेगा। राज्य कर्मचारी माता पिता और अभिभावक के स्थानांतरण होने पर मध्य सत्र में भी प्रवेश दिया जा सकेगा। हाउसहोल्ड सर्वे के माध्यम से ड्रॉपआउट बालकों की सूची बनाकर उनका आयु अनुरूप कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा और विशेष शिक्षण की व्यवस्था भी की जाएगी।
प्रार्थना सभा में निम्न गतिविधियां
प्रार्थना सभा के लिए 25 मिनट का समय निर्धारित है इस निर्धारित समय में की जाने वाली गतिविधियां निम्नानुसार है- राष्ट्रगीत प्रार्थना योगाभ्यास सूर्य नमस्कार प्राणायाम समाचार वाचन प्रतिज्ञा राष्ट्रगान आदि है। साथी प्रत्येक माह के प्रथम सोमवार को विद्यार्थी और शिक्षक तंबाकू का सेवन नहीं करने की प्रतिज्ञा लेंगे।

Shivira panchang 2022-23 संपूर्ण निर्धारित प्रक्रिया

( 24 जून 2022 से 30 अप्रैल 2023 तक)

प्रथम परख 22 से 24 अगस्त 2022
द्वितीय परख 10 से 12 अक्टूबर 2022
अर्द्ध वार्षिक परीक्षा 10 से 23 दिसम्बर 2022
तृतीय परख 20 से 22 फरवरी 2023
वार्षिक परीक्षा 6 से 25 अप्रैल 2023
वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषणा 30 अप्रैल 2023
प्रत्येक शनिवार NO BAG DAY रहेगा
तहसील स्तरीय शिक्षक खेलकूद प्रतियोगिता 19 से 20 सितम्बर 2022
जिला स्तरीय शिक्षक खेलकूद प्रतियोगिता 7 से 8 अक्टूबर 2022
राज्य स्तरीय शिक्षक खेलकूद प्रतियोगिता 30 से 31 दिसम्बर 2022
जिला स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन 23 से 24 सितम्बर 2022
राज्य स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन 25 से 26 नवम्बर 2022
मध्यावधि अवकाश 19 से 31 अक्टूबर 2022
शीतकालीन अवकाश 25 दिसम्बर 2022 से 5 जनवरी 2023
ग्रीष्म अवकाश 17 मई 2023 से 23 जून 2023

Shivira panchang 2022-23 Government And Private School Timings

1 अप्रैल से 30 सितंबर तक विद्यालय समय प्रातः 7:30 से 1:00 बजे तक रहेगा कुल 5:30 घंटे तक विद्यालय संचालन रहेगा प्रत्येक कालांश 35 मिनट का होगा।
शीतकाल (1 अक्टूबर से 31 मार्च )में विद्यालय संचालन हेतु समय प्रातः 10:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक रहेगा। कुल 6 घंटे विद्यालय संचालन रहेगा। एक से 6 कालांश तक समय 40 मिनट का रहेगा तत्पश्चात 7 और 8 का कालांश समय 35 मिनट का रहेगा। प्रतिदिन 8 क्लास के लिए समय विभाग चक्र तैयार किया जाएगा। मध्यांतर चौथे कालांश के पश्चात होगा और 35 मिनट का समय निर्धारित होगा।

सत्र 2022-23 के लिए माध्यमिक शिक्षा निदेशालय बीकानेर द्वारा शिवरा पंचांग जारी कर दी गई है जोकि नीचे माह- वार पीडीएफ के माध्यम से डाउनलोड की जा सकती है।

Shivira panchang 2022-23 Download Month Wise

Sivira panchang July 2022 Click Here
Sivira panchang August 2022 Click Here
Sivira panchang September 2022 Click Here
Sivira panchang October 2022 Click Here
Sivira panchang November 2022 Click Here
Sivira panchang December 2022 Click Here
Sivira panchang January 2023 Click Here
Sivira panchang February 2023 Click Here
Sivira panchang March 2023 Click Here
Sivira panchang April 2023 Click Here
Sivira panchang May 2023 Click Here
Sivira panchang June 2023 Click Here

 

शिविरा पंचांग 2022-23

GARIMA PETIKA INFORMATION

GARIMA PETIKA INFORMATION

GARIMA PETIKA INFORMATION | गरिमा पेटिका 

 

GARIMA PETIKA INFORMATION

विद्यालय में बालिका उत्पीडन एवं बाल यौनाचार की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने हेतु दिशा-निर्देश

विद्यालयों में अध्ययनरत सभी बालक / बालिकाओं को बिना किसी भेदभाव के सुरक्षित, संरक्षित एवं सर्वागीण विकासोन्मुख वातावरण में शिक्षा प्राप्त होना उनका अधिकार है परंतु लैंगिक असमानता एवं अवांछित छेड़-छाड़ की घटनाएं इसे चुनौतीपूर्ण रूप से बाधित करती रहती है। अतः इन परिस्थितियों में संस्था प्रधानों, अध्यापकों, विद्यार्थियों, विद्यालय के अन्य कार्मिकों तथा अभिभावकों में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता समीचीन है। इस बाबत विद्यालयी पाठ्यक्रम निर्माण एवं शिक्षक प्रशिक्षण विषय वस्तु में लैंगिक संवेदनशीलता को भी प्रत्यक्ष / अप्रत्यक्ष रूप से पाठ्यक्रम में समावेशित किया गया है। इसी क्रम में आपको पुनः निर्देशित किया जाता है कि आप अपने अधीनस्थ समस्त विद्यालयों में इस प्रकार की घटनाऐं रोकने के लिए विभिन्न स्तरों पर अग्रांकित विवरणानुसार तत्काल कार्यवाही सम्पादित की जानी सुनिश्चित करें:

1. विद्यालय के समस्त कार्यरत कार्मिकों, शिक्षकों SDMC व SMC के सदस्यों को “लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012” की कतिपय धाराओं यथा धारा – 19 (1) एवं 21 में विहित प्रावधान, जो समस्त कार्मिकों को दायित्वबद्ध करते हैं कि बाल / यौन प्रताड़ना से संबंधित घटनाओं पर तत्काल प्रसंज्ञान लिया जाकर नियमानुसार कार्यवाही सम्पादित की जाए की अवगति प्रदान करवाते हुए प्रत्येक स्तर पर इसकी सख्ती से पालना हेतु सम्पादित किया जाए।

2. विद्यालयों में गुड टच वेड टच की जानकारी देने हेतु प्रश्नोत्तरी, कविता, लघु नाटक, पोस्टर व कहानी इत्यादि के माध्यम से क्षेत्रिय शालीन भाषा में कार्यक्रम आयोजित किए जाए साथ ही विद्यालय में होने वाली बाल सभाओं में भी इस विषय पर जानकारी दिया जाना सुनिश्चित करावें प्रत्येक दिन प्रार्थना सभा के दौरान छात्राओं से संवाद किया जाए।

3. विद्यालयों में होने वाली अध्यापक-अभिभावक बैठक में अध्यापकों द्वारा अभिभावकों को बच्चों की सूक्ष्म गतिविधियों एवं उनके मूड पर नजर रखने, पड़ोसियों एवं रिश्तेदारों से बाल उत्पीडन से सावधान रहने के संबंध में समझाया जावें।

4. विद्यालय में कक्षा-कक्षों में सद्भावनापूर्ण वातावरण बनाने हेतु विशेष प्रयास किए जाएं एवं किशोर बालिकाओं के मध्य स्वास्थ्य व स्वच्छता संबंधी जागरूकता उत्पन्न करने एवं उन्हें गुड टच- बेड टच तथा राज्य बाल संरक्षण आयोग, बाल कल्याण समिति, पंचायत स्तरीय बाल संरक्षण समितियों के बारे में विस्तृत रूप में जानकारी दी जावें।

5. प्रत्येक विद्यालय में संस्था प्रधान की अध्यक्षता में यौन उत्पीड़न कमेटी गठित की जाए, जिसमें दो महिला शिक्षिका अनिवार्य रूप से हो ।

6. यथासंभव विद्यालय परिसर में आवश्यकतानुसार चिन्हित स्थानों पर लिखित चेतावनी सहित सीसीटीवी कैमरे एवं एक गरिमा पेटिका भी लगवाई जाए।

7. गरिमा पेटिका के बारे में छात्राओं को पुरी जानकारी दी जाए कि उनकी किसी प्रकार की शिकायत है, तो वे इस पेटिका में शिकायत दर्ज करवाऐं।

8. संस्था प्रधान गरिमा पेटी को प्रत्येक 15 दिन के भीतर खोले एवं उसमें प्राप्त शिकायतों का रजिस्टर संधारित करे। यदि कोई शिकायत पाई जाती है जो कमेटी तत्काल निर्णय करें।

9. विद्यालय के सूचना पट्ट तथा सुदृश्य स्थानो पर Child help line से संबंधित दूरभाषः – 1098 का स्पष्ट अंकन किया जाए तथा इस बारे में समस्त विद्यार्थियों को जानकारी दी जाए।

10. विद्यालय में उतरदायी भूमिका में निबद्ध कार्मिकों द्वारा इस तरह के अपराध में संलिप्तता पाए जान पर संबंधित पक्ष / व्यक्ति के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाए। अतः समस्त संस्था प्रधानों, शिक्षकगणों एवं अन्य विद्यालयी स्टाफ से यह अपेक्षा की जाती है कि लैंगिक समानता के लिए संवेदनशीलता से कार्य करें एवं विद्यालयों में पूर्णतः भयमुक्त एवं विभेदमुक्त वातावरण में निर्माण में अपना भरसक योगदान प्रदान करें।

GARIMA PETIKA INFORMATION

  • प्रत्येक विद्यालय में गरिमा पेटिका का संधारण करना अनिवार्य होगा |
  • प्रत्येक 15 दिन बाद इसे खोलना अनिवार्य हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या का पंजिका में इन्द्राज करना हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या का समाधान समिति के द्वारा किया जाना हैं |
  • प्राप्त सुझाव और शिकायत या समस्या को गुप्त रखते हुए समाधान किया जाना चाहिए और समस्या का समाधान करने के बाद समस्त विद्यार्थियों को सूचित किया जाना हैं  कि ” इन दिनों में प्राप्त समस्याओं, सुझावों का अवलोकन करके निपटारा कर दिया हैं ” जिससे शिकायत कर्ता को पता लग सकें |
  • गरिमा पेटिका ऐसे स्थान पर रखी जानी चाहिए जहाँ से वो हर किसी के पहुंच में |
  • गरिमा पेटिका का महत्व प्रत्येक सोमवार को प्रार्थना सभा में जरूर बताये |

 

 

  • -स्कूल में गरिमा पेटी कब स्थापित की गई।
  • -शिकायतों के निस्तारण के लिए बनाई समिति में कौन-कौन सदस्य हैं और समिति का गठन कब किया गया।
  • -गरिमा पेटी को कब-कब खोला गया।
  • -गरिमा पेटी में कितनी शिकायतें प्राप्त हुई।
  • -गरिमा पेटी में आई कितनी शिकायतों का निस्तारण किया गया।
 

 

विद्यालय स्तर पर आने वाली शिकायतों व समस्याओं के निस्तारण के लिए समिति का गठन किया जाना हैं। इसमें –
  1. संस्था प्रधान (प्रधानाचार्य/प्रधानाध्यापक),
  2. एक पुरुष शिक्षक,
  3. एक महिला शिक्षक,
  4. एक छात्र व
  5. एक छात्रा के साथ
  6. एक गैर शैक्षणिक कर्मचारी को शामिल करना हैं। इसमें इस बात को ध्यान रखना हैं कि समिति के सदस्य लैंगिक संवेदनशील व समानता के पक्षधर हों।
 
 

 

इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए विद्यालय में संभव होने पर सीसीटीवी कैमेरे लगाने के भी निर्देश हैं। इसके साथ ही चिह्नित स्थानों पर लिखित चेतावनी भी लगानी हैं। जिसका पालन स्कूलों की ओर से किया जाना हैं। इसके अलावा सूचना पट्ट पर चाइल्ड हैल्प लाइन के फोन नम्बर भी लिखे जाने हैं । इसकी जानकारी विद्यार्थियों को भी दी जानी हैं।
 

 

गरिमा पेटी और समिति के कार्यों को शाला दर्पण पर अपलोड करने के लिए सभी संस्था प्रधानों को निर्देश दिए गए हैं। इस नवाचार से बालिकाओं को सुरक्षित व संरक्षित वातावरण में शिक्षा प्राप्त करने का समान अधिकार मिल सकेगा।

अन्य कक्षाओ  की अध्ययन सामग्री के लिए यहाँ क्लिक करें ⇓

 
JOIN OUR TELEGRAM                            JOIN OUR FACEBOOK PAGE


बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 


राजस्थान एजुकेशन न्यूज़ मोटीवेशल स्टोरीज / प्रेरक कहानियाँ
रोजगार के लेटेस्ट अलर्ट राजस्थान शिक्षा जगत अपडेट
1500 भर्तियों के मोक टेस्ट  नोट्स किताबें PDF फाइल्स 

 
GARIMA PETIKA INFORMATION

READING CAMPAIGN 100 DAYS FULL INFORMATION

READING CAMPAIGN 100 DAYS FULL INFORMATION

 

READING CAMPAIGN 100 DAYS FULL INFORMATION

 

100 दिवसीय रीडिंग कैंपेन 2022 के संचालन हेतु गाइडलाइन (100 days Reading Campaign: Guidelines and Activities in hindi)

देश में छात्रों के बीच तर्कशक्ति, कल्पनाशीलता और बेहतर तार्किक विकास के लिए भारत सरकार द्वारा एक विशेष अभियान “पढ़े भारत” शुरू किया गया है।
इस 100 दिन के अभियान (100 days reading campaign in hindi) के तहत बच्चों के लिए पढ़ाई को रोचक बनाने पर फोकस किया जा रहा है, ताकि किताबों के प्रति रुचि जीवन भर छात्रों में पैदा की जा सके।

इस अभियान को 100 दिनों तक ( 1 जनवरी 2022 से 10 अप्रैल 2022) तक चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत सिर्फ छात्रों को ही नहीं बल्कि अध्यापकों और अभिभावकों को भी शामिल किया जा रहा है।

इस अभियान के लिए मंत्रालय की ओर से एक साप्ताहिक कैलेंडर भी तैयार किया गया है, जिसमें कार्यक्रम के सभी दिशा-निर्देश और प्रोटोकॉल को मंजूरी दी गई है. छात्र इन गतिविधियों को अपने शिक्षकों, माता-पिता या साथियों के साथ मिलकर कर सकते हैं।

भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं “पढें भारत” अभियान के तहत 100 दिन की कार्ययोजना का जो खाका पेश किया गया है उसके बारे में इस आर्टिकल से जानते हैं कि इन 100 दिनों में विद्यार्थियों से किस प्रकार की गतिविधियां करवाई जानी हैं।

100 Days Reading Campaign: Guidelines and Activities In Hindi

 

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने 5 जुलाई 2021 ‘निपुण भारत मिशन’ बुनियादी साक्षरता और संख्या ज्ञान सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया है। मिशन का उद्देश्य 3 से 9 वर्ष के आयु वर्ग के विद्यार्थियों की सीखने की जरूरतों को पूरा करना है।

विभिन्न अंतरराष्ट्रीय शोधों द्वारा भी यह सिद्ध हुआ है कि बुनियादी शिक्षा प्रत्येक विद्यार्थी के लिए भविष्य के सीखने का आधार है। समझ के साथ पढ़ने, लिखने और गणित की बुनियादी अवधारणाओं को समझने और सीखने में सक्षम होने के बुनियादी कौशल को प्रात नहीं करने से विद्यार्थी कक्षा 3 से आगे की कक्षाओं के पाठ्यक्रम की जटिलताओं के लिए तैयार नहीं हो पाते हैं।

प्रारंभिक शिक्षा के महत्व को स्वीकार करते हुए, राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 इस बात पर जोर देती है कि प्राथमिक विद्यालयों में बुनियादी आधारभूत साक्षरता और संख्या ज्ञान हासिल करना उच्चतम प्राथमिकता होनी चाहिए।

इसके अलावा, इसमें कहा गया है कि यदि यह सबसे बुनियादी शिक्षा (यानी बुनियादी स्तर पर पढ़ना, लिखना और अंकगणित) पहले हासिल नहीं की जाती है, तो इस नीति का बाकी हिस्सा हमारे विद्यार्थियों के एक बड़े हिस्से के लिए काफी हद तक अप्रासंगिक हो जाएगा।

नेशनल अचीवमेंट सर्वे (NAS) सहित भारत में लर्निंग प्रोफाइल के विभिन्न अध्ययनों ने बताया है कि अभी भी कई विद्यार्थी कक्षा स्तर के अनुच्छेद / टेक्स्ट को पढ़ने में सक्षम नहीं है। लेकिन पाठ्यक्रम और संबंधित पाठ्य पुस्तकें इस उम्मीद के साथ तैयार की गई है, कि विद्यार्थियों ने उस कक्षा स्तरीय कौशल हासिल कर लिया है और वे आगे की कक्षा में बढ़ सकते है।

इसी संदर्भ में विद्यालय शिक्षा और साक्षरता विभाग एक राष्ट्रव्यापी “रीडिंग कैंपेन” पठन अभियान शुरू कर रहा है ताकि प्रत्येक विद्यार्थी पढ़ना सीखे और उसके बाद सीखने के लिए पढ़ सकें।

पढ़ना सीखने का आधार है, जो विद्यार्थियों को स्वतंत्र रूप से पुस्तकें पढ़ने के लिए प्रेरित करता है। रचनात्मकता, आलोचनात्मक सोच, शब्दावली विकास और मौखिक और लिखित भाषा में व्यक्त करने की क्षमता विकसित करता है।

यह विद्यार्थियों को उनके परिवेश और वास्तविक जीवन की स्थिति से जोड़ने में मदद करता है। इस प्रकार एक सक्षम वातावरण बनाने की आवश्यकता है जिसमें विद्यार्थी आनंद के लिए पढ़ें और अपने कौशल को एक ऐसी प्रक्रिया के माध्यम से विकसित करें जो आनंददायक और स्थाई हो और जो जीवन भर उनके साथ रहे।

विभिन्न शोध अध्ययनों में सीखने के परिणामों को बेहतर बनाने में पढ़ने के योगदान के महत्व को पुष्ट किया है। यह भाषा और लेखन कौशल पर नियंत्रण विकसित करने की दिशा में एक कदम है। बोलने के विपरीत, पढ़ना एक ऐसा कौशल है जो इंसानों को स्वाभाविक रूप से नहीं आता है और इसे सीखने की आवश्यकता होती है।
पठन कौशल; पाठ और पाठक के बीच एक अंत: क्रिया है, जिसमें न केवल शब्दों के अर्थ को समझना शामिल है, बल्कि पाठ के पीछे के बहुस्तरीय अर्थ को समझना भी शामिल है। इसके लिए निरंतर अभ्यास, विकास और शोध की आवश्यकता होती है।

प्रारंभिक चरण में पढ़ने में वर्णमाला ज्ञान, नामों और ध्वनियों की पहचान करना, ध्वनि जागरूकता (जिस में बोली जाने वाली भाषा को पहचानने, समझने या विश्लेषण करने में सक्षम होना) पत्र लिखना, शब्दावली विकास, याद रखने और समझने के लिए बोली जाने वाली भाषा की सामग्री शामिल है।

साथ ही इसमें पठन कौशल अवधारणाएं (उदाहरण के लिए बाएं से दाएं पढ़ना, आगे पीछे पढ़ना), प्रिंट जागरूकता जिसमें देखकर चित्रों / प्रतीकों से मेल या भेद करने की क्षमता शामिल है।

भाषा सीखना- एक रोजमर्रा की प्रक्रिया

विद्यार्थी अपने दैनिक जीवन में भाषा को समझे बिना उससे जुड़ते हैं। वे किसी न किसी रूप में भाषा का उपयोग करते हैं और भाषा के बारे में अपने ज्ञान का भी उपयोग करते हैं।

वे अपने से बड़ों, छोटो और शिक्षक को संबोधित करना जानते हैं। वे किसी की बात को सुन रहे हैं या रेडियो सुन रहे हो या टेलीविजन देख रहे हैं- ये वे स्रोत हैं जिनसे वे अपनी भाषा सीखते हैं और संप्रेषण के लिए इसका उपयोग करते हैं।

विद्यार्थियों में विद्यालय आने से पहले ही पढ़ने-लिखने की समझ विकसित हो जाती है। विद्यार्थियों के इस पूर्व ज्ञान को उनके साक्षरता कौशल के विकास का आधार माना जा सकता है।
हमारे घरों, घर की नंबर प्लेट, घर की दीवारों और आंगन पर बने मांडणे, पंचांग /कैलेंडर, गैस चूल्हे पर लिखा कंपनी का नाम, बर्तनों पर खुदा किसी का नाम, बांहों पर गुदा नाम या टैटू, अखबार का पन्ना, खरीदारी की सूची, टूथपेस्ट बॉक्स, कोई पोस्टर, राशन कार्ड, आधार कार्ड आदि प्रमुख सहित और मुद्रित सामग्री उपलब्ध है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि उचित या मुद्रित सामग्री का उपयोग पढ़ना सीखने सिखाने में उपयोग बहुत मदद कर सकता है, इसके सही और अधिक उपयोग किए जाने चाहिए।

(i) विद्यार्थी अपने चारों ओर लिखित सामग्री पढ़ना शुरू करते हैं, जैसे बिस्कुट और टॉफी के रैपर, सड़क के किनारे लगे पोस्टर / विज्ञापन, दीवार पर लिखे नारे, विज्ञापन, समाचार पत्र, घर और विद्यालय में उपलब्ध कहानी की पुस्तकें, पत्र / पोस्ट कार्ड इत्यादि।

जैसे ही विद्यार्थी कलम, पेंसिल, चाक को पकड़ना शुरू करते हैं, वे लिखना शुरु कर देते हैं और उनमें कुछ अर्थ या संदेश जोड़ने की कोशिश करते हैं – यह भी लेखन की शुरुआत का एक हिस्सा है। वास्तव में पढ़ने और लिखने की अनुभूति भी दिन प्रतिदिन के सार्थक और व्यवहारिक संदर्भ में मौखिक भाषा के विकास की तरह विकसित होती हैं। पढ़ने वाले विद्यार्थी अक्सर बेहतर शिक्षार्थी बन जाते हैं, जिससे विद्यालय और जीवन के अन्य क्षेत्रों में सफलता मिलती है।

(ii) पढ़ने का एकमात्र लक्ष्य ‘समझना’ होना चाहिए। यह जरूरी है कि मुद्रित पाठ में जो संदेश दिया गया है उसे समझा जाए और उसका आनंद लिया जाए।

(iii) पढ़ना विद्यार्थियों को स्वतंत्र रूप से पुस्तकें पढ़ने, रचनात्मकता, आलोचनात्मक चिंतन, शब्दावली विकसित करने और मौखिक और लिखित दोनों में व्यक्त करने की क्षमता विकसित करने के लिए प्रेरित करता है।

(iv) लेखन भी विचारों को समझने और दूसरों के साथ साझा करने की एक प्रक्रिया है। इसमें ना केवल शब्दों को एक साथ जोड़ने की प्रक्रिया शामिल है, बल्कि यह ज्ञान, सूचना और विचारों को एक सुसंगत तरीके से साझा करने की एक व्यवस्थित प्रक्रिया है। लेखन विद्यार्थियों को अपने विचारों का पता लगाने, आकार देने और स्पष्ट करने और उन्हें दूसरों तक पहुंचाने में सक्षम बनाता है। प्रभावी लेखन रणनीतियों का उपयोग करके, विद्यार्थी विचारों को खोजते और परिष्कृत करते हैं और बढ़ते आत्मविश्वास और कौशल के साथ रचना और संशोधन करते हैं।

(v) विद्यार्थियों की लिखित भाषा की समझ ज्यादातर उनके प्रभावी उपयोग और मौखिक भाषा की समझ पर निर्भर करती है। लेखन के लिए अपना औपचारिक निर्देशात्मक प्रशिक्षण शुरू करने से पहले ही विद्यार्थी अपने आसपास के साक्षरता वातावरण के साथ बातचीत करना शुरू कर देते हैं और प्रतीकों और उनके अर्थों के बीच संबंध बनाना शुरू कर देते हैं।

विद्यार्थियों में पढ़ने की आदत का विकास कैसे करें?

  • विभिन्न प्रकार के सरल और रुचिकर कहानी की पुस्तकों, कॉमिक्स और चुटकुलों की पुस्तकों की उपलब्धता और पहुंच बच्चों तक हो, जिन्हें आकर्षक चित्रों और विशेष रूप से बच्चों की कक्षाओं में चित्रित किया गया है।
  • विद्यार्थियों को नियमित आधार पर निर्धारित समय और कक्षा में पढ़ने के लिए एक अनुकूल माहौल और स्थान प्रदान करने की आवश्यकता है।
  • विद्यार्थियों के साथ पठन गतिविधियों जैसे मुखर वाचन, साझा पठन, उनके द्वारा पढ़ी गई पुस्तकों पर चर्चा, भूमिका निभाना, शब्द खेल आदि, पुस्तकों के साथ उनकी भागीदारी बढ़ाने और पढ़ने की आदत विकसित करने के लिए बहुत आवश्यक है।

गतिविधि के माध्यम से पढ़ने को मनोरंजक कैसे बनाया जाए: राजस्थान का एक केस स्टडी

बच्चों में आजीवन पढ़ने की आदत डालने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम पठन को मनोरंजक और रुचिकर बनाएं। इसलिए, गतिविधि आधारित दृष्टिकोण पढ़ने के अनुभव को रोमांचक और आनंददायक बनाने में सबसे प्रभावी है।

इसका एक वास्तविक उदाहरण राजस्थान राज्य में देखने को मिलता है, जहां दौसा जिले के सिकराय प्रखंड स्थित एक प्राथमिक विद्यालय में एक शिक्षक (मधु चौहान) पदस्थापित थी। जब वे विद्यालय में पदस्थापित हुई, तो उन्होंने पाया कि विद्यालय में नामांकन 32 छात्रों का था, लेकिन मुश्किल से 7-8 छात्र स्कूल आ रहे थे।

उसने कारणों का पता लगाने की कोशिश की तो पता लगा कि छात्रों के माता-पिता सुबह जल्दी काम पर चले जाते हैं और बच्चे जानवरों को चराने के लिए जाते हैं और पूरे दिन कंचे (स्थानीय भाषा में कांच ) खेलते हैं। वह समझ गई थी कि उसे माता-पिता का ज्यादा सहयोग नहीं मिलेगा, इसलिए उसने खुद पहल करने का फैसला किया। अगले दिन से वह स्कूल के खेल के मैदान में कंचों से खेलने लगी।

चूँकि शिक्षिका कंचे खेलना नहीं जानती थी, उसने विधार्थियो से उसे सिखाने के लिए कहा। यह बात जल्द ही गाँव में फैल गई कि शिक्षिका भी स्कूल में कंचों से खेल रही है, इसलिए जो बच्चे स्कूल नहीं आ रहे थे, वे भी स्कूल आए और खेल में भाग लिया और शिक्षिका को भी खेल खेलना सिखाया। यह सिलसिला कुछ दिनों तक चलता रहा जब तक कि सभी छात्र स्कूल नहीं आने लगे।

फिर, शिक्षिका ने संख्या अवधारणा परिचय दिया और कंचों पर 0 से 9 संख्याएँ लिखीं और छात्रों को बड़ी संख्या पर हिट करने के लिए कहा और उन्हें खेल के माध्यम से एक अंक वाली संख्या में जोड़ना और घटाना सिखाया। कुछ समय बाद उन्होंने कंचों पर हिन्दी के अक्षर लिखे और विधार्थियो से उन्हें इस तरह से मारने के लिए कहा जिससे शब्द बनते हैं।

इस प्रयास ने न केवल स्कूल में विधार्थियो की नियमित उपस्थिति सुनिश्चित की बल्कि उन्हें भाषा और अंकगणित की अवधारणा से भी आनंदपूर्वक परिचित कराया।

बालवाटिका से आठवीं कक्षा तक के बच्चे इस अभियान का हिस्सा होंगे। उन्हें आगे तीन समूहों में वर्गवार वर्गीकृत किया जाएगा:

  • समूह I: बालवाटिका से कक्षा II
  • समूह II: कक्षा III से कक्षा V
  • समूह III: कक्षा VI से कक्षा VIII

पठन अभियान 1 जनवरी 2022 से 10 अप्रैल 2022 तक 100 दिनों (14 सप्ताह) के लिए आयोजित किया जाएगा।

 

पठन अभियान का उद्देश्य बच्चों, शिक्षकों, माता-पिता, समुदाय, शैक्षिक प्रशासको आदि सहित राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर सभी हितधारको सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करना है।

100 दिनों का अभियान 14 सप्ताह तक जारी रहेगा और प्रति समूह प्रति सप्ताह एक गतिविधि को पढ़ने को मनोरंजक बनाने और पढ़ने की खुशी के साथ आजीवन जुड़ाव बनाने पर ध्यान देने के साथ डिजाइन किया गया है।

इस अभियान द्वारा प्राप्त किए जाने वाले विकासात्मक लक्ष्य/ सीखने के परिणाम भी गतिविधि कैलेंडर में दिए गए हैं। गतिविधियों का साप्ताहिक कैलेंडर कक्षा बार तैयार किया गया है, जिसे बच्चों को शिक्षकों, माता पिता, साथियों, भाई बहनों या परिवार के अन्य सदस्यों की सहायता से करना चाहिए।

अभियान को प्रभावी बनाने के लिए प्रति सप्ताह केवल एक गतिविधि होगी ताकि बच्चे दिए गए सप्ताह में गतिविधि को दोहरा सकें और अन्ततः इसे साथियों और भाई बहनों के साथ स्वतंत्र रूप से समझने और संचालित करने में सक्षम हो सकें। डिजाइन की गई गतिविधियों को सरल और मनोरंजक रखा गया है और घर पर उपलब्ध सामग्री/ संसाधनों के साथ आसानी से संचालित किया जा सकता है।

प्रत्येक ब्लॉक/ क्लस्टर /स्कूल स्तर पर निम्नलिखित गतिविधियां प्रस्तावित है।

  • इस अभियान में भागीदारी बढ़ाने हेतु माता पिता, विद्यार्थियों के लिए गहन जागरूकता अभियान चलाना, समुदाय के सदस्यों और स्थानीय निकायों को सक्रिय होना चाहिए। राज्य / जिला / ब्लाक / क्लस्टर / स्कूल / मोहल्ला स्तर पर कहानी सुनाने के सत्र लोकप्रिय कहानी के द्वारा शुरू किए जाएं।
  • लोकप्रिय लोग /हस्तियां, सरपंच अधिकारी गण, माता-पिता, दादा-दादी द्वारा कहानी सत्र आयोजित किया जाए।
  • स्थानीय लोक कथाओं, गीतों, तुकबंदी कविताओं आदि को बढ़ावा और प्रोत्साहन दिया जाए।
  • स्थानीय कलाकारों को ऐसी गतिविधियों और आयोजनों में शामिल किया जाए।
  • विद्यार्थियों को पढ़ने की आदत को बढ़ावा देने के लिए कक्षा उपयुक्त अतिरिक्त पठन सामग्री, पुस्तकालय पुस्तकें विद्यार्थियों को बिना किसी संकोच के दी जाए।
  • पंचायत / क्लस्टर / ब्लॉक स्तर पर पठन मेलों का आयोजन करें और इसमें शामिल हो।
  • स्कूल प्रबंधन समिति (एसएमसी), स्वयंसेवकों को पठन गतिविधियों का संचालन करने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • सुनिश्चित करें कि इन 100 दिनों में गतिविधि कैलेंडर का पालन किया जाता है।
  • अच्छी गुणवत्ता वाले फोटो, वीडियो और प्रशंसा पत्र गूगल ट्रैकर में अपलोड करें।
  • सीएसओ, एफएम चैनल, स्थानीय रेडियो/ टीवी चैनलों के साथ साझेदारी कर रीडिंग कैंपेन की शुरुआत, गतिविधियों, समुदाय की भागीदारी, विद्यार्थियों के उत्साह आदि का अधिकाधिक प्रचार-प्रसार करें।
  • समाचार पत्र ( स्थानीय और क्षेत्रीय) में प्रति सप्ताह खबरें प्रकाशित कराएं, प्रकाशित खबरें ट्रैकर में अपलोड करें।

 

 
 
● राज्य द्वारा विद्यालय स्तर पर उपलब्ध करायी गई पुस्तकालय हेतु पुस्तकें, सहज पुस्तिकाएं, पाठ्य पुस्तकें, प्रिंटरिच सामग्री, स्थानीय भाषाओं में उपलब्ध कहानियों आदि।
 
● दीक्षा पोर्टल, प्रेरणा पोर्टल व एससीईआरटी के वेबसाइट्स आदि पर उपलब्ध विभिन्न संसाधन 
 
● एनसीईआरटी नेशनल बुक ट्रस्ट (एनबीटी), स्टोरी बीवर (https://storyweaver.org.in), प्रथम बुक्स (https://prathambooks.org). रूम टू रीड क्लाउड (https://literacycloud.org) आदि पर उपलब्ध संसाधन.

 

 

 

100 Days Reading Campaign In Hindi PDF डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

अन्य कक्षाओ  की अध्ययन सामग्री के लिए यहाँ क्लिक करें ⇓  
JOIN OUR TELEGRAM                            JOIN OUR FACEBOOK PAGE


बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 


राजस्थान एजुकेशन न्यूज़ मोटीवेशल स्टोरीज / प्रेरक कहानियाँ
रोजगार के लेटेस्ट अलर्ट राजस्थान शिक्षा जगत अपडेट
1500 भर्तियों के मोक टेस्ट  नोट्स किताबें PDF फाइल्स 

 
GARIMA PETIKA INFORMATION

READING CAMPAIGN 100 DAYS / 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन : आज की गतिविधियाँ

READING CAMPAIGN 100 DAYS

बालवाटिका से आठवी कक्षा तक पढने वाले बच्चों के लिए 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन

100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन / READING CAMPAIGN 100 DAYS

बालवाटिका से आठवी कक्षा तक पढने वाले बच्चों के लिए 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन

बालवाटिका से कक्षा 8 तक के स्तर के विद्यार्थियों को पठन गतिविधियों में तन्मयता एवं मनोरंजनात्मक तरीकों से समन्वित करने के उद्देश्य से शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार ने 100 दिनों की एक कार्य-योजना निर्धारित की है, जिसका क्रियान्वयन प्रत्येक विद्यालय में किया जा रहा है | हमने यहाँ पर निम्नलिखित जानकारी रीडिंग केम्पेन की गाइडलाइन व RTR / APF के  एक्सपर्ट के साझा प्रयास से आपके लिए शुरू की हैं |
यहाँ पर हम भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे निपूर्ण भारत के तहत  100 दिवसीय पठन अभियान  रीडिंग केम्पेन की  दैनिक गतिविधियों के बारे जानने का प्रयास किया जाएगा-
 

रीडिंग केम्पेन : ग्यारहवे सप्ताह की गतिविधियाँ

14  मार्च मार्च की गतिविधि (W : 11 DAY : 1)

100 Days of Reading: Week 11

जादूगरी जैसे करतब   

  •  
  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थियों से रोचक और आकर्षक के साथ कोतुहल पूर्ण रचनाओं का निर्माण करवाया |
  • यहाँ हमने ऐसे रोचक कार्य करने वाले बालको विशेष जादूगर जैसे पोशाक पहनने का अवसर भी दिया |
  • इस प्रकार से विद्यार्थियों द्वारा निर्मित इन रचनाओं को लिखने और अन्य विद्यार्थियों को पढने का अवसर दिया गया | 
  •  जब सभी विद्यार्थी इन रचनाओं को पढ़ लेते हैं तो उन्हें बारी बारी से पूछा गया कि वो इन रचनाओ का किन अच्छे कार्यो में उपयोग करना चाहेगे और किस प्रकार इनका सदुपयोग होगा |

 

एक पुस्तक के आवरण पर कार्य 

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थियो को समूह में बांटकर अलग पुस्तके पढने को दी जिनके कवर पहले ढके हुए थे |
  • अब जब विद्यार्थी अपनी अपनी पुस्तक की कहानी पढ़ चुके होते हैं तब उन्हें निर्देश दिया जाता हैं | 
  • कि आपको अपनी पढ़ी हुई पुस्तक का आवरण कवर पेज तैयार करना हैं इसके लिए उन्हें वांछित सामग्री उपलब्ध करवा दी गयी |
  • समूह के विद्यार्थियों  द्वारा अपनी पढ़ी हुई कहानी पुस्तको के रोचक आवरण तैयार करके सभी के सामने प्रस्तुत किये जाते हैं  और उन्हें कक्षा कक्ष में उपयुक्त स्थान पर टेग किया जाता हैं |

 

कहानी को मजेदार मोड़ देना 

  • आज हमने विद्यार्थियों को 2 समूह में बांटा  और उन्हें दिलचस्प सस्पेंस वाली  कहानी को आधा सुनाया |
  • इस प्रकार आधी सुनाई गयी कहानी को पूर्ण  करने का अवसर दोनों ग्रुपों के साथ अन्य विद्यार्थियों को दिया | 
  • विद्यार्थियों को बताया गया कि कहानी इस प्रकार पूर्ण करनी हैं कि वो ज्यादा मजेदार और ट्विस्ट युक्त रहे | 
  • इस प्रकार अलग अलग समूह में विद्यार्थियों ने अपनी अधूरी कहानी को पूर्ण किया और यह गतिविधि बड़ी ही रोचक रही |  

 


 

रीडिंग केम्पेन : दसवें सप्ताह की गतिविधियाँ

07  मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 1)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम फ्रूट चाट बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|Cooking Without Fire Recipes in Hindi (बिना आगके बनने वाली 15 रेसिपीज इन हिंदी

 

  • फ्रूट चाट की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि फ्रूट चाट बनाने की पूर्ण हुई | 

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी पेड़ पौधे, या अन्य फसली पादप की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • अपने आपको कोई एक पेड़ या पोधा मानते हुए इसकी पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे |
  • इस प्रकार लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से 5  स्थानीय वनस्पति और सब्जियां चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति और सब्जियां के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

 


08  मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 2)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम बनाना मिल्क शेक बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|बनाना मिल्क शेक रेसिपी - how to make banana milkshake
  • बनाना मिल्क शेक की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि फ्रूट चाट बनाने की पूर्ण हुई | 
  • रेसिपी :

    सामग्री : 

    • 2 मध्यम आकार के पके केले
    • 2 गिलास ठंडा दूध
    • 1 चम्मच शक्कर या शहद (वैकल्पिक)
    • बारीक कटे 4 बादाम
    • 2 बूंद वनीला एक्सट्रेक्ट

    बनाने की विधि :

    • केले को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
    • मिक्सी के जार में कटे केले, दूध, शक्कर और वनीला एक्सट्रेक्ट डालें।
    • जब तक सारे टुकड़े दूध में मिक्स न हो जाएं तब तक ग्राइंड करें।
    • फिर शेक को गिलास में डालें और ऊपर से बारीक कटे बादाम को डालकर सर्व करें।

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी गेंहूँ के पोधें की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • गेंहूँ के पोधें  की पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे | 
  • इस प्रकार अन्य  पोधें  पर  लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से  रोहिड़ा का वृक्ष को चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति और सब्जियां रोहिड़ा का वृक्ष के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

 


09 मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 3)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम मिक्स वेज सलाद बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|
  • बनाना मिल्क शेक की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |भारतीय 5 मिक्स वेज सलाद रेसिपी - Healthy Salad Recipes in Hindi
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि फ्रूट चाट बनाने की पूर्ण हुई | 
  • रेसिपी :

    सामग्री :

    • 2 गाजर बारीक कटी हुईं
    • 1 कटोरी बारीक कटी पत्ता गोभी
    • 1 पतली और लंबाई में कटी शिमला मिर्च
    • 2 टमाटर
    • 1 चम्मच शहद
    • 1 चम्मच सिरका
    • 2 चम्मच दही
    • ¼ चम्मच काली मिर्च पाउडर
    • नमक स्वादानुसार

     बनाने की विधि :

    • मिक्सी में कटे टमाटर, काली मिर्च, नमक, शहद, दही और सिरका डालकर पीस लें।
    • इसके बाद गाजर, शिमला मिर्च और पत्तागोभी को एक साथ मिलाकर फ्रिज में ठंडा करें।
    • जब सब्जी ठंडी हो जाएं, तो उसमें टमाटर का जो पेस्ट बनाया है उसे मिलाएं।
    • फिर इस सलाद को अकेले या खाने के साथ सर्व करें।

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी गंगा नदी की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • गंगा नदी की पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे | 
  • इस प्रकार अन्य नदियों की  लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से कैर सांगरी और कुमटी को चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति और सब्जियां कैर सांगरी और कुमटी के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

 


10 मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 04)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम मुंबईया भेल बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|
  • मुंबईया भेल की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |Mumbai Bhel Puri – Bhavna's Kitchen & Living
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि मुंबईया भेल बनाने की पूर्ण हुई | 

रेसिपी 

      सामग्री :

  • 2 कप मुरमुरे
  • 5 पापड़ी
  • 2 बारीक कटी हरी मिर्च
  • ½ कप मूंगफली के दाने
  • ½ कप बारीक वाले बेसन सेव
  • ½ कप बारीक कटा टमाटर
  • ½ कप बारीक कटा प्याज
  • चाट मसाला (स्वादानुसार)
  • ½ चम्मच हरा धनिया
  • 1 छोटा चम्मच हरी चटनी
  • 1 छोटा चम्मच मीठी चटनी
  • ½ चम्मच नींबू

 बनाने की विधि :

  • एक बड़े कटोरे या भिगोने में सभी सामग्रियों को भिगोने में डालकर मिक्स कर लें।
  • स्वादिष्ट खट्टी मीठी भेल तैयार है, इसे प्लेट में धनिया पत्ती के साथ सर्व करें।

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी बाजरा फसल भूमिका समझकर बाजरा की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • बाजरा फसल की पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे | 
  • इस प्रकार अन्य फसलो की  लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से खेजड़ी को चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति  खेजड़ी के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

11 मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 05)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम तरबूज का जूस बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|
  • तरबूज का जूस की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |तरबूज के जूस के फायदे एवं नुकसान - Watermelon Juice Benefits & Side-Effects  in Hindi
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि तरबूज का जूस बनाने की पूर्ण हुई | 

रेसिपी 

      सामग्री :

  • 1 बड़ा कटोरा कटा तरबूज
  • 1 चम्मच नींबू का रस
  • काला नमक स्वादानुसार
  • आधा चम्मच भुना और पिसा हुआ जीरा पाउडर
  • बर्फ के टुकड़े

बनाने की विधि :

  • तरबूजे के टुकड़े जूसर में डालकर इनका रस निकाल लें।
  • इसे गिलास में डाल लें और नींबू का रस, काला नमक व जीरा मिलाएं।
  • बर्फ के टुकड़े डालकर सर्व करें।

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी पीपल के वृक्ष भूमिका समझकर बाजरा की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • पीपल के वृक्ष  की पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे | 
  • इस प्रकार अन्य वृक्षों की  लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से खेजड़ी को चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति  खेजड़ी के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

12 मार्च फरवरी की गतिविधि (W : 10 DAY : 06)

100 Days of Reading: Week 10

चलो कुछ बनायें    

    •  आज इस समूह में हमने बिना आग के हम  मेंगो मिल्क  जूस बनायेंगे | इसमें हमने अभिभावकों और अन्य शिक्षको का सहयोग लिया|
  • मेंगो मिल्क  जूस की रेसिपी को विद्यार्थियों की सहायता से नोट किया |Mango Milk Shake | Easy to prepare | Simple steps
  • इसी प्रकार से विद्यार्थियों को घर पर ऐसी ही कोई बिना आग वाली रेसिपी बनाने की बात कही | और उक्त रेसिपी को नोट करने और सभी विद्यार्थियों द्वारा  तैयार नोट की पुस्तक बनाने का कहा|
  • तो इस प्रकार हमारी आज की गतिविधि मेंगो मिल्क  जूस बनाने की पूर्ण हुई | 

रेसिपी 

      सामग्री :

  • मध्यम आकार का 1 पका आम
  • 2 गिलास ठंडा दूध
  • स्वादानुसार शक्कर
  • बर्फ के टुकड़े (वैकल्पिक)
  • 1 चम्मच टूटी फ्रूटी
  • 1 चम्मच मिक्स ड्राई फ्रूट (काजू, बादाम, किशमिश)

बनाने की विधि :

  • आम को धोकर और छिलका उतारकर टुकड़े कर लें।
  • फिर मिक्सी जार में पका आम, दूध, बर्फ के टुकड़े और शक्कर डालें।
  • आम के पूरी तरह दूध में मिक्स होने तक मिक्सी चालू रखें।
  • अब इस शेक को एक बड़े गिलास में डालें।
  • ऊपर से टूटी फ्रुटी और ड्राई फ्रुट डालकर सर्व करें।

 

मेरी कहानी मेरी जुबानी

  • इस गतिविधि के अंतर्गत विद्यार्थी वट वृक्ष भूमिका समझकर बाजरा की जीवन यात्रा को समझेंगे |
  • वट वृक्ष  की पूर्ण जीवन यात्रा शुरू से अंत तक लिखेंगे | 
  • इस प्रकार अन्य वृक्षों की  लिखी गयी 3 से 5 जीवन यात्राओं को फिर अनुवर्ती रूप से अन्य  विद्यार्थियों को सुनाया गया |
  • दानी नानी की कहानी : अब समूह में विद्यार्थियों को अपनी दादी या नानी के द्वारा कही गयी कहानी लिखने को कहा |
  • फिर शेष विद्यार्थियों को विद्यार्थियों द्वारा लिखी गयी कहानी सुनाने को कहा |

 

स्थानीय वनस्पति की खोज

  •  आज इस गतिविधि में हमने विभिन्न प्रकार की  स्थानीय वनस्पति या सब्जियों में से रोहिड़ा का वृक्ष  को चुनी |
  • इस प्रकार चुनी हुई वनस्पति  रोहिड़ा के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र करने को कहां और उसे अपनी नोटबुक के एक पृष्ट पर लिखने को कहां |
  • इस प्रकार प्राप्त नोट्स की विद्यार्थियों ने एक कोलाज या पुस्तिका बनाई जिसे विज्ञान के शिक्षक को दिखाया और इस प्रकार बने कोलाज को अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा की |
  • इस प्रकार के कोलाज में संबधित वनस्पति और सब्जियां से जुडी अन्याय जानकारी भी हम जोडकर इसे पूर्ण कर सकते हैं

 

रीडिंग केम्पेन : नवें सप्ताह की गतिविधियाँ

28  फरवरी की गतिविधि (W : 9 DAY : 1)

100 Days of Reading: Week 9

मासिक थीम के अंतर्गत आज की थीम  :- जल सरंक्षण   

  •  आज इस थीम के अंतर्गत हमने जल के सरक्षण पर बात की | जल सरक्षण का महत्व समझाया |
  • हमने बारी बारी से बच्चों से जल को सरक्षित करने के तरीको पर बात की |
  • विद्यार्थियों से  इस टोपिक  पर बात की कि जल का बचाव क्यों आवश्यक हैं ?
  • हम बच्चे किस प्रकार अपने विद्यालय और घर पर जल को सरक्षित कर सकते हैं |  जल से संबधित कविताओं का पठन किया |

 

कविता पढना

  •  आज हमने इस ग्रुप प्रत्येक विद्यार्थी को अपनी पसंद की कविता पढने का अवसर दिया |
  • कुछेक बच्चो ने पुस्तकालय की किताबो और अपनी पाठ्य पुस्तको में से कविताएं सुनाई|
  • अब सुनाई या पढ़ी गयी कविताओं जैसे मिलती जुलती कविताओं का निर्माण विद्यार्थियों से करवाया |
  • हम विद्यार्थियों को अलग अलग ग्रुपों में बांटकर भी कविता का निर्माण करवा सकते है |

 

एक भारत श्रेष्ट भारत के लिए पठन

  •  हमने आज विद्यार्थियों को अपने राज्य राजस्थान को शोध के लिए चुना और विद्यार्थियों को इस पर रिसर्च करने और इसकी जानकारी झूटाने को कहा |
  • इसके लिए विद्यार्थी इंटरनेट, पाठ्य पुस्तके, और पुस्तकालय की किताबो का सहारा ले सकते हैं |
  • अब विद्यार्थियों को जोड़े में रहते हुए अपने दिए गये राज्य का कोलाज बनवाया |
  • इस कोलाज का विद्यालय में प्रदर्शन किया और समस्त समूहों को जानकारी को देखने समझने और इस पर अपनी बात रखने का अवसर दिया |

 


02 मार्च की गतिविधि (W : 9 DAY : 2)

100 Days of Reading: Week 9 

मासिक थीम के अंतर्गत आज की थीम  :- स्वच्छ भारत मिशन    

  •  आज इस थीम के अंतर्गत हमने स्वच्छ भारत मिशन  पर बात की | स्वच्छ भारत मिशन का महत्व समझाया | क्या है स्वच्छ भारत मिशन और कब व कैसे हुई इसकी शुरुआत |
  • हम विद्यार्थी स्वच्छ भारत मिशन में अपना योगदान कैसे दे सकते हैं?, इस पर प्रत्येक विद्यार्थी की बात को जानने का अवसर दिया |
  • स्वच्छ भारत मिशन का उपयोग हम हमारे विद्यालय में कैसे कर सकते हैं | हमने हमारे विद्यालय में साफ सफाई और सज्जा पर चर्चा की | 
  • एक गाँव को कैसे स्हवच्मछ बनाया जा सकता हैं इस पर प्रत्येक विद्यार्थी के व्यूज का जाना |

 

कविता पढना

  •  आज हमने इस ग्रुप प्रत्येक विद्यार्थी को अपनी पसंद की कविता पढने का अवसर दिया |
  • कुछेक बच्चो ने पुस्तकालय की किताबो और अपनी पाठ्य पुस्तको में से कविताएं सुनाई|
  • अब सुनाई या पढ़ी गयी कविताओं जैसे मिलती जुलती कविताओं का निर्माण विद्यार्थियों से करवाया |
  • हम विद्यार्थियों को अलग अलग ग्रुपों में बांटकर भी कविता का निर्माण करवा सकते है |

 

एक भारत श्रेष्ट भारत के लिए पठन

  •  हमने आज विद्यार्थियों को अपने राज्य पंजाब को शोध के लिए चुना और विद्यार्थियों को इस पर रिसर्च करने और इसकी जानकारी झूटाने को कहा |
  • इसके लिए विद्यार्थी इंटरनेट, पाठ्य पुस्तके, और पुस्तकालय की किताबो का सहारा ले सकते हैं |
  • अब विद्यार्थियों को जोड़े में रहते हुए अपने दिए गये राज्य का कोलाज बनवाया |कोलाज बनवाने के लिए हमने राज्य की जानकारी और कुछ कागज की वर्कशीट भी दी|
  • इस कोलाज का विद्यालय में प्रदर्शन किया और समस्त समूहों को जानकारी को देखने समझने और इस पर अपनी बात रखने का अवसर दिया |

03 मार्च की गतिविधि (W : 9 DAY : 3)

100 Days of Reading: Week 9 

मासिक थीम के अंतर्गत आज की थीम  :- भारतीय संविधान और मौलिक कर्तव्य 

  •  आज इस थीम के अंतर्गत हमने भारतीय संविधान और मौलिक कर्तव्य पर बात की | भारतीय संविधान और मौलिक कर्तव्य का महत्व समझा | क्या है भारतीय संविधान और मौलिक कर्तव्य और कब व कैसे हुई इसकी शुरुआत |
  • हम विद्यार्थी राष्ट्र निर्माण में मौलिक कर्तव्य   का कितना महत्वपूर्ण स्थान हैं, इस पर प्रत्येक विद्यार्थी की बात को जानने का अवसर दिया |
  • किसी भी राष्ट्र के लिए संविधान क्यों आवश्यक हैं, सविधान की मूलभूत अवधारणा क्या हैं, कैसे संविधान बना इन सभी बातो को जाना | 
  • एक व्यक्ति के कौन कौन से  मौलिक कर्तव्य हैं, एक विद्यार्थी के कौनसे कर्तव्य हैं इन सभी पहलुओ पर चर्चा की और बच्चो से उनके विचार जाने|

 

कविता पढना

  •  आज हमने इस ग्रुप के शेष विद्यार्थियों से अपनी पसंद की कविता पढने का अवसर दिया |
  • कुछेक बच्चो ने पुस्तकालय की किताबो और अपनी पाठ्य पुस्तको में से कविताएं सुनाई|
  • अब सुनाई या पढ़ी गयी कविताओं जैसे मिलती जुलती कविताओं का निर्माण विद्यार्थियों से करवाया | जिसके कई सारे उदाहरण हैं |
  • हम विद्यार्थियों को अलग अलग ग्रुपों में बांटकर भी कविता का निर्माण करवा सकते है |

 

एक भारत श्रेष्ट भारत के लिए पठन

  •  हमने आज विद्यार्थियों को अपने राज्य गुजरात को शोध के लिए चुना और विद्यार्थियों को इस पर रिसर्च करने और इसकी जानकारी झूटाने को कहा |
  • इसके लिए विद्यार्थी इंटरनेट, पाठ्य पुस्तके, और पुस्तकालय की किताबो का सहारा ले सकते हैं |
  • अब विद्यार्थियों को जोड़े में रहते हुए अपने दिए गये राज्य का कोलाज बनवाया |कोलाज बनवाने के लिए हमने राज्य की जानकारी और कुछ कागज की वर्कशीट भी दी|
  • इस कोलाज का विद्यालय में प्रदर्शन किया और समस्त समूहों को जानकारी को देखने समझने और इस पर अपनी बात रखने का अवसर दिया |

04 मार्च की गतिविधि (W : 9 DAY : 4)

100 Days of Reading: Week 9 

मासिक थीम के अंतर्गत आज की थीम  :- भारतीय संविधान और मौलिक कर्तव्य 

  •  आज इस थीम के अंतर्गत हमने हमारे भारतीय शहीद विषय पर बात की | हमारे भारतीय शहीद कौन कौन थे इनके बारे में जाना | 
  • हमारे क्रांतिकारी कैसे शहीद हुए और उनके शहीद होने के क्या कारण थे | हमारे देश की आजादी में शहीदों का क्या योगदान रहा हैं ?
  • विद्यार्थियों को हमारे शहीदों की पुस्तको को पढने का अवसर दिया |
  • विद्यार्थियों से विभिन्न शहीद हीरो के बारे में जानकारी का कोलाज बनावाया | प्रति विद्यार्थी से जानकारी साझा की | 
  • विद्यार्थियों को अपने घर पर भी विभिन्न शहीद हुए व्यक्तियों के बारे में चर्चा करने को बताया और जो बात आपको अच्छी लगे उसे अगले दिन कक्षा कक्ष में सभी के सामने साझा करने को कहा जा सकता हैं | अमर शहीद भगत सिंह की पुस्तक पढने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए’|  Download PDF (4 MB)

 

कविता पढना

  •  आज हमने इस ग्रुप के विद्यार्थियों से अपनी पसंद की कविता पढने का अवसर दिया |
  • कुछेक बच्चो ने पुस्तकालय की किताबो और अपनी पाठ्य पुस्तको में से कविताएं सुनाई|
  • अब सुनाई या पढ़ी गयी कविताओं जैसे मिलती जुलती कविताओं का निर्माण विद्यार्थियों से करवाया | जिसके कई सारे उदाहरण हैं |
  • हम विद्यार्थियों को अलग अलग ग्रुपों में बांटकर भी कविता का निर्माण करवा सकते है |

 

एक भारत श्रेष्ट भारत के लिए पठन

  •  हमने आज विद्यार्थियों को अपने राज्य मध्य प्रदेश  को शोध के लिए चुना और विद्यार्थियों को इस पर रिसर्च करने और इसकी जानकारी झूटाने को कहा |
  • इसके लिए विद्यार्थी इंटरनेट, पाठ्य पुस्तके, और पुस्तकालय की किताबो का सहारा ले सकते हैं |
  • अब विद्यार्थियों को जोड़े में रहते हुए अपने दिए गये राज्य का कोलाज बनवाया |कोलाज बनवाने के लिए हमने राज्य की जानकारी और कुछ कागज की वर्कशीट भी दी|
  • इस कोलाज का विद्यालय में प्रदर्शन किया और समस्त समूहों को जानकारी को देखने समझने और इस पर अपनी बात रखने का अवसर दिया |

05 मार्च की गतिविधि (W : 9 DAY : 5)

100 Days of Reading: Week 9 

मासिक थीम के अंतर्गत आज की थीम  :- खेल और दुनियाभर के प्रसिद्ध खिलाड़ी

  •  आज इस थीम के अंतर्गत हमने खेल और दुनियाभर के प्रसिद्ध खिलाड़ी विषय पर बात की |
  • हमने प्रत्येक खेल से सम्बंधित प्रसिद्ध खिलाड़ी के बारे इंटरनेट और पुस्तकालय से सामग्री एकत्र कर विद्यार्थियों की बांटी |
  • विद्यार्थियों को 5-5 के समूह में बाटकर एक एक खिलाड़ी की खाश बाते शेयर करने को कहा तब तक अन्य खिलाडियों ने इनकी बातें सुनी|
  • विद्यार्थियों को हमारे खिलाड़ियों की पुस्तको को पढने का अवसर दिया |
  • विद्यार्थियों से विभिन्न खिलाड़ियों के बारे में जानकारी का कोलाज बनावाया | प्रति विद्यार्थी से जानकारी साझा की | 
  • विद्यार्थियों को अपने घर पर भी विभिन्न खिलाड़ियों के बारे में चर्चा करने को बताया और जो बात आपको अच्छी लगे उसे अगले दिन कक्षा कक्ष में सभी के सामने साझा करने को कहा जा सकता हैं | 

 

कविता पढना

  •  आज हमने इस ग्रुप के विद्यार्थियों से अपनी पसंद की कविता पढने का अवसर दिया |
  • कुछेक बच्चो ने पुस्तकालय की किताबो और अपनी पाठ्य पुस्तको में से कविताएं सुनाई|
  • अब सुनाई या पढ़ी गयी कविताओं जैसे मिलती जुलती कविताओं का निर्माण विद्यार्थियों से करवाया | जिसके कई सारे उदाहरण हैं |
  • हम विद्यार्थियों को अलग अलग ग्रुपों में बांटकर भी कविता का निर्माण करवा सकते है |

 

एक भारत श्रेष्ट भारत के लिए पठन

  •  हमने आज विद्यार्थियों को अपने राज्य उतराखंड  को शोध के लिए चुना और विद्यार्थियों को इस पर रिसर्च करने और इसकी जानकारी झूटाने को कहा |
  • इसके लिए विद्यार्थी इंटरनेट, पाठ्य पुस्तके, और पुस्तकालय की किताबो का सहारा ले सकते हैं |
  • अब विद्यार्थियों को जोड़े में रहते हुए अपने दिए गये राज्य का कोलाज बनवाया |कोलाज बनवाने के लिए हमने राज्य की जानकारी और कुछ कागज की वर्कशीट भी दी|
  • इस कोलाज का विद्यालय में प्रदर्शन किया और समस्त समूहों को जानकारी को देखने समझने और इस पर अपनी बात रखने का अवसर दिया |

23  फरवरी की गतिविधि

100 Days of Reading: Week 8 (Stories, Props and Plays)

अपनी भाषा में कहानी पढना व हमारे नेता हमारी प्रेरणा

हमारे नेता हमारी प्रेरणा 

  • विद्यार्थियों को आज हम इंदिरा गाँधी  जीवनी  सुनाने व पढने  का प्रयास किया गया हैं  इंदिरा गाँधी  जीवनी  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • इंदिरा गाँधी   के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • इंदिरा गाँधी  के जीवन से हमे क्या प्रेरणा मिलती हैं हम इंदिरा गाँधी जी से क्या सीख सकते हैं, इन बिन्दुओ पर विस्तार से समूह में चर्चा कर सकते हैं |
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना

  •  हम इस टोपिक के तहत अपने पुस्कालय में पड़ी लोकल भाषा राजस्थानी साहित्य की पुस्तक पढने को देंगे  |
  • पुस्तक उपलब्ध न होने की स्थिति में MOTIVATIONSTORIES.IN से राजस्थानी साहित्य पढने को कहेंगे और उसका लिंक बच्चो तक शेयर करेंगे  |
  • यहाँ हम  पन्नालाल कटारिया : झूमको बातां री कहांणी  पढने का लिंक भी दे सकते हैं पन्नालाल कटारिया : झूमको बातां री कहांणी
  • यहाँ हम इस वात संग्रह की समीक्षा विद्यार्थियों से लिखवाई |
  • अन्य राजस्थानी साहित्य इस लिंक पर उपलब्ध हैं  राजस्थानी भाषा साहित्य    

  • छात्रों को समूहों में काम करने के लिए कार्य दिया गया है|
  • उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है|
  • इसके बाद, उन्हें एक दूसरे के साथ सहयोग करने और पूरी कहानी को लागू करने के लिए कहा जाता है।
  • प्रदर्शन कला के साथ पठन का यह एकीकरण शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है|

 

24  फरवरी की गतिविधि

100 Days of Reading: Week 8 (Stories, Props and Plays)

अपनी भाषा में कहानी पढना व हमारे नेता हमारी प्रेरणा  

हमारे नेता हमारी प्रेरणा 

  • विद्यार्थियों को आज हम इंदिरा गाँधी की जीवनी  सुनाने व पढने  का प्रयास किया गया हैं इंदिरा गाँधी की जीवनी  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • इंदिरा गाँधी   के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • इंदिरा गाँधी के जीवन से हमे क्या प्रेरणा मिलती हैं हम इंदिरा गाँधी  जी क्या सीख सकते हैं, इन बिन्दुओ पर विस्तार से समूह में चर्चा कर सकते हैं |
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना


अपनी भाषा में कहानी पढ़ना व पढ़े और अभिनय करें   

  • छात्रों को समूहों में काम करने के लिए कार्य दिया गया है|
  • उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है|
  • इसके बाद, उन्हें एक दूसरे के साथ सहयोग करने और पूरी कहानी को लागू करने के लिए कहा जाता है।
  • प्रदर्शन कला के साथ पठन का यह एकीकरण शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है|

25  फरवरी की गतिविधि

100 Days of Reading: Week 8 (Stories, Props and Plays)

अपनी भाषा में कहानी पढना व हमारे नेता हमारी प्रेरणा  

हमारे नेता हमारी प्रेरणा 

  • विद्यार्थियों को आज हम शहीद भगत सिंह की जीवनी सुनाने व पढने  का प्रयास किया गया हैं शहीद भगत सिंह की जीवनी⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • शहीद भगत सिंह  के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • शहीद भगत सिंह  के जीवन से हमे क्या प्रेरणा मिलती हैं हम शहीद भगत सिंह जी क्या सीख सकते हैं, इन बिन्दुओ पर विस्तार से समूह में चर्चा कर सकते हैं |
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना


अपनी भाषा में कहानी पढ़ना व पढ़े और अभिनय करें   

  •  हम इस टोपिक में टोपिक के तहत अपने पुस्कालय में पड़ी लोकल भाषा राजस्थानी साहित्य की पुस्तक पढने को देंगे  |
  •  पुस्तक उपलब्ध न होने की स्थिति में MOTIVATIONSTORIES.IN से राजस्थानी साहित्य पढने को कहेंगे और उसका लिंक बच्चो तक शेयर करेंगे  | 
  • यहाँ हम कमला कमलेश रचना – वां दनां की बातां  धन्नी-मन्नी काल में खायां लुटाता बोराजी अस्सी करी गुलाब नै  पढने का लिंक भी दे सकते हैं कमला कमलेश रचना – वां दनां की बातां
  • छात्रों को समूहों में काम करने के लिए कार्य दिया गया है|
  • उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है|
  • इसके बाद, उन्हें एक दूसरे के साथ सहयोग करने और पूरी कहानी को लागू करने के लिए कहा जाता है।
  • प्रदर्शन कला के साथ पठन का यह एकीकरण शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है|

26  फरवरी की गतिविधि

100 Days of Reading: Week 8 (Stories, Props and Plays)

अपनी भाषा में कहानी पढना व हमारे नेता हमारी प्रेरणा  

हमारे नेता हमारी प्रेरणा 

  • विद्यार्थियों को आज हम शहीद भगत सिंह की जीवनी सुनाने व पढने  का प्रयास किया गया हैं शहीद भगत सिंह की जीवनी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • शहीद भगत सिंह  के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • शहीद भगत सिंह  के जीवन से हमे क्या प्रेरणा मिलती हैं हम शहीद भगत सिंह जी क्या सीख सकते हैं, इन बिन्दुओ पर विस्तार से समूह में चर्चा कर सकते हैं |
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

अपनी भाषा में कहानी पढ़ना


अपनी भाषा में कहानी पढ़ना व पढ़े और अभिनय करें   

  • छात्रों को समूहों में काम करने के लिए कार्य दिया गया है|
  • उन्हें पढ़ने के लिए एक छोटा नाटक प्रदान किया जाता है|
  • इसके बाद, उन्हें एक दूसरे के साथ सहयोग करने और पूरी कहानी को लागू करने के लिए कहा जाता है।
  • प्रदर्शन कला के साथ पठन का यह एकीकरण शिक्षार्थी को एक अतिरिक्त बढ़ावा देता है और पढ़ने के लिए और अधिक मजेदार आयाम जोड़ता है|

 

रीडिंग केम्पेन : सप्तम सप्ताह की गतिविधियाँ

14 फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम भक्त श्रवण कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे भक्त श्रवण कुमार और राजा जनक सहित अन्य पात्रो के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी का  से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधिऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं |

 

पढो और साँझा करो

 

  • आज विद्यार्थियों को पढो और साझा करें टोपिक के तहत हमने जोडियो में विद्यार्थियों से गतिविधि करवाई जिसमें  एकल पात्र वाली कोई भी कहानी ले सकते हैं | यहाँ आप आर के नारायण   व रस्किन बांड  की कहानियों को ले सकते हैं |  इन लेखको की कहानियाँ यहाँ हैं 1. आर के नारायण  2.  रस्किन बांड  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जोड़ी के दोनों बालको को हमने ज्योतिषी का एक दिन पढ़ने को दी |
  • अब दोनों बालको को में से एक को लेखक और एक को चरित्र बनाया |
  • और पढ़ी गयी कहानी से एक दुसरे को 5 से 6 प्रश्न पूछने को दिए |
  • इस प्नकार कहानी के अंश सभी के साथ शेयर किये |
  • विशेष गतिविधि आज हमने विद्यार्थियों को विभिन्न माध्यम से  मनीषा कुलश्रेष्ठ कठपुतलियाँ कहानी पढकर आने को कहेंगे (आप यहाँ से कहानी का लिंक शेयर कर सकते हैं| मनीषा कुलश्रेष्ठ की कठपुतलियाँ कहानी⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए

 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • आज हमने विद्यार्थियों को पूर्व में पुस्ताकालय का भ्रमण करवाया था उसके आधार पर सभी को अपनी पसंद की कोई एक एक पुस्तक चुनने को कहा गया |
  •  अब विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्त ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों पंचतंत्र की कोई एक कहानी घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस कहानी के सारांश को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे फिर जिन विद्यार्थियों को कहानी साझा की उनसे अ;अलग कहानी सुने और जाने कि किस विद्यार्थी कौनसी बात नही कही या नई जोड़ी |

15  फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम पन्नाधाय की कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे पन्नाधाय और बलवीर, उदय सिंह  सहित अन्य पात्रो के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी का  से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं |

 

पढो और साँझा करो

 

  • आज विद्यार्थियों को पढो और साझा करें टोपिक के तहत हमने जोडियो में विद्यार्थियों से गतिविधि करवाई जिसमें  एकल पात्र वाली डॉक्टर के शब्द  कहानी ली हैं | यहाँ आप आर के नारायण   व रस्किन बांड  की कहानियों को ले सकते हैं |  इन लेखको की कहानियाँ यहाँ हैं 1. आर के नारायण  2.  रस्किन बांड  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जोड़ी के दोनों बालको को हमने डॉक्टर के शब्द  पढ़ने को दी |
  • अब दोनों बालको को में से एक को लेखक और एक को चरित्र बनाया |
  • और पढ़ी गयी कहानी से एक दुसरे को 5 से 6 प्रश्न पूछने को दिए |
  • इस प्नकार कहानी के अंश सभी के साथ शेयर किये |
  • विशेष गतिविधि आज हमने विद्यार्थियों को विभिन्न माध्यम से  मनीषा कुलश्रेष्ठ कठपुतलियाँ कहानी पढकर आये बच्चो को काहानी के पात्र, कहानी गुण,  कहानी के मूल बिंदु आदि को श्याम पट्ट पर लिखने को कहेंगे और उन पर चर्चा करेंगे (आप यहाँ से कहानी का लिंक शेयर कर सकते हैं| मनीषा कुलश्रेष्ठ की कठपुतलियाँ कहानी⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए)

 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • पूर्व में पुस्ताकालय का भ्रमण बालको को अपनी पसंद की कोई एक एक पुस्तक चुनने को कहा गया |
  •  अब विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्तक ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों पंचतंत्र की कोई एक कहानी घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस कहानी के सारांश को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे फिर जिन विद्यार्थियों को कहानी साझा की उनसे अलग कहानी सुने और जाने कि किस विद्यार्थी कौनसी बात नही कही या नई जोड़ी |
  • पंचतंत्र की कोई एक कहानी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए (यहाँ से लिंक कोपी करके विद्यार्थियों के SMILE ग्रुप में शेयर कर सकते हैं | )

 



16  फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम सुभाष चंद्र बोस कहानियां सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे सुभाष चंद्र बोस सहित अन्य पात्रो के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी का  से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक प्रेरक प्रसंग ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

पढो और साँझा करो

 

  • आज विद्यार्थियों को पढो और साझा करें टोपिक के तहत हमने जोडियो में विद्यार्थियों से गतिविधि करवाई जिसमें  एकल पात्र वाली डॉक्टर के शब्द  कहानी ली हैं | यहाँ आप आर के नारायण   व रस्किन बांड  की कहानियों को ले सकते हैं |  इन लेखको की कहानियाँ यहाँ हैं 1. आर के नारायण  2.  रस्किन बांड  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जोड़ी के दोनों बालको को हमने डॉक्टर के शब्द  पढ़ने को दी |
  • अब दोनों बालको को में से एक को लेखक और एक को चरित्र बनाया |
  • और पढ़ी गयी कहानी से एक दुसरे को 5 से 6 प्रश्न पूछने को दिए |
  • इस प्नकार कहानी के अंश सभी के साथ शेयर किये |
  • विशेष गतिविधि आज हमने विद्यार्थियों को विभिन्न माध्यम से  रस्किन बांड  की एक नन्हा दोस्त पढकर आये बच्चो को काहानी के पात्र, कहानी गुण,  कहानी के मूल बिंदु आदि को श्याम पट्ट पर लिखने को कहेंगे और उन पर चर्चा करेंगे (आप यहाँ से कहानी का लिंक शेयर कर सकते हैं| रस्किन बांड  की एक नन्हा दोस्त  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए

 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • पूर्व में पुस्ताकालय का भ्रमण बालको को अपनी पसंद की कोई एक एक पुस्तक चुनने को कहा गया |
  •  अब विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्तक ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों पंचतंत्र की कोई एक कहानी घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस कहानी के सारांश को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे फिर जिन विद्यार्थियों को कहानी साझा की उनसे अलग कहानी सुने और जाने कि किस विद्यार्थी कौनसी बात नही कही या नई जोड़ी |
  • पंचतंत्र की कोई एक कहानी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए (यहाँ से लिंक कोपी करके विद्यार्थियों के SMILE ग्रुप में शेयर कर सकते हैं | )

 


17  फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम अब्दुल कलाम जी की प्रेरणादायक कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे अब्दुल कलाम जी  सहित अन्य पात्रो के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी का  से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

पढो और साँझा करो

  • आज विद्यार्थियों को पढो और साझा करें टोपिक के तहत हमने जोडियो में विद्यार्थियों से गतिविधि करवाई जिसमें  एकल पात्र वाली स्वामी की मीठी ईद : आर. के. नारायण  कहानी ली हैं | यहाँ आप आर के नारायण   व रस्किन बांड  की कहानियों को ले सकते हैं |  इन लेखको की कहानियाँ यहाँ हैं 1. आर के नारायण  2.  रस्किन बांड  ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जोड़ी के दोनों बालको को हमने स्वामी की मीठी ईद : आर. के. नारायण  पढ़ने को दी |
  • अब दोनों बालको को में से एक को लेखक और एक को चरित्र बनाया |
  • और पढ़ी गयी कहानी से एक दुसरे को 5 से 6 प्रश्न पूछने को दिए |
  • इस प्नकार कहानी के अंश सभी के साथ शेयर किये |
  • विशेष गतिविधि आज हमने विद्यार्थियों को विभिन्न माध्यम से  रस्किन बांड  की केन काका की नौकरी पढकर आये बच्चो को काहानी के पात्र, कहानी गुण,  कहानी के मूल बिंदु आदि को श्याम पट्ट पर लिखने को कहेंगे और उन पर चर्चा करेंगे (आप यहाँ से कहानी का लिंक शेयर कर सकते हैं| रस्किन बांड  की केन काका की नौकरी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए

 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • पूर्व में पुस्ताकालय का भ्रमण बालको को अपनी पसंद की कोई एक एक पुस्तक चुनने को कहा गया |
  •  अब विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्तक ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों पंचतंत्र की कोई एक कहानी  जैसे पंचतंत्र के प्रथम तन्त्र की कथा : मित्र भेद  घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस कहानी के सारांश को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे फिर जिन विद्यार्थियों को कहानी साझा की उनसे अलग कहानी सुने और जाने कि किस विद्यार्थी कौनसी बात नही कही या नई जोड़ी |
  • पंचतंत्र की कोई एक कहानी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए (यहाँ से लिंक कोपी करके विद्यार्थियों के SMILE ग्रुप में शेयर कर सकते हैं | )

 


18  फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम महात्मा गांधी जी की प्रेरणादायक कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे महात्मा गांधी जी  के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

पढो और साँझा करो


 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • पूर्व में पुस्ताकालय का भ्रमण बालको को अपनी पसंद की कोई एक एक पुस्तक चुनने को कहा गया |
  •  अब विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्तक ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों पंचतंत्र की कोई एक कहानी  जैसे पंचतंत्र के द्वितीय तन्त्र की कथा : साधु और चूहा-पंचतंत्र
     घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस कहानी के सारांश को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे फिर जिन विद्यार्थियों को कहानी साझा की उनसे अलग कहानी सुने और जाने कि किस विद्यार्थी कौनसी बात नही कही या नई जोड़ी |
  • पंचतंत्र की कोई एक कहानी ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए (यहाँ से लिंक कोपी करके विद्यार्थियों के SMILE ग्रुप में शेयर कर सकते हैं | )

 


19  फरवरी की गतिविधि

मैं कौन हूँ ? चरित्र मानचित्रण 

  • विद्यार्थियों को आज हम सादा जीवन उच्च विचार : देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद  प्रेरणादायक कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी के विभिन्न पात्र जैसे देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद   के चरित्र गुणों के बारे में चर्चा करते हैं और प्राप्त जानकारी  जानकारी संकलित करते हैं | 
  • अंत में इस कहानी से हमें क्या क्या सीख मिलती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या महत्व हैं क्या हमें भी ऐसे चारित्रिक गुणों को ग्रहण करना चाहिए | 
  • इस प्रकार चारित्रिक गुणों से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता हैं |
  • विशेष गतिविधि ऐसी ही चारित्रिक गुणों वाली कहानी विद्यार्थियों को सुझा सकते हैं और घर पर परिवार जनों को सुनाने को कहा जा सकता हैं और इसका उपयुक्त वीडियो या ऑडियो शेयर किया जा सकता हैं | रोचक व्यक्तित्व ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 

 

पढो और साँझा करो


 

मित्रो के लिए किताब सुझाना / सिफारिश करना  

  • आज हमने विद्यार्थियों को पुस्तक स्टोक रजिस्टर में से पुस्तको की सूचि निकाली और इस समूह के सदस्यों को शेयर की |
  •  अब अब प्रत्येक विद्यार्थी को बताया गया कि आप अपनी पसंद की पुस्तक छांटो और अपने मित्र को पढने के लिए कहो और विद्यार्थियों ने ऐसा ही किया |
  • विद्यार्थियों ने अपनी पसंद की पुस्तक ले ली और उन्हें निर्देश दिया कि पुस्तक में से कोई एक कहानी पढ़े और उसके पात्र को समझे और उनके चरित्र को जाने |
  • अब विद्यार्थियों को अपनी पढ़ी गयी इस पुस्तक में से किसी विशेष चरित्र का सारांश अपनी नोट बुक में लिखना हैं |
  • इस प्रकार प्राप्त चरित्र गुणों को सभी विद्यार्थियों के साझा करें और और पुस्तक को अन्य विद्यार्थियों को पढने के लिए सिफरिश करें |
  • विशेष गतिविधि आज विद्यार्थियों को कोई एक यात्रा वृत्तांत पढ़ने को कहे  यहाँ हमने गुरुद्वारा नानकमता उतराखंड का यात्रा वृत्तान्त पढने को दे सकते हैं जिसका लिंक आगे दिया जा रहा हैं |
     घर से पढकर आने को कहे और अगले दिन  उस यात्रा वृत्तान्त को विद्यालय में अन्य विद्यार्थियों को साझा करने को कहे |
  • गुरुद्वारा नानकमता उतराखंड का यात्रा वृत्तान्त⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए (यहाँ से लिंक कोपी करके विद्यार्थियों के SMILE ग्रुप में शेयर कर सकते हैं | )

 


रीडिंग केम्पेन : षष्टम सप्ताह की गतिविधियाँ

11 फरवरी की गतिविधि

शीर्षक वृक्ष : 

विद्यार्थियों को शेर और चूहा की कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक  जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी को 5 पक्तियों में सारांशित करवाई गयी, इस प्रकार विद्यार्थियों को कहानी को शुरू से अंत तक समझने का मौका मिला| और अंत में इस कहानी का अलग विद्यार्थियों ने शीर्षक दिया हमने विद्यार्थियों द्वारा बताये गये शीर्षको ग्रीन बोर्ड पर एक वृक्ष के रूप में फ्लो चार्ट बनाते गए गये और बन गया एक शीर्षक वृक्ष | इस प्रकार प्राप्त शीर्षकों में एक उपयुक्त और सर्वश्रेष्ट शीर्षक प्राप्त हुआ  शेर और चूहा  | आज हमने विधार्थियों को पिछले दश दिनों में खाए गये विशेष पकवानों की लिस्ट बनाकर लाने को कहा | जिसे अगले दिन में हम कक्षा में एक्टिविटी करवायेंगे |

 


 

साहित्यिक कैलेंडर

आज विद्यार्थियों को हमने स्वच्छता का पाठ पढ़ाने का निर्णय लिया | हमने पुस्तकालय में पड़ी स्वच्छता और सुरक्षा सम्बंधित पुस्तके पढने को दी | विधार्थियों को पढ़ी हुई पुस्तको में से स्वच्छता की जो बात सबसे अच्छी लगी उसे शेयर करने को कहा गया और हमे यह बात क्यों अच्छी लगी उसका पक्ष भी जाना | प्रत्येक विद्यार्थी द्वारा अच्छी लगी बात को नोट बुक के एक पेज पर रंगीन कलम से  लिखने को कही | इस प्रकार हमारे पास अच्छी बातो के कई पृष्ट एकत्र हुई जिन्हें समेकित करके एक दीवार कलेंडर बनाया गया | जो अन्य विद्यार्थियों के लिए कोतुहल का विषय बन गया |


 

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण 

आज हमने विद्यार्थियों में राष्ट्र भक्ति की भावना विकसित करने के उद्देश्य को भी साथ लेते हुए  हमारा राष्ट्र गीत वन्दे मातरम चुना | बारी से बारी हमने कई विद्यार्थियों को यह गीत गवाया | फिर इस गीत के बोल लिखने को कहा गया | सभी बच्चो ने 2 से 3 अन्तरो तक के बोल लिख पाए | फिर हमारे विद्यालय के वरिष्ट शिक्षक श्री …. ने यह गीत पूरा गाया | जब बच्चे पुरे गीत को सूना तो बड़े भाव विभोर हुए और भारत माता के जयकारे तक लगाने लगे |फिर हमने इस गीत के वास्तविक अर्थ समझाने और इसका विश्लेषण  करने को कहा साथ ही विद्यार्थियों ने इस गीत की भावनाएं और और इनके महत्व व सारांश को सभी के सामने प्रस्तुत किया हैं | इस गतिविधि में सभी विधार्थी सहज दिखे |

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण 

आज की गतिविधि के द्वितीय पक्ष में हमने विद्यार्थियों को चाय कैसे बनाई जाए इस पर चर्चा की |चाय की पाक विधा लगभग हर एक बालिका को पहले से आ रही थी लेकिन कुछ लड़के इससे अनभिज्ञ थे | तो हमने विद्यार्थियों को समक्ष ही चाय बनाने का निश्चय किया और विद्यार्थियों को बताया कि कितने कप चाय में कितना पानी, कितना दूध और कितनी चाय के साथ शक्कर मिलाई जाती हैं | कुछ बच्चो ने चाय मशाला आदि डालने की बात भी सुझाई | और विद्यार्थियों को सलाह दी कि आप भी घर पर जब चाय बने तो उसकी पूरी प्रक्रिया को समझे और जाने |


केवल शिक्षक और शिक्षा से जुड़े लोग ही संभाग वार ग्रुप ज्वाइन करें

केवल शिक्षक और शिक्षा से जुड़े लोग ही संभाग वार ग्रुप ज्वाइन करें

12 फरवरी की गतिविधि

शीर्षक वृक्ष : 

  • विद्यार्थियों को आज हम भूतियाँ कुआं कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक ⬅️👈🏿 यहाँ क्लिक कीजिए 
  • जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी को 5 पक्तियों में सारांशित करवाई गयी, इस प्रकार विद्यार्थियों को कहानी को शुरू से अंत तक समझने का मौका मिला| 
  • अंत में इस कहानी का अलग विद्यार्थियों ने शीर्षक दिया हमने विद्यार्थियों द्वारा बताये गये शीर्षको ग्रीन बोर्ड पर एक वृक्ष के रूप में फ्लो चार्ट बनाते गए गये और बन गया एक शीर्षक वृक्ष | 
  • इस प्रकार प्राप्त शीर्षकों में एक उपयुक्त और सर्वश्रेष्ट शीर्षक प्राप्त हुआ  भूतियाँ कुआं |
  • विशेष गतिविधि आज विधार्थियों द्वारा पिछले दस दिनों में खाए गये विशेष पकवानों की लिस्ट बनाकर लाये और प्राप्त पकवानों के नाम श्याम पट्ट पर लिखकर बच्चो से वाचन करवाया जिससे वो सभी शब्द परिचित शब्द बन गये |

 

साहित्यिक कैलेंडर

  • आज विद्यार्थियों को हमारे वैज्ञानिको  की जन्म वर्ष  का कलेंडर बनाने का निर्णय लिया गया |
  • इस प्रकार विद्यार्थियों के सामने कई वैज्ञानिकों के नाम और उनके जन्म वर्ष एकत्र हो गये |
  • इस प्रकार प्राप्त वैज्ञानिको के नाम के बाद  हमने विद्यार्थियों अपने पुस्तकालय से विभिन्न वैज्ञानिकों की पुस्तके पढने को दी और उनसे जानकारी प्राप्त करने को कहा |
  • इस प्रकार प्राप्त जानकारी को अलग पृष्ट पर अलग अलग वैज्ञानिक का नाम और उनके द्वारा किये गये आविष्कार लिखवाकर एक साहित्यिक कैलेंडर बनवाया | जो विद्यार्थियों के लिए कोतुहल का विषय बन गया |


 

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण 

आज हमने विद्यार्थियों में राष्ट्र भक्ति की भावना विकसित करने के उद्देश्य को भी साथ लेते हुए  हमारा राष्ट्र गान  जन गन मन को चुना | बारी से बारी हमने कई विद्यार्थियों को राष्ट्र गान गवाया | फिर इस राष्ट्र गान के बोल लिखने को कहा गया | सभी बच्चो ने राष्ट्र गान के पुरे बोल लिखे |फिर हमने इस राष्ट्र गान के वास्तविक अर्थ समझाने और इसका विश्लेषण  करने को कहा साथ ही विद्यार्थियों ने इस राष्ट्र गान की भावनाएं और और इनके महत्व व सारांश को सभी के सामने प्रस्तुत किया हैं | इस गतिविधि में सभी विधार्थी सहज दिखे |

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण 

  • आज की गतिविधि के द्वितीय पक्ष में हमने विद्यार्थियों को मैगी  कैसे बनाई जाए इस पर चर्चा की | मैगी बच्चो का फेवरेट खाना बन गया हैं | इसलिए हमने मैगी कैसे बनाये इस टोपिक को चुना | 
  • विद्यार्थियों को बताया कि मैगी बनाने के लिए कौन कौन सी सामग्री की आवश्यकता होती हैं| और कौन कौन से स्टेप हमे फोलो करने चाहिए |
  • हम ले गये बच्चो को विद्यालय के किचन में और स्टेप वार बनाई मैगी और सभी ने इसका टेस्ट लिया|
  • विद्यार्थियों को सलाह दी कि आप भी घर पर जब चाय बने तो उसकी पूरी प्रक्रिया को समझे और जाने|

 


 

रीडिंग केम्पेन : षष्टम सप्ताह की गतिविधियाँ

दिनांक समूह गतिविधि
10 फरवरी  I

शीर्षक वृक्ष : 

विद्यार्थियों को बंदर और मगरमच्छ की कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक  जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी को 5 पक्तियों में सारांशित करवाई गयी, इस प्रकार विद्यार्थियों को कहानी को शुरू से अंत तक समझने का मौका मिला| और अंत में इस कहानी का अलग विद्यार्थियों ने शीर्षक दिया जिसमें कई विद्यार्थियों ने कहानी का शीर्षक बंदर और मगरमच्छ दिया | इसी प्रकार समय उपलब्ध होने पर हमने जादुई बैग कहानी विद्यार्थियों को सुनाई और इसका सारांश व शीर्षक घर से खोजकर लाने को कहा साथ ही कहानी घर पर भी परिबार वालो को सुनाने की जिम्मेदारी दी |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

विद्यार्थियों को हमने उनकी इच्छा से अपनी पाठ्य पुस्तको और पढ़ी गयी  विभिन्न किताबो से  कवियों और लेखको के नाम पूछे और उनके जन्म वर्ष के अनुसार एक केलेंडर बनाने का प्रयास किया | फिर बच्चो को उनके जन्म दिनांक को ढूढने और उनके द्वारा किये गये कार्यो के बारे जानने का प्रयास किया | अब उनके द्वारा बनाई गयी कवियों और लेखको की विभिन्न कृतियों को सुनाने को बारी बारी से अलग अलग बच्चो को कहा | बच्चो ने बड़े चाव से अपनी कहानियाँ और कविताओं का वाचन किया | कुछ बच्चों ने बुढिया की रोटी कहानीगीत का कमाल लोक गीत सुनाया 

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

हमने विद्यार्थियों को गतिविधि शुरू करने से पहले अपनी पसंद का एक उपयुक्त गीत चुनने को कहा फिर हमने उन्हें इन गीतों के 5 – 5 बोल लिखने को कहा और उनके वास्तविक अर्थ समझाने और इसका विश्लेषण  करने को कहा साथ ही विद्यार्थियों ने इन गीतों की भावनाएं और और इनके महत्व व सारांश को सभी के सामने प्रस्तुत किया हैं | इस गतिविधि में सभी विधार्थी सहज दिखे |

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज की गतिविधि के द्वितीय पक्ष में हमने विद्यार्थियों राजस्थान महत्वपूर्ण पकवान लापसी  की पाक विधा के बारे में जानने का प्रयास किया | हमारे विद्यालय में MDM बंद होने के बावजूद हमने लापसी को कैसे तैयार किया हैं और कौन कौन से पदार्थ कितनी मात्रा में डाले जाते हैं यह बच्चो से पूछते हुए लापसी बनाई जिसमें कुछेक बच्चो के जबाब बड़े लाजबाब थे | लेकिन कक्षा 7 व 8 की बालिकाओ ने बड़े आत्मविश्वास के साथ सही सी जानकारी दी और बने हुए पकवान लापसी की थोड़ी थोड़ी मात्रा में स्वाद लिया और बच्चो को जानकारी दी कि जब भी घर में बने तो उसका ध्यान पूर्वक अवलोकन करें और सीखें |

 

दिनांक समूह गतिविधि
11 फरवरी  I

शीर्षक वृक्ष : 

विद्यार्थियों को शेर और चूहा की कहानी सुनाने का प्रयास किया गया हैं | कहानी का लिंक  जब बच्चे कहानी सुन लें और समझ लें तो इसके बाद कहानी को 5 पक्तियों में सारांशित करवाई गयी, इस प्रकार विद्यार्थियों को कहानी को शुरू से अंत तक समझने का मौका मिला| और अंत में इस कहानी का अलग विद्यार्थियों ने शीर्षक दिया हमने विद्यार्थियों द्वारा बताये गये शीर्षको ग्रीन बोर्ड पर एक वृक्ष के रूप में फ्लो चार्ट बनाते गए गये और बन गया एक शीर्षक वृक्ष | इस प्रकार प्राप्त शीर्षकों में एक उपयुक्त और सर्वश्रेष्ट शीर्षक प्राप्त हुआ  शेर और चूहा  | आज हमने विधार्थियों को पिछले दश दिनों में खाए गये विशेष पकवानों की लिस्ट बनाकर लाने को कहा | जिसे अगले दिन में हम कक्षा में एक्टिविटी करवायेंगे |

II

साहित्यिक कैलेंडर :

आज विद्यार्थियों को हमने स्वच्छता का पाठ पढ़ाने का निर्णय लिया | हमने पुस्तकालय में पड़ी स्वच्छता और सुरक्षा सम्बंधित पुस्तके पढने को दी | विधार्थियों को पढ़ी हुई पुस्तको में से स्वच्छता की जो बात सबसे अच्छी लगी उसे शेयर करने को कहा गया और हमे यह बात क्यों अच्छी लगी उसका पक्ष भी जाना | प्रत्येक विद्यार्थी द्वारा अच्छी लगी बात को नोट बुक के एक पेज पर रंगीन कलम से  लिखने को कही | इस प्रकार हमारे पास अच्छी बातो के कई पृष्ट एकत्र हुई जिन्हें समेकित करके एक दीवार कलेंडर बनाया गया | जो अन्य विद्यार्थियों के लिए कोतुहल का विषय बन गया |

III

गीत के बोल (Lyrics) परीक्षण :

आज हमने विद्यार्थियों में राष्ट्र भक्ति की भावना विकसित करने के उद्देश्य को भी साथ लेते हुए  हमारा राष्ट्र गीत वन्दे मातरम चुना | बारी से बारी हमने कई विद्यार्थियों को यह गीत गवाया | फिर इस गीत के बोल लिखने को कहा गया | सभी बच्चो ने 2 से 3 अन्तरो तक के बोल लिख पाए | फिर हमारे विद्यालय के वरिष्ट शिक्षक श्री …. ने यह गीत पूरा गाया | जब बच्चे पुरे गीत को सूना तो बड़े भाव विभोर हुए और भारत माता के जयकारे तक लगाने लगे |फिर हमने इस गीत के वास्तविक अर्थ समझाने और इसका विश्लेषण  करने को कहा साथ ही विद्यार्थियों ने इस गीत की भावनाएं और और इनके महत्व व सारांश को सभी के सामने प्रस्तुत किया हैं | इस गतिविधि में सभी विधार्थी सहज दिखे |

पाक-विधि (Recipe) परीक्षण :

आज की गतिविधि के द्वितीय पक्ष में हमने विद्यार्थियों को चाय कैसे बनाई जाए इस पर चर्चा की |चाय की पाक विधा लगभग हर एक बालिका को पहले से आ रही थी लेकिन कुछ लड़के इससे अनभिज्ञ थे | तो हमने विद्यार्थियों को समक्ष ही चाय बनाने का निश्चय किया और विद्यार्थियों को बताया कि कितने कप चाय में कितना पानी, कितना दूध और कितनी चाय के साथ शक्कर मिलाई जाती हैं | कुछ बच्चो ने चाय मशाला आदि डालने की बात भी सुझाई | और विद्यार्थियों को सलाह दी कि आप भी घर पर जब चाय बने तो उसकी पूरी प्रक्रिया को समझे और जाने |

 


अन्य कक्षाओ  की अध्ययन सामग्री के लिए यहाँ क्लिक करें ⇓  
JOIN OUR TELEGRAM                            JOIN OUR FACEBOOK PAGE


बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 


राजस्थान एजुकेशन न्यूज़ मोटीवेशल स्टोरीज / प्रेरक कहानियाँ
रोजगार के लेटेस्ट अलर्ट राजस्थान शिक्षा जगत अपडेट
1500 भर्तियों के मोक टेस्ट  नोट्स किताबें PDF फाइल्स 

 

Pin It on Pinterest