SESSIONAL MARKS CLASS 5 & 8 EXCEL SHEET SOFTWARE 2023 EXAMS BY HEERA LAL JAT

SESSIONAL MARKS CLASS 5 & 8 EXCEL SHEET SOFTWARE 2023 EXAMS BY HEERA LAL JAT

नमस्कार आदरणीय शिक्षक बंधुआ और संस्था प्रधान साथियों, यहाँ आपके लिए इस ब्लॉग पोस्ट में सत्र 2023 के लिए कक्षा 8 BOARD परीक्षा परिणाम तैयार करने के लिए श्री हिरा लाल जी द्वारा आपके लिए सत्रांक तैयार करने के एक्सल PROGRAM उपलब्ध करवाए हैं| SESSIONAL MARKS CLASS 5 & 8 EXCEL SHEET SOFTWARE-HEERA LAL JAT (कक्षा 5 & 8 के सत्रांक गणना के लिए एक्सेल फाइल) आपके लिए काफी सहायक सिद्ध होगा |

हमे आशा हैं यह आपको पसंद आयेगा और आप इन्हें अपने अन्य मित्रो तक अवश्य शेयर करेंगे |

जैसा कि आपने देखा कि सत्रांक तैयार करने में काफी समय लगता हैं और हम किसी COMPUTER ओपरेटर से यह काम करवाते हैं तो वो भी इन्ही एक्सल PROGRAM का उपयोग करके आपसे मोटी रकम लेते हैं ।

अत: हमे आशा हैं कि यह आपको पसंद आयेंगे और आप इन्हें अपने अन्य मित्रो तक अवश्य शेयर करेंगे- SESSIONAL MARKS CLASS 5 & 8 EXCEL SHEET SOFTWARE-HEERA LAL JAT

Prepared By:-HEERA LAL JAT
(SR Teacher, MGGS BAR)
EmailAddress:[email protected]
इस एक्सेल प्रोग्राम के संबंध में
EXCEL SHEET SOFTWARE HEERA LAL JAT

सत्र 2022-23 परीक्षा हेतु कक्षा 08 के सत्रांक निर्धारण संबंध में जानकारी

दिनांक 31-01-2023 को जारी आदेश का सारांश

  1. प्रारम्भिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण पत्र परीक्षा (कक्षा 8 ) 2023 में कुल 20 अंक सत्रांक के रूप में जायेंगे।
    जिसके अंतर्गत नियमित विद्यार्थियों के लिए विद्यालय द्वारा की गई प्रथम रख (10 अक),
  2. द्वितीय परख (10 अंक) व अर्द्धवार्षिक परीक्षा (70 अंक) तथा नो बैग डे के (10 अंक) कुल 100 अंकों के योग का 15 % तथा 5 अंक उपस्थिति के I इस प्रकार कुल 20% अंक होंगे।
  3. इसको तीन भागों में बाटा गया है , जो इस प्रकार है।
    (i) सत्रांक के लिए पहला प्रपत्र – 2 ‘अ’ होगा I यह प्रपत्र जिन्ह विद्यालयों में सीसीई संचालित है , उनके लिए 20 अंकों के सत्रांक का निर्धारण किया गया है ।
    (ii) सत्रांक के लिए पहला प्रपत्र – 2 ‘ब’ होगा । यह प्रपत्र उन तीन विषयों के लिये है,
  4. जिनके RKSMBK के तहत आंकलन हुआ है I उनके लिए 20 अंकों के सत्रांक का निर्धारण किया गया है।
    (iii) जिन विषयों में RKSMBK परीक्षा का आयोजन नहीं हुआ है उन विषयों के लिए प्रपत्र – 2 ‘स’ के द्वारा सत्रांक निर्धारण में प्रथम रख (10 अक)
  5. द्वितीय परख (10 अंक) व अर्द्धवार्षिक परीक्षा (70 अंक) तथा नो बैग डे के (10 अंक) कुल 100 अंकों के योग का 15 % तथा 5 अंक उपस्थिति के आधार पर गणना होगी ।
आज के मंडी भाव जानना चाहते हैं ? तो यहाँ क्लिक कीजिए https://agriculturepedia.in/
आज के मंडी भाव जानना चाहते हैं ? तो यहाँ क्लिक कीजिए

सभी प्रपत्रों में अंकों की गणना

  1. सभी प्रपत्रों में अंकों की गणना सभी प्रकार के आंकलन के कुल योग 100 का 15% होगा तथा 5 अंक उपस्थिति के, इस प्रकार कुल 20 अंक होगें।
    “उपस्थिति का निर्धारण इस प्रकार है :-
    65 से 75 प्रतिशत तक – 3 अंक
    75 से 85 प्रतिशत तक – 4 अंक
    85 से 100 प्रतिशत तक – 5 अंक “
    वैसे यह शीट उपरोक्त निर्देश अनुसार ही बड़ी सावधानी से बनाई गई हैI फिर भी त्रुटि के लिए निर्माणकर्ता ज़िमेदार नहीं होगा। अतः अंतिम रूप से तैयार होने पर अपने स्तर पर जरुर चेक कर लेवे ।

यहाँ नीचे एक्सेल शीट डाउनलोड करने का लिंक दिया जा रहा हैं

CLASS 8 SESSIONAL MARKS CALCULATION 2023 एक्सल PROGRAM डाउनलोड करने के लिए (सामान्य विद्यालयों हेतु – प्रपत्र -2 ब और 2 स)


CLASS 8 SESSIONAL MARKS CALCULATION 2023 एक्सल PROGRAM डाउनलोड करने के लिए (सीसीई संचालित विद्यालयों हेतु – प्रपत्र -2 आ)


हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए
हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

इस प्रोग्राम को सीखने के लिए आप यह वीडियो देख सकते हैं –

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

Students will be able to do two degrees simultaneously from the same university

​Students can pursue two degree programmes simultaneously either from same university or different universities

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा


 

यूजीसी चेयरमैन ने कहा कि यूजीसी ने फिजिकल यूनिवर्सिटी के विभिन्न पाठ्यक्रमों को लेकर छात्रों को उनकी अनोखी क्षमता की पहचान करने में मदद करने के लिए नए दिशा-निर्देश तैयार किए गए हैं. उन्होंने कहा कि यह सभी क्षेत्रों में बहु-विषयक और समग्र शिक्षा प्रदान करेगा|

यूजीसी के दिशा-निर्देश
एक छात्र फिजिकल मोड में 2 पूर्णकालिक शैक्षणिक कार्यक्रमों को आगे बढ़ा सकता है, यह देखते हुए कि एक कार्यक्रम की कक्षा का समय दूसरे कार्यक्रम के साथ ओवरलैप न हो. इसके साथ ही फिजिकल मोड में न केवल 2 कोर्स, छात्र फुल-टाइम फिजिकल मोड में 1 कोर्स ऑनलाइन या ओपन, डिस्टेंस लर्निंग मोड में कर सकते हैं.  इसके अलावा छात्र एक ऑनलाइन कार्यक्रम को दूसरे ऑनलाइन कार्यक्रम के साथ भी आगे बढ़ा सकते हैं. यूजीसी की वेबसाइट पर कल एक घोषणा के बाद दिशा-निर्देश लागू किए जाएंगे|

देश में छात्र अब बीटेक के साथ बीए भी कर सकेंगे। दोनों की कोर्स की डिग्री मान्य होगी। ग्रेजुशन के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन और डिप्लोमा कोर्स करते हुए यह सुविधा मिलेगी। यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन यानी UGC ने इसकी मंजूरी दे दी है। यूनिवर्सिटीज इसी सत्र यानी 2022-23 से यह नई व्यवस्था लागू कर सकेंगी। हालांकि इसके साथ कुछ शर्तें भी होंगी।

ऐसे में आइए जानते हैं कि इस दौरान छात्र कौन-सा सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन ले सकेंगे? यह आइडिया कितना प्रैक्टिकल होगा? क्या इसके लिए एडमिशन क्राइटेरिया और अटेंडेंस नियम में बदलाव करना होगा?

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

सबसे पहले जानते हैं की UGC की नई गाइडलाइंस क्या है और यह कब से लागू होगी?

  • UGC के चेयरपर्सन एम जगदीश कुमार कहा है कि हायर एजुकेशन लेवल पर अब दो डिग्री कोर्स एक साथ किए जा सकेंगे। यानी छात्र अब बीटेक के साथ ही बीए भी कर सकेंगे।
  • नए नियम से छात्र ग्रेजुएशन, डिप्लोमा और पोस्टग्रेजुशन लेवल पर दो कोर्स कर सकेंगे। दोनों डिग्री फिजिकल मोड या एक ऑफलाइन और दूसरी ऑनलाइन हो सकती है या दोनों ही ऑफलाइन हो सकती है।
  • जगदीश कुमार ने कहा कि नई गाइडलाइंस यूनिवर्सिटी के लिए ऑप्शनल होंगे। यानी यूनिवर्सिटी चाहे तो इसे माने या न माने। उन्होंने कहा कि इससे छात्रों को एक ही समय में अलग-अलग स्किल्स सीखने में मदद मिलेगी।
  • उच्च शिक्षा संस्थानों की वैधानिक निकाय और काउंसिल से भी इसकी मंजूरी की आवश्यकता होगी। तभी ये लागू किया जा सकेगा।
  • यूजीसी ने उम्मीद जताई है कि सभी यूनिवर्सिटी को ऐसा करने के लिए वो प्रोत्साहित करेंगे।
  • जगदीश कुमार ने बताया कि यूनिवर्सिटीज इसी सत्र यानी 2022-23 से यह नई व्यवस्था लागू कर सकेंगी। छात्र दोनों कोर्स एक ही यूनिवर्सिटी से भी कर सकेंगे। साथ ही अलग-अलग यूनिवर्सिटी से भी। इसके साथ ही छात्र एक कोर्स को देश की यूनिवर्सिटी और दूसरे कोर्स को विदेश की यूनिवर्सिटी से भी कर सकेंगे।

छात्र किस तरह का सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन ले सकेंगे?

  • जगदीश कुमार ने बताया कि सब्जेक्ट का कॉम्बिनेशन अलग-अलग यूनिवर्सिटी में एडमिशन के क्राइटेरिया पर निर्भर होगा। यानी यह यूनिवर्सिटी के स्तर पर होगा कि वो दो डिग्री के लिए किस तरह के सब्जेक्ट्स के विकल्प देते हैं।
  • उन्होंने इसे और क्लियर करते हुए कहा कि एक छात्र साइंस और ह्यूमैनिटीज में एक साथ डिग्री ले सकेंगे या एक ही स्ट्रीम में भी दो डिग्री ले सकेंगे।
  • इस उदाहरण से समझ सकते हैं। यदि किसी छात्र ने पहले बीटेक में दाखिला ले लिया और वह बीए भी करना चाहता है तो वह कर सकता है।
  • यदि किसी यूनिवर्सिटी में बीकॉम के ऑफलाइन कोर्स की शिफ्ट इवनिंग में है और बीए की शिफ्ट मार्निंग में तो छात्र दोनों कोर्स में दाखिला ले सकता है।

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्रों के पास किस तरह के विकल्प होंगे?

  • दो डिग्री कोर्स करने के लिए छात्र के पास 3 विकल्प हाेंगे।
  • पहला विकल्प होगा कि छात्र दोनों कोर्स फिजिकल मोड वाले ही करे। हालांकि इसमें यह देखना होगा कि दोनों डिग्री कोर्स की टाइमिंग एक न हो।
  • छात्रों के पास दूसरा विकल्प यह होगा कि वे एक कोर्स फिजिकल और दूसरा ओपेन और डिस्टेंस लर्निंग मोड में करें।
  • तीसरा विकल्प यह होगा कि दोनों कोर्स ऑनलाइन या दोनों कोर्स ओपेन और डिस्टेंस लर्निंग मोड वाले हो सकते है।
  • UGC के चेयरपर्सन एम जगदीश कुमार ने ऑफलाइन कोर्स में अटेंडेस के सवाल पर कहा कि ऐसे मामले में छात्र और कॉलेज यह देखेंगे कि एक कोर्स के क्लास का टाइम दूसरे कोर्स के टाइम से ओवरलैप नहीं हो यानी एक साथ नहीं हो।
  • नई गाइडलाइंस में स्पष्ट है कि दोनों कोर्स एक ही लेवल के हों। यानी या तो दोनों ग्रेजुएशन की डिग्री हों या दोनों पोस्ट ग्रेजुएशन की। एक पोस्ट ग्रेजुएशन और दूसरा ग्रेजुएशन की डिग्री ऐसा विकल्प इस गाइडलाइंस में नहीं है।
  • यह गाइडलाइंस एमफिल और पीएचडी के मामले में अप्लाई नहीं होगी।

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

क्या एडमिशन एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया और अटेंडेंस नियमों को बदला जाएगा?

  • जगदीश कुमार ने कहा कि अटेंडेंस के लिए यूनिवर्सिटी को गाइडलाइन जारी करने का अधिकार होगा। ये व्यवस्था यूनिवर्सिटी के लिए अनिवार्य नहीं है बल्कि ऑप्शनल है।
  • उन्होंने कहा कि यदि कोई छात्र किसी भी क्षेत्र में विशेष डिग्री लेना चाहता है। इसके लिए यूनिवर्सिटी के मिनिमम क्राइटेरिया में उस विषय में बेसिक नॉलेज का होना जरूरी है।
  • उन्होंने कहा कि यदि कोई छात्र किसी भी क्षेत्र में एक विशेष डिग्री हासिल करने की इच्छा रखता है, लेकिन न्यूनतम मानदंड के लिए उसे विषय का बुनियादी ज्ञान होना आवश्यक है, तो वह उस विशेष पाठ्यक्रम में नामांकन करने में सक्षम नहीं हो सकता है। हालांकि यह पूर्ण रूप से कॉलेज या यूनिवर्सिटी के नियमों पर निर्भर करेगा।
  • देखा जाए तो सभी यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में छात्रों को एग्जाम के लिए मिनिमम अटेंडेंस की जरूरत होती है। हालांकि यूनिवर्सिटी को इन कोर्स के लिए मिनिमम अटेंडेंस के नियमों को रिवाइज करना पड़ सकता है। इस जगदीश कुमार कहते हैं कि UGC अटेंडेंस को लेकर कोई नियम नहीं जारी करता है बल्कि ये यूनिवर्सिटी के अपने नियम होते हैं।

UGC का यह आइडिया कितना प्रैक्टिकल है?

  • जगदीश कुमार ने कहा कि यह गाइडलाइंस सरकार की नई एजुकेशन पॉलिसी यानी NEP का ही हिस्सा है। इसमें कहा गया था कि छात्र एक साथ चाहें तो अलग अलग डिसिप्लिन की पढ़ाई कर सकते हैं और एक साथ कई तरह के स्किल हासिल कर सकते हैं।
  • यह पूछने पर कि यह आइडिया कितना प्रैक्टिकल है। जगदीश कुमार कहते हैं कि यह पूरी तरह से छात्र की क्षमता पर निर्भर करता है।
  • उन्होंने यह स्वीकार किया कि एक छात्र के लिए ऑफलाइन मोड में दो डिग्री हासिल करना काफी मुश्किल होगा लेकिन यह असंभव नहीं है।
  • उन्होंने इसका उदाहरण देते हुए बताया कि यदि IIT दिल्ली में बीटेक करने वाली कोई छात्रा JNU की इवनिंग शिफ्ट में बीए फ्रेंच का कोर्स करना चाहती है तो वह बहुत आसानी से कर सकती है।
  • शाम को जेएनयू में बीए फ्रेंच की पढ़ाई करना चाहती है, तो वह बहुत अच्छी तरह से सड़क पर चलकर ऐसा कर सकती है।
  • उन्होंने कहा कि यदि दो में से किसी एक डिग्री को ऑनलाइन मोड में किया जाता है तो कोई कठिनाई नहीं होगी।

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

छात्रों को क्या फायदा होगा?

  • भारत में हायर एजुकेशन की डिमांड और सप्लाई में बहुत बड़ा गैप है। हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट आवेदन करने वाले छात्रों में से केवल 3% छात्रों को ही कैंपस में दाखिला दे पाते हैं।
  • कई यूनिवर्सिटी कई विषयों के ऑनलाइन कोर्स और ओपेन और डिस्टेंस लर्निंग कोर्स चला रहे हैं। अच्छे कोर्स होने के बावजूद उनमें सीटें खाली रह जा रही थीं। छात्र चाह कर भी एक साथ दो कोर्स में एडमिशन नहीं ले पा रहे थे।

क्या किसी ख़ास विषयों में ही ये संभव होगा?

यूजीसी के मुताबिक़ इसमें विषय चुनने की कोई बाध्यता नहीं है. दो डिग्री कोर्स ह्यूमैनिटीज़ के साथ-साथ साइंस विषय के भी हो सकते हैं.

ये दोनों फुल टाइम कोर्स हो सकते हैं. ये दो एक विश्वविद्यालय में भी हो सकते हैं या अलग अलग विश्वविद्यालयों में भी हो सकता है.

एडमिशन के नियम, छात्रों की योग्यता और टाइम टेबल चूंकि विश्वविद्यालय स्तर पर तय किए जाते हैं, इसलिए ये उन पर निर्भर होगा कि वो दो डिग्री के चुनाव में किस तरह के विषयों के विकल्प तैयार करते हैं.

मतलब ये कि छात्र चाहे तो गणित और इतिहास की डिग्री साथ साथ अर्जित कर सकते हैं.

एक विकल्प ये हो सकता है कि दोनों कोर्स फ़िज़िकल मोड वाले हो सकते हैं, बस ये देखना होगा कि ऐसे दोनों डिग्री कोर्स की क्लास टाइमिंग अलग अलग हो.

दूसरा विकल्प ये है कि एक कोर्स फ़िज़िकल और दूसरा ओपन और डिस्टेंस लर्निंग या ऑनलाइन कोर्स हो सकता है.

तीसरा विकल्प ये हो सकता है कि दोनों कोर्स ऑनलाइन या दोनों कोर्स ओपन और डिस्टेंस लर्निंग वाले हो सकते हैं.

इस फैसले में ये भी कहा गया है कि दोनों कोर्स एक ही लेवल के हों – यानी या तो दोनों ग्रेजुएशन की डिग्री हों या दोनों पोस्ट ग्रेजुएशन की.

एक पोस्ट ग्रेजुएशन और दूसरा ग्रेजुएशन की डिग्री – ऐसा प्रावधान इस फ़ैसले में नहीं किया गया है|

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

अचानक ऐसा फ़ैसला क्यों?

जुलाई 2020 में मोदी सरकार नई शिक्षा नीति लेकर आई थी. ये एक तरह का पॉलिसी डॉक्यूमेंट है, जिसमें सरकार ने स्कूली शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक के अपने विज़न की व्याख्या की थी.
इसी विज़न डाक्यूमेंट में सरकार ने प्रस्ताव रखा था कि छात्र एक साथ चाहें तो अलग अलग डिसिप्लिन की पढ़ाई कर सकते हैं और एक साथ कई तरह के स्किल हासिल कर सकते हैं.
मसलन मैथ्स की पढ़ाई करने वाला चाहे तो डेटा साइंस की पढ़ाई कर ले, जर्नलिज्म की पढ़ाई करने वाला लैंग्वेज कोर्स भी कर सके.
नई शिक्षा नीति के इसी प्रस्ताव को ध्यान में रख कर ये फ़ैसला लिया गया है.
दूसरी वजह ये है कि भारत में उच्च शिक्षा की डिमांड और सप्लाई में बहुत बड़ा गैप है. उच्च शिक्षा संस्थान आवेदन करने वाले छात्रों में से केवल 3 फ़ीसदी छात्रों को ही कैंपस में दाखिला दे पाते हैं.
कई विश्वविद्यालय कई विषयों के ऑनलाइन कोर्स और ओपन और डिस्टेंस लर्निंग कोर्स चला रहे हैं. अच्छे कोर्स होने के बावजूद उनमें सीटें खाली रह जा रही थीं. छात्र चाह कर भी एक साथ दो कोर्स में एडमिशन नहीं ले पा रहे थे.
सभी प्रावधानों को एक दूसरे के अनुकूल बनाने के लिए यूजीसी ने ये फ़ैसला लिया है|

इसकी शुरुआत कब से होगी?

अकादमिक सत्र 2022-2023 से इसकी शुरुआत प्रस्तावित है. यूजीसी अपनी वेबसाइट पर इसकी आधिकारिक गाइडलाइन्स जारी करेगी.
उच्च शिक्षा संस्थानों की वैधानिक निकाय और काउंसिल से भी इसकी मंजूरी की आवश्यकता होगी. तभी ये लागू किया जा सकेगा.
जिन संस्थानों के वैधानिक निकायों (यूनिवर्सिटी प्रशासन) ने इसे लागू करने का फैसला नहीं लिया होगा, उन्हें इसके लिए बाध्य नहीं किया जा सकता.
हालांकि, यूजीसी ने उम्मीद जताई है कि सभी विश्वविद्यालय को ऐसा करने के लिए वो प्रोत्साहित करेंगे.
ये फ़ैसला डिप्लोमा, ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम के लिए लागू होगा. पीएचडी और एमफिल डिग्री पर ये लागू नहीं होगा|

अगर फ़र्स्ट इयर में दो कोर्सों में ए़डमिशन ना लिया हो तो क्या दूसरे और तीसरे साल में एडमिशन मिल सकता है?

हां. ऐसा करने में कोई परेशानी नहीं है. नियमों के मुताबिक़ छात्र दो अलग अलग विश्वविद्यालयों से भी दो डिग्री कोर्स कर सकेंगे.
नई शिक्षा नीति में मल्टीपल एंट्री और एग्ज़िट सिस्टम की भी बात की गई है, इस वजह से एक कोर्स में एडमिशन पहले साल और दूसरे कोर्स में एडमिशन दूसरे साल लिया जा सकता है.
इस फ़ैसले में दोनों डिग्री कोर्स को साथ में शुरू करने और ख़त्म करने की बाध्यता नहीं है.

क्या टाइम टेबल इस बात को ध्यान में रखते हुए बनाया जाएगा कि एक बच्चा दो-दो कोर्सेज़ भी कर सकता है?

इसके लिए विश्वविद्यालय और कॉलेज स्तर पर कोशिश करने की ज़रूरत होगी.
जिन कोर्स की डिमांड ज्यादा हो या जो पॉपुलर कोर्स हों, उनके बारे में विश्वविद्यालय स्तर पर ऐसे फ़ैसले लिए जा सकते हैं|

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

क्या कोई निश्चित मात्रा में अटेंडेंस की बाध्यता दोनों कोर्स के लिए होगी?

इसके लिए यूनिवर्सिटी को गाइडलाइन जारी करने का अधिकार होगा. ये व्यवस्था विश्वविद्यालयों के लिए अनिवार्य नहीं है बल्कि वैकल्पिक है.

CUET से इसका कोई लेना देना है?

चूंकि इसमें ऑनलाइन और ओपन-डिस्टेंस लर्निंग की भी बात है और ये एक वैकल्पिक व्यवस्था है, इस वजह से कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (CUET) से सीधे सीधे इसका कोई लेना देना नहीं है.
लेकिन फिजिकल क्लास करके डिग्री लेने वाले कोर्स में जो भी संस्थान द्वारा एडमिशन के नियम तय किए गए हैं, उनका पालन छात्रों को करना होगा. अगर उन कोर्स में दाखिले के लिए CUET पास करना अनिवार्य होगा, तो एडमिशन के लिए वो पास करना अनिवार्य होगा.

क्या भारत के अलावा दुनिया के दूसरे देशों में ऐसी व्यवस्था है?

यूजीसी के चेयरमैन के मुताबिक़ दुनिया के किसी दूसरे देश में ऐसी व्यवस्था है या नहीं इसकी जानकारी उन्हें नहीं है.
उन्होंने कहा, “शायद भारत इस दिशा में पहल करने वाला पहला देश है, जो विश्व के लिए उदाहरण पेश कर सकता है.”

क्या डिग्री चुनते समय स्ट्रीम को मिलाया जा सकता है?

हां, छात्र सभी क्षेत्रों में कई कोर्स का ऑप्शन चुन सकते हैं. छात्र अपनी इच्छा और रुचि के आधार पर अपने डिग्री डोमेन का चयन कर सकते हैं. छात्रों के चयन के लिए विज्ञान,सामाजिक विज्ञान, आर्ट्स,मानविकी और कई विषय उपलब्ध होंगे.यूजीसी के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने कहा है कि दो डिग्री योजना केवल ग्रेजुएट, पीजी, डिप्लोमा जैसे कोर्स के लिए होंगे. एमफिल और पीएचडी कार्यक्रम इस योजना में शामिल नहीं होंगे|

क्या सभी विश्वविद्यालय इस योजना की पेशकश करेंगे?

नहीं, एक बार आधिकारिक दिशानिर्देश जारी होने के बाद,विश्वविद्यालयों को यह तय करने की छूट दी जाएगी कि वे दो-डिग्री योजना की पेशकश करना चाहते हैं या नहीं.एडमिशन के लिए पात्रता मानदंड और दो डिग्री चुनने की उपलब्धता भी संबंधित विश्वविद्यालयों द्वारा तय की जाएगी. यदि विश्वविद्यालय अपने कॉलेजों में टू-डिग्री योजना को लागू करते हैं तो उन्हें संस्थानों के वैधानिक निकायों के लिए अप्रुवल लेनी होगी. इस अप्रुवल के बिना, विश्वविद्यालयों को दो-डिग्री कार्यक्रम की पेशकश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी|

Published on 13-04-2022 

 

हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

 

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमें हमारे फेसबुक पेज पर कमेन्ट करके अवश्य बताये 👉 JOIN FACEBOOK  JOIN TELEGRAM

बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 

इस पोस्ट को आप अपने मित्रो, शिक्षको और   प्रतियोगियों व विद्यार्थियों (के लिए उपयोगी होने पर)  को जरूर शेयर कीजिए और अपने सोशल मिडिया पर अवश्य शेयर करके आप हमारा सकारात्मक सहयोग करेंगे

❤️🙏आपका हृदय से आभार 🙏❤️ड करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए[/su_button]

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

 

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET

उपार्जित अवकाश कार्यालय आदेश सेवा निवृत कर्मचारी हेतु  

यहाँ नीचे एक्सेल शीट डाउनलोड करने का लिंक दिया जा रहा हैं 👇👇👇

SESSIONAL MARKS CLASS 5 L EXCEL SHEET SOFTWARE डाउनलो

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

 

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमें हमारे फेसबुक पेज पर कमेन्ट करके अवश्य बताये 👉 JOIN FACEBOOK  JOIN TELEGRAM

बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 

इस पोस्ट को आप अपने मित्रो, शिक्षको और   प्रतियोगियों व विद्यार्थियों (के लिए उपयोगी होने पर)  को जरूर शेयर कीजिए और अपने सोशल मिडिया पर अवश्य शेयर करके आप हमारा सकारात्मक सहयोग करेंगे

❤️🙏आपका हृदय से आभार 🙏❤️ड करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE

उपार्जित अवकाश के बदले नकदीकरण हेतु शानदार ऑफिस ऑर्डर (da Rate 34%) तैयार किया है जिसमे आप मास्टर शीट में कार्यालय का नाम , कर्मचारी का नाम , समर्पित माह, बेसिक ऐड करते ही ऑटोमिक कार्यालय आदेश तैयार हो जाएगा । 

यहाँ नीचे एक्सेल शीट डाउनलोड करने का लिंक दिया जा रहा हैं 👇👇👇

(उपार्जित अवकाश नकदीकरण शीट) PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-ENCASHMENT ORDER AUTOMATIC UPDATE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

PL-OFFICE ORDER RETIREMENT EMPLOYEE EXCEL SHEET SOFTWARE-ABHISHEKH SHARMA

हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

 

 

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमें हमारे फेसबुक पेज पर कमेन्ट करके अवश्य बताये 👉 JOIN FACEBOOK  JOIN TELEGRAM

बैंक जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  रेलवे जॉब के लिए यहाँ क्लिक करें  राजस्थान सरकार के जॉब के  लिए यहाँ क्लिक करें  सेना भर्ती के  लिए यहाँ क्लिक करें 
नेवी भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  वायुसेना भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  RPSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  SSC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 
यूनिवर्सिटी रिजल्ट के लिए यहाँ क्लिक करें  शिक्षक भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  LDC भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें  पुलिस भर्ती के लिए यहाँ क्लिक करें 

इस पोस्ट को आप अपने मित्रो, शिक्षको और   प्रतियोगियों व विद्यार्थियों (के लिए उपयोगी होने पर)  को जरूर शेयर कीजिए और अपने सोशल मिडिया पर अवश्य शेयर करके आप हमारा सकारात्मक सहयोग करेंगे

❤️🙏आपका हृदय से आभार 🙏❤️

छात्र एक ही यूनिवर्सिटी से दो डिग्री एक साथ कर सकेंगे ! जानिए छात्रों को क्या होगा फायदा

MID DAY MEAL EXCEL SHEET SOFTWARE-HEERA LAL JAT

MID DAY MEAL EXCEL SHEET SOFTWARE-HEERA LAL JAT

 Sr. Teacher Mahatma Gandhi Govt. School, Bar, PALI
Mob. 9001884272
[email protected]
चन्डावल नगर, तह. – सोजत, जिला – पाली

EXCEL SHEET SOFTWARE HEERA LAL JAT

MID DAY MEAL EXCEL SHEET SOFTWARE की विशेषताएं –

➡️ पोषाहार की सूचना तैयार करने से लेकर रिकॉर्ड संधारण तक सारी समस्याओं का समाधान
➡️ बेलेंस शीट से लेकर स्टाक रजिस्टर संधारण व बिल जनरेशन तक का साॅल्यूशन
➡️ चंद पलों में मंथली डाक रिपोर्ट को प्रिंट करके भेजें तथा आपके कार्यालय का रिकॉर्ड संधारण भी रखें आपकी मुठ्ठी में
➡️ रौजाना का बैलेंस व स्टाक चैक करें और वह भी केवल अटेंडेंस डायरी की चंद एंट्री से

MID DAY MEAL EXCEL SHEET SOFTWARE-HEERA LAL JAT

  1. सर्व प्रथम आप मास्टर शीट पर जो सफ़ेद कलर की जो सेल है , उसमे आवश्यकतानुसार डाटा एं

    MID DAY MEAL EXCEL WORKBOOK

    MID DAY MEAL EXCEL WORKBOOK

    ट्री फिल करे। सामान्य जानकारी के साथ नामांकन व अन्य भौतिक प्रगति रिपोर्ट और कुक कम हेल्पर की डिटेल फिल करे। कन्वर्जन राशि भी फिल करें।

  2. दूसरी नंबर पर जो शीट है प्रारंभिक शेष – इसमे आप पिछले माह का अंतिम शेष बचा हुआ है , वह चालू माह का प्रारंभिक शेष है उसकी एंट्री अनलॉक सेल में करें।
  3. तीसरे नंबर पर शीट attendence Diary है, इसके अन्तरगत बाकि सब ऑटो जनरेट है केवल नामांकित व लाभान्वित विद्यार्थियों की सूचना भरनी है, दिनांक और वार सब स्वतः आ जायेंगे।
  4. बाद में प्राथमिक कक्षा और उच्च प्राथमिक कक्षा की अलग अलग बैलेंस शीट है। इस शीट में सभी एंट्रिया स्वतः आयेगी। केवल जी पोषाहार सप्लायर व अन्यत्र से प्राप्त खाद्यान्न की जानकारी जरुरत होने पर फिल करानी है।
  5. बाकि शेष शीट्स केवल रिपोर्ट्स है, जो स्वतः तैयार होगी, उक्त डाक आगे ऑफिस में भेजने व कार्यालय में संधारण करने में काम आयेगी।
  6. अंत में स्टॉक रजिस्टर व बिल जनरेट शीट भी स्वतः जनरेट हो जायेगी। आप अपने स्टॉक और bill का मिलान करके कैशबुक की एंट्री आसानी से कर पाएंगे तथा अपना पोषाहार का रिकॉर्ड अच्छे से मेन्टेन कर सकते है।

यहाँ नीचे एक्सेल शीट डाउनलोड करने का लिंक दिया जा रहा हैं 👇👇👇

हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

हमारा व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

Pin It on Pinterest